Search
Generic filters

Amaltas | amaltas के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

amaltas

अमलतास को आयुर्वेद में राजवृक्ष के रूप में भी जाना जाता है, जिसमें चमकीले पीले फूल होते हैं। इसे भारत के सबसे खूबसूरत पेड़ों में से एक माना जाता है।
अमलतास चूर्ण को दोपहर और रात के खाने के बाद गर्म पानी के साथ लेना रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में फायदेमंद हो सकता है क्योंकि यह अपने एंटीऑक्सीडेंट और विरोधी भड़काऊ गतिविधि के कारण इंसुलिन स्राव को बढ़ाता है। यह वजन प्रबंधन में भी मदद करता है क्योंकि यह शरीर के चयापचय में सुधार करता है। अमलतास अपनी मूत्रवर्धक गतिविधि के कारण मूत्र उत्पादन को बढ़ाकर मूत्र विकारों को प्रबंधित करने और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में भी मदद कर सकता है। इसकी ज्वरनाशक (बुखार को कम करने वाली) और कफरोधी (खांसी से राहत देने वाली) गतिविधि के कारण यह बुखार और खांसी के लिए भी उपयोगी है। अमलतास के फलों के गूदे के पेस्ट को गर्म पानी के साथ लेने से इसके रेचक गुण के कारण कब्ज को दूर करने में मदद मिलती है।
अमलतास के पत्तों के पेस्ट को शहद या गाय के दूध के साथ लगाने से दर्द और सूजन से राहत मिलती है। आप घाव भरने को बढ़ावा देने और इसके जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुणों के कारण त्वचा के संक्रमण का प्रबंधन करने के लिए अमलतास की पत्ती का पेस्ट भी लगा सकते हैं।
आयुर्वेद के अनुसार, अमलतास के अत्यधिक सेवन से इसकी सीता (ठंडी) गतिविधि के कारण खांसी और सर्दी जैसी स्थिति हो सकती है [1-3]।

अमलतास के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

Cassia fistula, Cassia, Indian Laburnum, Sondal, Bahva, Garmalo, Aragvadha, Chaturangula, Rajvraksha

अमलतास का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

अमलतास के लाभ

1. कब्ज
वात और पित्त दोष के बढ़ने के कारण कब्ज होता है। यह जंक फूड का बार-बार सेवन, कॉफी या चाय का अधिक सेवन, देर रात सोना, तनाव और अवसाद के कारण हो सकता है। ये सभी कारक वात और पित्त को बढ़ाते हैं जिससे कब्ज होता है। अमलतास, अगर नियमित रूप से लिया जाए तो यह अपने श्रमासन (सरल रेचक) प्रकृति के कारण कब्ज को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह बड़ी आंत से अपशिष्ट उत्पादों को आसानी से बाहर निकालने में मदद करता है।
सुझाव:
ए. 1-2 चम्मच अमलतास फलों के गूदे का पेस्ट लें।
बी इसे 1 गिलास गर्म पानी में मिलाकर रात के खाने के बाद खाने से कब्ज से राहत मिलती है।

2. पाइल्स
पाइल्स को आयुर्वेद में अर्श के नाम से जाना जाता है जो एक अस्वास्थ्यकर आहार और एक गतिहीन जीवन शैली के कारण होता है। इससे तीनों दोषों, मुख्यतः वात का ह्रास होता है। बढ़ा हुआ वात कम पाचन अग्नि का कारण बनता है, जिससे कब्ज होता है। यह मलाशय क्षेत्र में नसों में सूजन का कारण बनता है जिससे ढेर द्रव्यमान होता है। अमलतास अपने श्रमसन (साधारण रेचक) गुण के कारण कब्ज को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह ढेर द्रव्यमान के आकार को भी कम करता है।
सुझाव:
ए. 1-2 चम्मच अमलतास फलों का गूदा लें।
बी इसे गर्म पानी में डालें और रात को खाना खाने के बाद इसका सेवन करें।

3. अति अति
अम्लता अम्लता का अर्थ है पेट में अम्ल का बढ़ा हुआ स्तर। एक उत्तेजित पित्त पाचन अग्नि को खराब करता है, जिससे भोजन का अनुचित पाचन होता है और अमा का उत्पादन होता है। यह अमा पाचन तंत्र में जमा हो जाता है और अति अम्लता का कारण बनता है। अमलतास हाइपरएसिडिटी को कम करने में मदद करता है। यह पाचन तंत्र से संचित अमा को हटाने में मदद करता है और अति अम्लता को प्रबंधित करने में मदद करता है।
सुझाव:
ए. 1 चम्मच अमलतास फलों का गूदा लें।
बी 1/2 छोटा चम्मच मिश्री डालें।
सी। हाइपरएसिडिटी को नियंत्रित करने के लिए इसे लंच और डिनर से पहले पानी के साथ लें।

4. संधिशोथ संधिशोथ
(आरए) आयुर्वेद में आमावता के रूप में जाना जाता है। अमावता एक ऐसा रोग है जिसमें वात दोष का दोष और अमा का संचय जोड़ (जोड़ों) में होता है। अमवात कमजोर पाचन अग्नि से शुरू होता है जिससे अमा का संचय होता है (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष)। इस अमा को वात के माध्यम से विभिन्न स्थानों पर ले जाया जाता है, लेकिन अवशोषित होने के बजाय, यह जोड़ों में जमा हो जाता है और संधिशोथ को जन्म देता है। अमलतास का नियमित सेवन इसके दीपन और पचन गुणों के कारण अमा को कम करने में मदद करता है और संधिशोथ के लक्षणों को नियंत्रित करता है।
सुझाव:
ए अमलतास कड़ा
मैं। अमलतास के फलों के गूदे का 1-2 चम्मच पेस्ट लें।
ii. इसे 2 कप पानी में तब तक उबालें जब तक कि इसकी मात्रा ½ कप न हो जाए। यह है अमलतास कड़ा।
iii. इस कढ़े की 4-5 छोटी चम्मच लें और उतनी ही मात्रा में पानी डालें।
iv. संधिशोथ (आमवता) के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए इसे दोपहर और रात के खाने के बाद लें।

अमलतास उपयोग करते हुए सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

यदि आप दस्त या दस्त से पीड़ित हैं तो अमलतास से बचें।

स्तनपान

आयुर्वेदिक नजरिये से

स्तनपान के दौरान अमलतास से बचें।

गर्भावस्था

आयुर्वेदिक नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान अमलतास से बचें।

अमलतास की अनुशंसित खुराक

  • अमलतास पेस्ट – 1-2 चम्मच दिन में एक बार।
  • अमलतास कैप्सूल – 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।
  • अमलतास पाउडर – -½ छोटा चम्मच दिन में दो बार।

अमलतास का उपयोग कैसे करें

1. अमलतास फ्रूट पल्प पेस्ट
a. 1-2 चम्मच अमलतास फ्रूट पल्प पेस्ट लें।
बी इसे 1 गिलास गर्म पानी में मिलाकर रात के खाने के बाद कब्ज को दूर करने के लिए इसका सेवन करें।

2. अमलतास चूर्ण
a. -½ छोटा चम्मच अमलतास चूर्ण (1-2 ग्राम) दोपहर के भोजन और रात के खाने के बाद गर्म पानी के साथ लें।
बी एक अच्छा पाचन तंत्र बनाए रखने के लिए इसे रोजाना दोहराएं।

3. अमलतास कैप्सूल
दोपहर और रात के खाने के बाद गर्म पानी के साथ 1-2 अमलतास कैप्सूल लें।

4. अमलतास कड़ा
ए. अमलतास के फलों के गूदे का 1-2 चम्मच पेस्ट लें।
बी इसे 2 कप पानी में तब तक उबालें जब तक कि इसकी मात्रा ½ कप न हो जाए। यह है
अमलतास कड़ा।
सी। इस कढ़े की 4-5 छोटी चम्मच लें और उतनी ही मात्रा में पानी डालें।
डी संधिशोथ (आमवता) के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए दोपहर और रात के खाने के बाद इसे पिएं।

अमलतास के लाभ

1. त्वचा एलर्जी
पेस्ट या अमलतास के पत्तों का रस इसके मधुर (मीठा) और रोपन (उपचार) गुणों के कारण त्वचा की विभिन्न समस्याओं में खुजली और जलन को कम करने के लिए अच्छा है। इन गुणों के परिणामस्वरूप, अमलतास एक सुखदायक प्रभाव देता है और नियमित रूप से उपयोग करने पर त्वचा में जलन को कम करता है।
सुझाव:
ए. अमलतास के पत्तों का पेस्ट बना लें।
बी नारियल तेल या बकरी के दूध के साथ मिलाएं।
सी। त्वचा की एलर्जी या जलन से छुटकारा पाने के लिए दिन में एक या सप्ताह में तीन बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

2. पेट में दर्द
अमलतास के फलों के गूदे का लेप बाहर से नाभि क्षेत्र में लगाने से पेट फूलने के कारण होने वाले दर्द से राहत मिलती है, खासकर बच्चों में।
सुझाव:
ए. 1/2-1 चम्मच अमलतास फलों का पेस्ट लें।
बी तिल के तेल के साथ मिलाएं।
सी। पेट दर्द से छुटकारा पाने के लिए नाभि क्षेत्र पर लगाएं।

3. घाव
भरना अमलतास के पत्तों का लेप रोपन (हीलिंग) गुण के कारण घाव को जल्दी भरने में मदद करता है।
सुझाव:
ए. अमलतास के पत्तों का ½-1 चम्मच पेस्ट लें।
बी शहद में मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाएं।
सी। इसे 4-6 घंटे के लिए छोड़ दें और सादे पानी से धो लें।
डी घाव जल्दी भरने के लिए रोजाना दोहराएं।

अमलतास उपयोग करते हुए सावधानियां

एलर्जी

आयुर्वेदिक नजरिये से

अगर आपकी त्वचा हाइपरसेंसिटिव है तो अमलतास की पत्तियों, छाल और फलों के गूदे को शहद, तेल या किसी मॉइस्चराइजिंग क्रीम के साथ इस्तेमाल करें।

अमलतास की अनुशंसित खुराक

  • अमलतास पाउडर – ½-1 चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • अमलतास पेस्ट – ½- 1 चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।

अमलतास का उपयोग कैसे करें

1. पेस्ट
अमलतास A. पत्तियों का
i. मुट्ठी भर अमलतास के पत्ते या अपनी आवश्यकता के अनुसार लें।
ii. पत्तों का पेस्ट बना लें।
iii. अमलतास के पत्तों का पेस्ट ½-1 चम्मच लें।
iv. शहद में मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाएं।
v. इसे 4-6 घंटे के लिए छोड़ दें और सादे पानी से धो लें।
vi. घाव जल्दी भरने के लिए इसे अगले दिन फिर से दोहराएं।

B. फलों के गूदे का पेस्ट
i. 1/2-1 चम्मच अमलतास फलों के गूदे का पेस्ट लें।
ii. तिल के तेल में मिलाकर नाभि क्षेत्र पर लगाने से पेट दर्द से छुटकारा मिलता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. अमलतास खाने योग्य है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हां, विभिन्न गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों के प्रबंधन को कम करने के लिए अमलतास आयुर्वेदिक दवाओं में व्यापक रूप से उपयोग कर रहा है।

Q. मुझे अमलतास पाउडर कहां मिल सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अमलतास पाउडर विभिन्न ब्रांडों के तहत बाजार में आसानी से उपलब्ध है। इसे ऑनलाइन वेबसाइट या किसी आयुर्वेदिक स्टोर से खरीदा जा सकता है।

Q. क्या अमलतास कब्ज को ठीक करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलतास कब्ज के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है, खासकर बच्चों में, इसकी रेचक संपत्ति के कारण। यह मल के आसान निष्कासन में मदद करता है और प्रक्रिया के दौरान दर्द को कम करता है।

Q. क्या अमलतास बवासीर के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, पारंपरिक चिकित्सा में अमलतास का उपयोग बवासीर के प्रबंधन के लिए किया गया है।

प्र. क्या अमलतास के पत्तों को बुखार में इस्तेमाल किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हाँ, अमलतास के पत्तों का उपयोग बुखार में इसके ज्वरनाशक गुणों के कारण किया जाता है। यह शरीर के तापमान को कम करता है और इसकी एनाल्जेसिक गतिविधि के कारण बुखार से जुड़े शरीर के दर्द को कम करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अमलतास की पत्तियां बुखार के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती हैं क्योंकि आयुर्वेद के अनुसार कभी-कभी अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) और बढ़े हुए पित्त भी बुखार के लिए जिम्मेदार होते हैं। अमलतास में अमा को कम करने और पित्त को संतुलित करने का गुण होता है। यह बुखार के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

Q. क्या अमलतास हृदय संबंधी समस्याओं के लिए फायदेमंद है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, अमलतास अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण दिल के लिए फायदेमंद होता है। अमलतास में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं और कार्डियक सेल डैमेज को रोकते हैं। यह हृदय की रक्षा करने और हृदय रोगों के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, अमलतास हृदय संबंधी समस्याओं के लिए फायदेमंद है। यह हृदय की मांसपेशियों की रक्षा करता है और अपने हृदय (हृदय सुरक्षात्मक) गुण के कारण हृदय के स्वस्थ कार्य को बनाए रखता है।

Q. क्या अमलतास मधुमेह के लिए फायदेमंद है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अमलतास मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। यह इसके एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण है। यह अग्नाशय की कोशिकाओं के नुकसान को रोकता है और इंसुलिन स्राव को बढ़ाता है। यह शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अमलतास लेने से अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) को कम करने में मदद मिलती है जो रक्त में उच्च शर्करा के स्तर का प्रमुख कारण है। यह अमलतास को मधुमेह के लिए लाभकारी बनाता है।
टिप
1. -½ छोटा चम्मच अमलतास चूर्ण लें।
2. लंच और डिनर के बाद गर्म पानी के साथ लें।
3. सामान्य रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने के लिए रोजाना दोहराएं।

Q. अमलतास पुरानी खांसी में कैसे मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अमलतास अपनी एंटीट्यूसिव गतिविधि के कारण पुरानी खांसी में मदद करता है। यह कफ सप्रेसेंट के रूप में कार्य करता है और खांसी को कम करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अमलतास सीता (ठंडी) प्रकृति के बावजूद पुरानी खांसी से लड़ने का एक प्रभावी तरीका है। अमलतास फेफड़ों से अत्यधिक थूक को बाहर निकालने में मदद करता है और कफ को संतुलित करने वाले गुण के कारण खांसी से राहत देता है।
टिप
1. -½ छोटा चम्मच अमलतास चूर्ण लें।
2. दोपहर के भोजन और रात के खाने के बाद गर्म पानी या शहद के साथ लेने से खांसी से छुटकारा मिलता है।

Q. क्या अमलतास मूत्र संबंधी समस्याओं से राहत देता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलतास अपनी मूत्रवर्धक गतिविधि के कारण मूत्र संबंधी समस्याओं को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह मूत्र के उत्पादन को बढ़ाता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है। यह किसी भी मूत्र पथ विकार के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

Q. अमलतास प्रतिरक्षा को कैसे बढ़ाता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अमलतास अपनी इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधियों के कारण प्रतिरक्षा को बढ़ाता है। यह तिल्ली में आरबीसी कोशिकाओं के उत्पादन को नियंत्रित करके प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करता है और प्रतिरक्षा के निर्माण के लिए जिम्मेदार कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि करता है।

Q. क्या अमलतास वजन घटाने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अमलतास शरीर के चयापचय में सुधार करके वजन घटाने में मदद करता है।

Q. अमलतास फल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अमलतास फल के गूदे के विभिन्न लाभ हैं क्योंकि यह एक हल्के रेचक के रूप में कार्य करता है। यह हृदय को सुरक्षा भी प्रदान करता है और एसिड रिफ्लक्स जैसी पेट की समस्याओं का प्रबंधन करता है।

Q. क्या अमलतास घाव भरने के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, अमलतास घाव भरने में उपयोगी हो सकता है। यह संक्रमित त्वचा के घावों के प्रबंधन के लिए अच्छा है। मरहम के रूप में लागू अमलतास घाव के आकार को कम कर सकता है, घाव को बंद कर सकता है और घाव के क्षेत्र में ऊतक को पुन: उत्पन्न कर सकता है। अमलतास में जीवाणुरोधी गुण भी होते हैं, जिसके कारण यह घाव को संक्रमित होने से बचाता है।

Q. अमलतास सूजन में कैसे मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अमलतास अपने विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण सूजन में मदद करता है। यह प्रभावित क्षेत्र में दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है। अमलतास में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं और सूजन संबंधी बीमारियों से बचाते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अमलतास अपने सीता (ठंडा) गुण के कारण सूजन को कम करने के लिए एक प्रभावी उपाय है। यह सूजन को कम करने में मदद करता है और दर्द और जलन से राहत देता है।
टिप
1. अमलतास के पत्तों का पेस्ट बना लें।
2. नारियल के तेल या बकरी के दूध के साथ मिलाएं।
3. सूजन को कम करने के लिए दिन में एक बार और सप्ताह में तीन बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

Q. अमलतास के त्वचा के लिए क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अमलतास अपने कसैले गुणों के कारण त्वचा पर प्रयोग किया जाता है। यह कोशिकाओं के संकुचन का कारण बनता है, जो छिद्रों को कसने में मदद करता है। यह त्वचा से अतिरिक्त तेल को भी हटा देता है। साथ में, यह मुंहासों और फुंसियों को रोकने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अमलतास अपने सीता (ठंड) और रोपन (उपचार) गुणों के कारण सूजन को कम करने और उपचार प्रक्रिया को तेज करने में मदद करता है। अमलतास के फूल भी अपने कषाय (कसैले) गुण के कारण रक्तस्राव को नियंत्रित करने के लिए एक अच्छा उपाय हैं।
टिप
1. अमलतास के पत्तों का पेस्ट बना लें।
2. गुलाब जल या सादे पानी में मिलाएं।
3. प्रभावित क्षेत्र पर दिन में एक बार और सप्ताह में तीन बार लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.