Search
Generic filters

Amalbedha | बेडबेड के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

बेडबेड

अमलबेधा या अमलवेतासा एक सदाबहार पेड़ है जो म्यांमार और पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों का मूल निवासी है।
परंपरागत रूप से, अमलबेधा का उपयोग इसके पाचन गुणों के कारण पाचन में सुधार के लिए किया जाता है। अमलबेधा अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण रक्त कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करके वजन घटाने में मदद करता है। अमलबेधा के लाभ प्राप्त करने के लिए सूखे अमलबेधा फल को आहार में शामिल किया जा सकता है।
अमलबेधा अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण रक्त शर्करा के स्तर को कम करके मधुमेह के प्रबंधन में भी मदद करता है। अमलबेधा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट लीवर की क्षति को भी रोकता है और हेपेटोप्रोटेक्टिव गुण दिखाता है [२-४]।

अमलबेधा के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

गार्सिनिया पेडुनकुलता, बोरथेकेरा, तिकुल, टिकुर, थाइकल, चारिगेहुली, पुलिवंची, पुलाप्रबबली, वृंतमलाफला।

अमलबेधा का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

अमलबेधा के लाभ

1. अपच का
अर्थ है अंतर्ग्रहण भोजन पर पाचन की अपूर्ण प्रक्रिया की स्थिति। अपच का मुख्य कारण अग्निमांड्य (कमजोर पाचक अग्नि) है। अमलबेधा अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण अपच को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह अग्नि (पाचन अग्नि) को बढ़ाता है और पाचन में सुधार करता है।

2. अस्थमा अस्थमा
में शामिल मुख्य दोष वात और कफ हैं। दूषित ‘वात’ फेफड़ों में विक्षिप्त ‘कफ दोष’ के साथ जुड़ जाता है जिससे श्वसन मार्ग बाधित हो जाता है। इससे सांस लेने में दिक्कत होती है और छाती से घरघराहट की आवाज आती है। इस स्थिति को स्वस रोग (अस्थमा) के रूप में जाना जाता है। अमलबेधा अपने कफ-वात संतुलन गुणों के कारण अस्थमा को प्रबंधित करने में मदद करता है। ये गुण श्वसन पथ में रुकावट को दूर करने में भी मदद करते हैं, जिससे सांस लेना आसान हो जाता है।

3. पाइल्स
पाइल्स को आयुर्वेद में अर्श के नाम से जाना जाता है जो एक अस्वास्थ्यकर आहार और एक गतिहीन जीवन शैली के कारण होता है। इससे तीनों दोषों और मुख्य रूप से वात दोष का ह्रास होता है। बढ़े हुए वात के कारण पाचक अग्नि कम हो जाती है, जिससे लगातार कब्ज बना रहता है। यह मलाशय क्षेत्र में नसों में सूजन का कारण बनता है जो ढेर द्रव्यमान का कारण बनता है। अमलबेधा अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण बवासीर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह स्वस्थ पाचन को बनाए रखकर कब्ज को रोकता है और बवासीर को भी रोकता है।

अमलबेधा का उपयोग कैसे करें

1. अमलबेधा चूर्ण
a. अमलबेधा के कुछ सूखे मेवे लें।
बी इन्हें पीसकर पाउडर बना लें।
सी। अपच जैसी पाचन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए नियमित रूप से (चिकित्सक के निर्देशानुसार) इसका सेवन करें।

2. अमलबेधा जूस
a. कुछ परिपक्व अमलबेधा फल लें और उसका गूदा अलग कर लें।
बी इसे जूसर में डालें और हेल्दी जूस बना लें।
सी। अस्थमा के लक्षणों से छुटकारा पाने के लिए इस रस का 5-10 मिलीलीटर (या चिकित्सक के निर्देशानुसार) सेवन करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या हम अमलबेधा फल खा सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, अमलबेधा फल को कच्चा या पका कर खाया जा सकता है। आम तौर पर, फलों को कटा हुआ, धूप में सुखाया जाता है और व्यंजनों में इस्तेमाल करने के लिए संरक्षित किया जाता है। कुछ खट्टापन जोड़ने के लिए इसे करी में भी मिलाया जा सकता है।

Q. क्या अमलबेधा बाजार में उपलब्ध है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलबेधा बाजार में सूखे अमलबेधा फल या अमलबेधा हर्बल चाय जैसे विभिन्न रूपों में उपलब्ध है। इसे ऑनलाइन या बाजार से खरीदा जा सकता है।

Q. क्या अमलबेधा मधुमेह के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलबेधा मधुमेह में मदद कर सकता है क्योंकि यह मधुमेह विरोधी गुणों के कारण इंसुलिन जैसी क्रिया का प्रदर्शन करके रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। यह ऑक्सीडेटिव तनाव को भी कम करता है और इसके एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण अग्नाशय की कोशिकाओं को होने वाले नुकसान से बचाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

मधुमेह, जिसे मधुमेह भी कहा जाता है, वात-कफ दोष के असंतुलन और खराब पाचन के कारण होता है। बिगड़ा हुआ पाचन अग्न्याशय की कोशिकाओं में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) का संचय करता है और इंसुलिन के कार्य को बाधित करता है। अमलबेधा अपने वात-कफ संतुलन के कारण मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद करता है। इसमें दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुण भी होते हैं जो अच्छे पाचन को बनाए रखते हैं और अमा के संचय को रोकते हैं, जिससे राहत मिलती है।

Q. क्या अमाबेधा वजन घटाने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलबेड़ा फल वजन घटाने में मदद कर सकता है क्योंकि यह शरीर में वसा के जमाव को कम करता है। यह रक्त कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को भी कम करता है जो इसके एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण शरीर के वजन को प्रबंधित करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेदिक दृष्टिकोण से वजन बढ़ने का कारण अनुचित आहार और जीवन शैली है जो पाचन अग्नि को कमजोर करती है, जिससे अमा का संचय बढ़ता है, और मेदा धातु में असंतुलन होता है और परिणामस्वरूप मोटापा होता है। अमलबेड़ा अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला)-पाचन (पाचन) गुणों के कारण वजन कम करने में मदद करता है। यह पाचन में सुधार करने में मदद करता है, अमा के गठन और संचय को रोकता है। यह मूत्र के उत्पादन को बढ़ाकर मूत्र के माध्यम से शरीर से विषाक्त पदार्थों को भी बाहर निकालता है।

Q. क्या अमलबेधा लीवर के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलबेधा लीवर के लिए अच्छा हो सकता है क्योंकि इसमें हेपेटोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं। इसमें एंटीऑक्सिडेंट (फ्लेवोनोइड्स) होते हैं जो लीवर की कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। यह कुछ एंजाइमों (एसजीपीटी, एसजीओटी) के स्तर को भी कम करता है जो लीवर की चोट के मामले में बढ़ जाते हैं।

Q. क्या अमलबेधा का इस्तेमाल इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज में किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, सूजन आंत्र रोग में अमलबेधा फायदेमंद हो सकता है। यह अपने एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण बृहदान्त्र के ऊतकों में ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन को कम करता है।

Q. क्या अमलबेधा किडनी के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलबेधा गुर्दे के लिए अच्छा हो सकता है क्योंकि इसमें कुछ घटक (गार्सिनोल) होते हैं जो गुर्दे में क्रिस्टल के जमाव को रोकते हैं। यह गुर्दे की कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से भी बचाता है और एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण सूजन को कम करता है।

Q. क्या अमलबेधा में न्यूरोप्रोटेक्टिव गुण हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलबेधा फल में न्यूरोप्रोटेक्टिव गतिविधि होती है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करते हैं और तंत्रिका कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.