Search
Generic filters

Ashwagandha | अश्वगंधा के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

अश्वगंधा

अश्वगंधा शब्द संस्कृत के शब्द अश्व (घोड़ा) और गंध (गंध) से बना है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसकी जड़ों से घोड़े के पसीने जैसी गंध आती है।
अश्वगंधा अपने रसायन (कायाकल्प) और वात संतुलन गुणों के कारण तनाव, चिंता और मधुमेह के प्रबंधन में मदद करता है। अश्वगंधा की जड़ का चूर्ण जब दूध के साथ लिया जाता है, तो यह पुरुष बांझपन के साथ-साथ स्तंभन दोष के प्रबंधन में मदद करता है। यह इसके कामोत्तेजक गुण के कारण है।
अश्वगंधा के साथ एक महत्वपूर्ण सावधानी यह है कि गर्भावस्था के दौरान इससे बचना चाहिए क्योंकि इससे गर्भाशय के संकुचन बढ़ सकते हैं।

अश्वगंधा के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

विथानिया सोम्निफेरा, भारतीय जिनसेंग, अजगंधा, वजीगंधा, विंटर चेरी, वराहकर्णी, असगंधा

अश्वगंधा का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

अश्वगंधा के फायदे

तनाव के लिए अश्वगंधा के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा तनाव से निपटने की व्यक्ति की क्षमता में सुधार कर सकता है।
तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (एसीटीएच) के स्राव को बढ़ाता है जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर (तनाव हार्मोन) को बढ़ाता है। अश्वगंधा पाउडर कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और तनाव संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तनाव आमतौर पर वात दोष के असंतुलन के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, और अक्सर चिड़चिड़ापन, अनिद्रा और भय के साथ प्रस्तुत करता है। अश्वगंधा का चूर्ण लेने से वात को संतुलित करने में मदद मिलती है और इस तरह तनाव के लक्षण कम होते हैं।
टिप:
1. अश्वगंधा की जड़ का पाउडर 1 / 4-1 / 2 चम्मच लें और इसे 2 कप पानी में उबालें।
2. एक चुटकी अदरक डालें। आधा होने तक उबालें।
3. मिश्रण को ठंडा करें और इसका स्वाद बढ़ाने के लिए इसमें शहद मिलाएं।
4. अपने दिमाग को आराम देने के लिए इस चाय को पियें।

चिंता के लिए अश्वगंधा के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा तनाव और चिंता जैसी तनाव संबंधी समस्याओं से निपटने की व्यक्ति की क्षमता में सुधार कर सकता है।
तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (एसीटीएच) के स्राव को बढ़ाता है जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर (तनाव हार्मोन) को बढ़ाता है। अश्वगंधा पाउडर कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और इससे जुड़ी समस्याओं जैसे चिंता को कम करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार, चिंता बढ़े हुए वात दोष से जुड़ी है, इसलिए व्यक्ति को शरीर में अतिरिक्त वात को शांत करने पर ध्यान देना चाहिए। अश्वगंधा में वात दोष को संतुलित करने का गुण होता है और यह चिंता के प्रबंधन के लिए अच्छा है।

पुरुष बांझपन के लिए अश्वगंधा के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा एक शक्तिशाली कामोद्दीपक है और टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार करके तनाव से प्रेरित पुरुष बांझपन में मदद कर सकता है। अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं और यह फ्री रेडिकल्स से लड़ता है। यह शुक्राणु कोशिकाओं की क्षति और मृत्यु को रोकता है जिससे शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता बेहतर होती है। इस प्रकार अश्वगंधा पुरुष यौन स्वास्थ्य को बढ़ाने के साथ-साथ तनाव से प्रेरित पुरुष बांझपन के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अश्वगंधा तनाव को कम करके पुरुष बांझपन को कम करने में मदद करता है। यह इसकी वात संतुलन संपत्ति के कारण है। यह शुक्राणु की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार करके पुरुष बांझपन की संभावना को कम करने में भी मदद करता है। यह इसकी वृष्य (कामोद्दीपक) संपत्ति के कारण है।
सुझाव:
१. १/४-१/२ चम्मच अश्वगंधा की जड़ का चूर्ण घी, चीनी और शहद के साथ एक महीने तक दिन में एक या दो बार लेने से शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार होता है।
2. या, एक गिलास गर्म दूध में 1/4-1/2 चम्मच अश्वगंधा की जड़ का पाउडर मिलाएं। इसे सोते समय पिएं।

मधुमेह मेलेटस (टाइप 1 और टाइप 2) के लिए अश्वगंधा के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा इंसुलिन उत्पादन बढ़ाकर और इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करके मधुमेह के रोगियों में रक्त शर्करा को नियंत्रित कर सकता है।
अध्ययन बताते हैं कि अश्वगंधा कोशिकाओं को इंसुलिन के प्रति कम प्रतिरोधी बनाता है। यह इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करता है और कोशिकाओं द्वारा ग्लूकोज के उपयोग को बढ़ाता है। अश्वगंधा इंसुलिन पैदा करने वाली कोशिकाओं की संख्या को भी बचाता है और बढ़ाता है जिससे इंसुलिन स्राव बढ़ता है। साथ में, यह मधुमेह के जोखिम को प्रबंधित करने में मदद करता है [१२-१४]।
टिप:
1. एक पैन में 1 गिलास दूध और 1/2 गिलास पानी डालकर उबाल लें।
२. १/४-१/२ चम्मच अश्वगंधा की जड़ का पाउडर डालें और ५ मिनट तक उबालें।
3. मिश्रण में पिसे हुए बादाम और अखरोट (करीब 2 चम्मच) मिलाएं।
4. ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करने के लिए इस मिश्रण को पिएं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार मधुमेह की चिकित्सा दो प्रकार की होती है। एक है अपतर्पण (डि-पोषण) और संतर्पण (पुनःपूर्ति)। अपतर्पण उपचार मोटे मधुमेह रोगियों में कफ शरीर के प्रकार के साथ उपयोगी है और संतरपन उपचार आमतौर पर वात या पित्त प्रकार के शरीर वाले दुबले मधुमेह रोगियों में उपयोगी होता है। अश्वगंधा वात और कफ दोष को संतुलित करके दोनों प्रकार के उपचारों पर काम करता है।
युक्ति:
अपने मौजूदा उपचार के साथ भोजन के 2 घंटे बाद दूध या गर्म पानी के साथ 1 अश्वगंधा कैप्सूल या टैबलेट दिन में दो बार लें।

गठिया के लिए अश्वगंधा के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा गठिया से जुड़े दर्द को कम कर सकता है।
अध्ययन बताते हैं कि अश्वगंधा में एनाल्जेसिक गुण होते हैं। यह देखा गया है कि अश्वगंधा की जड़ों और पत्तियों में विथेफेरिन ए होता है जो प्रोस्टाग्लैंडीन जैसे दर्द मध्यस्थों के उत्पादन को रोकता है। यह गठिया से जुड़े दर्द और सूजन को कम करता है [17-20]।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अश्वगंधा गठिया में दर्द को प्रबंधित करने के लिए उपयोगी है। आयुर्वेद के अनुसार, गठिया वात दोष के बढ़ने के कारण होता है और इसे संधिवात के रूप में जाना जाता है। यह दर्द, सूजन और जोड़ों की गतिशीलता का कारण बनता है। अश्वगंधा पाउडर में वात संतुलन गुण होता है और यह गठिया जैसे दर्द और जोड़ों में सूजन के लक्षणों से राहत देता है।
सुझाव:
१. १/४-१/२ चम्मच अश्वगंधा की जड़ का पाउडर लें।
2. इसे 1 गिलास दूध में मिला लें।
3. इसे दिन में तीन बार पिएं।
4. बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 1-2 महीने तक जारी रखें।

उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप) के लिए अश्वगंधा के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा तनाव और उच्च रक्तचाप जैसी तनाव संबंधी समस्याओं से निपटने की व्यक्ति की क्षमता में सुधार कर सकता है।
तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (एसीटीएच) के स्राव को बढ़ाता है जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर (तनाव हार्मोन) को बढ़ाता है। अश्वगंधा पाउडर कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और इससे जुड़ी समस्याओं जैसे उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।
सुझाव:
1. एक कप पानी में 1/4-1/2 चम्मच अश्वगंधा की जड़ का पाउडर लें।
2. मिश्रण को एक पैन में कम से कम 10 मिनट तक उबालें।
3. स्वाद बढ़ाने के लिए नींबू की कुछ बूंदें और 1 चम्मच शहद मिलाएं।
4. इस मिश्रण को दिन में एक बार सुबह के समय पिएं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद में उच्च रक्तचाप को रक्त गत वात के रूप में जाना जाता है जिसका अर्थ है धमनियों में रक्त का उच्च दबाव। उच्च रक्तचाप के लिए आयुर्वेदिक उपचार का उद्देश्य स्थिति के मूल कारण की पहचान करना और फिर जड़ी-बूटियों का सेवन करना है जो समस्या को जड़ से खत्म कर सकते हैं। तनाव या चिंता भी उच्च रक्तचाप का मूल कारण है और अश्वगंधा लेने से तनाव या चिंता को कम करने में मदद मिलती है और इस प्रकार उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है।
सुझाव:
भोजन के दो घंटे बाद दूध के साथ 1 कैप्सूल या अश्वगंधा की गोली से शुरुआत करें। साथ ही, अश्वगंधा को अन्य उच्चरक्तचापरोधी दवाओं के साथ लेते समय नियमित रूप से अपने रक्तचाप की निगरानी करें।

पार्किंसंस रोग के लिए अश्वगंधा के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा पार्किंसंस रोग में उपयोगी हो सकता है।
पार्किंसंस रोग तंत्रिका कोशिकाओं की क्षति के कारण होता है जो शरीर की गति, मांसपेशियों के नियंत्रण और संतुलन को प्रभावित करता है। अश्वगंधा अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण तंत्रिका कोशिकाओं को होने वाले नुकसान से बचाता है। यह पार्किंसन और उससे जुड़ी समस्याओं के जोखिम को कम करता है [२१-२३]।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अश्वगंधा पार्किंसंस रोग के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद करता है।
आयुर्वेद में वर्णित एक बीमारी की स्थिति ‘वेपथु’ को पार्किंसंस रोग से जोड़ा जा सकता है। यह दूषित वात के कारण होता है। अश्वगंधा चूर्ण का सेवन वात को संतुलित करता है और पार्किंसन रोग के लक्षणों को नियंत्रित करने वाली कोशिकाओं के अध: पतन को कम करने में भी मदद करता है।

अश्वगंधा कितना कारगर है?

अपर्याप्त सबूत

चिंता, गठिया, मधुमेह मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2), ​​उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप), पुरुष बांझपन, पार्किंसंस रोग, तनाव

अश्वगंधा का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल गड़बड़ी का कारण हो सकता है, इसलिए यदि आप पेप्टिक अल्सर से पीड़ित हैं तो अश्वगंधा या इसके पूरक लेने से पहले कृपया एक डॉक्टर से परामर्श लें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अश्वगंधा गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल गड़बड़ी का कारण हो सकता है। इसलिए आमतौर पर पित्त और अमा असंतुलन वाले लोगों में सावधानी के साथ अश्वगंधा का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

वैज्ञानिक प्रमाणों की कमी के कारण यदि आप स्तनपान करा रही हैं तो अश्वगंधा से बचना चाहिए।

आयुर्वेदिक नजरिये से

स्तनपान के दौरान अश्वगंधा लेते समय आयुर्वेदिक चिकित्सक की देखरेख की आवश्यकता होती है, स्व-दवा से बचना चाहिए।

माइनर मेडिसिन इंटरेक्शन

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा थायराइड हार्मोन (T4) के उत्पादन को बढ़ाता है। इसलिए आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि अश्वगंधा को हाइपरथायरायडिज्म की दवाओं के साथ लेते समय नियमित रूप से अपने थायरॉयड के स्तर की निगरानी करें।

मॉडरेट मेडिसिन इंटरेक्शन

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. अश्वगंधा में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव हो सकता है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि यदि आप अश्वगंधा या इसके सप्लीमेंट्स के साथ इम्यूनोमॉड्यूलेटरी ड्रग्स ले रहे हैं तो डॉक्टर से सलाह लें।
2. अश्वगंधा से बेहोशी हो सकती है। इसलिए सलाह दी जाती है कि अश्वगंधा या इसके सप्लीमेंट्स को शामक के साथ लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लें क्योंकि इससे अत्यधिक नींद आ सकती है।

मधुमेह के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है। इसलिए आम तौर पर यह सलाह दी जाती है कि यदि आप अश्वगंधा या इसके सप्लीमेंट्स के साथ-साथ अन्य मधुमेह विरोधी दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो नियमित रूप से शर्करा के स्तर की निगरानी करें।

हृदय रोग के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा रक्तचाप को कम कर सकता है। इसलिए आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि यदि आप अश्वगंधा या इसके सप्लीमेंट्स के साथ-साथ एंटी-हाइपरटेंसिव ड्रग्स ले रहे हैं तो नियमित रूप से रक्तचाप की निगरानी करें।

गुर्दे की बीमारी के मरीज

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा में मूत्रवर्धक गुण होते हैं। इससे गुर्दे के घाव हो सकते हैं (गुर्दे में असामान्य वृद्धि)। इसलिए अगर आपको पहले से ही किडनी की समस्या है तो अश्वगंधा या इसके सप्लीमेंट्स लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान अश्वगंधा से बचें क्योंकि यह गर्भाशय के संकुचन को बढ़ा सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान अश्वगंधा लेने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लें, स्व-दवा से बचना चाहिए।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. सेडेशन
2. निम्न रक्तचाप
3. दस्त
4. मतली
5. पेट दर्द

शराब

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा बेहोशी पैदा कर सकता है। अश्वगंधा लेते समय शराब के सेवन से बचें क्योंकि इससे अत्यधिक नींद आ सकती है।

अश्वगंधा की अनुशंसित खुराक

  • अश्वगंधा टैबलेट – 1 गोली दिन में दो बार या चिकित्सक द्वारा बताए अनुसार
  • अश्वगंधा कैप्सूल – 1 कैप्सूल दिन में दो बार या डॉक्टर के बताए अनुसार।
  • अश्वगंधा चूर्ण – 1 / 4-1 / 2 चम्मच दिन में दो बार या डॉक्टर के बताए अनुसार।

अश्वगंधा का उपयोग कैसे करें

1. अश्वगंधा की गोलियां
1 अश्वगंधा गोली या चिकित्सक द्वारा बताए अनुसार
गर्म दूध या पानी के साथ दिन में दो बार भोजन करने के बाद लें।

2. अश्वगंधा कैप्सूल
1 अश्वगंधा कैप्सूल या चिकित्सक द्वारा बताए अनुसार
दिन में दो बार भोजन करने के बाद गर्म दूध या पानी के साथ लें।

3. अश्वगंधा चूर्ण (चूर्ण)
a. दूध या शहद के साथ
1/4-1/2 चम्मच अश्वगंधा चूर्ण (चूर्ण) दूध या शहद के साथ या डॉक्टर के बताए अनुसार लें।

बी अश्वगंधा चाय
मैं. 2 कप पानी में 1 चम्मच अश्वगंधा पाउडर मिलाएं।
ii. इसे उबाल लें।
iii. तब तक उबालें जब तक कि यह मूल मात्रा का 1/2 न हो जाए।
iv. इसमें थोड़ा दूध और शहद मिलाएं।
v. दिन में एक बार पिएं।
vi. उच्च रक्त शर्करा के स्तर के मामले में आप शहद को छोड़ सकते हैं।

सी। अश्वगंधा मिल्कशेक
i. 1 कप शुद्ध घी में 4 बड़े चम्मच अश्वगंधा पाउडर (चूर्ण) भून लें।
ii. इसमें 1-2 चम्मच शहद मिलाएं।
iii. सेवन करने के लिए इस चूर्ण का 1 चम्मच 1 गिलास ठंडे दूध में मिलाएं।
iv. इसे अच्छी तरह से ब्लेंड करें और बेहतर स्वाद के लिए तुरंत पीएं।
v. आप इस मिश्रण को फ्रिज में स्टोर कर सकते हैं और जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल कर सकते हैं।
vi. हाई ब्लड शुगर लेवल होने पर शहद का सेवन न करें।

डी अश्वगंधा के लड्डू
i. 2 बड़े चम्मच अश्वगंधा पाउडर (चूर्ण) लें।
ii. इसमें 1 बड़ा चम्मच गुड़ का पाउडर मिलाएं।
iii. स्वाद बढ़ाने के लिए मिश्रण में एक चुटकी काला नमक और काली मिर्च मिलाएं।
iv. मिश्रण को समान रूप से और अच्छी तरह से गूंथ लें।
v. उपरोक्त मिश्रण से अपनी हथेलियों के बीच गोलाकार गति में गोल आकार के लड्डू बनाएं।
vi. आप इन्हें फ्रिज में 3-4 दिनों तक स्टोर करके रख सकते हैं।

इ। अश्वगंधा श्रीखंड
मैं. 250 ग्राम गाढ़ा दही लें।
ii. दही को मलमल के कपड़े में डाल कर रख दीजिये ताकि सारा पानी निकल जाये और हंग कर्ड बन जाये.
iii. दही को मलमल के कपड़े से निकाल कर फ्रिज में रख दें।
iv. हंग कर्ड को ४ भागों में बाँट लें।
v. अपने स्वादानुसार चीनी/शहद और प्रत्येक भाग में 1 बड़ा चम्मच अश्वगंधा पाउडर मिलाएं।
vi. आप इसके स्वाद को बढ़ाने के लिए कुछ सूखे मेवे और इलायची पाउडर भी मिला सकते हैं।
vii. प्रत्येक भाग को चिकना करने के लिए अच्छी तरह से गूंथ लें।
viii. इसे कुछ देर के लिए फ्रिज में ठंडा कर लें।
ix. आप चीनी या शहद को गुड़ से बदल सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न. अश्वगंधा किन रूपों में उपलब्ध है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा 3 रूपों में उपलब्ध है:
1. पाउडर (चूर्ण)
2. कैप्सूल
3. टैबलेट

Q. अश्वगंधा का अर्क कैसे लें?

आयुर्वेदिक नजरिये से

आमतौर पर, अश्वगंधा का अर्क बाजार में कैप्सूल या टैबलेट के रूप में उपलब्ध होता है। अश्वगंधा का अर्क 600-1200 मिलीग्राम / दिन लिया जा सकता है। 1-2 कैप्सूल या टैबलेट दिन में एक बार लिया जा सकता है।

Q. अश्वगंधा तेल का उपयोग कैसे करें?

आयुर्वेदिक नजरिये से

कहा जाता है कि अश्वगंधा का तेल वात और कफ दोषों को शांत करता है और पित्त ऊर्जा को बढ़ाता है। अश्वगंधा तेल स्थानीय रूप से और पूरे शरीर की मालिश के लिए उपयोग करने के लिए सुरक्षित है।
टिप:
1. अपनी हथेली में थोड़ा सा तेल लें और प्रभावित जगह पर अच्छी तरह लगाएं।
2. तेल की मालिश करें।
3. इस तेल का इस्तेमाल करने के तुरंत बाद अपने शरीर को ढक लें।
4. अश्वगंधा के तेल से मालिश करने के तुरंत बाद ठंड के मौसम में शरीर के संपर्क में आने से बचें।

Q. अश्वगंधा पाउडर कैसे लें?

आयुर्वेदिक नजरिये से

आप अश्वगंधा पाउडर को दूध या शहद के साथ ले सकते हैं।
मैं। 1 कप गुनगुने दूध या 1 चम्मच शहद के साथ 1/4-1/2 चम्मच अश्वगंधा पाउडर लें।
ii. भोजन के 2 घंटे बाद इसे अधिमानतः लें।

Q. क्या अश्वगंधा से आपका वजन कम हो सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अश्वगंधा कोर्टिसोल के स्तर को कम करके आपके वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। कोर्टिसोल को ‘तनाव हार्मोन’ के रूप में जाना जाता है क्योंकि अधिवृक्क ग्रंथियां तनाव के जवाब में इसे छोड़ती हैं। ऊंचा कोर्टिसोल का स्तर भूख और मिठाई, तले हुए भोजन और शीतल पेय की लालसा को बढ़ाता है। इन क्रेविंग के परिणामस्वरूप कैलोरी की खपत बढ़ जाती है जिससे वजन बढ़ता है।
अश्वगंधा कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव से प्रेरित लालसा को कम करता है। यह बेहतर वजन प्रबंधन में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

वजन में वृद्धि अस्वास्थ्यकर भोजन की आदतों और जीवन शैली के कारण होती है जो कमजोर पाचन अग्नि का कारण बनती है। यह अमा के संचय को बढ़ाता है जिससे मेदा धातु में असंतुलन पैदा होता है जिससे मोटापा होता है। अश्वगंधा के पत्ते मोटापे को नियंत्रित करने के लिए उपयोगी होते हैं क्योंकि यह चयापचय में सुधार और अमा को कम करने में मदद करता है। यह इसकी कफ संतुलन संपत्ति के कारण है। यह मेदा धातु को भी संतुलित करता है और इस प्रकार मोटापा कम करता है।
सुझाव:
1-2 ग्राम अश्वगंधा के पत्तों का चूर्ण दिन में दो बार हल्का भोजन करने के बाद गुनगुने पानी के साथ लें।

Q. क्या अश्वगंधा बालों के झड़ने के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, अश्वगंधा तनाव के कारण बालों के झड़ने को नियंत्रित करने में मदद करता है। तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (एसीटीएच) के स्राव को बढ़ाने के लिए जाना जाता है जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ाता है। अश्वगंधा एक प्रसिद्ध एडाप्टोजेन है जो इस तनाव से निपटने के लिए व्यक्ति की क्षमता में सुधार करता है। यह शरीर के कार्यों को सामान्य करता है और शरीर को परिवर्तनों के अनुकूल होने में मदद करता है। अश्वगंधा पाउडर सीरम कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और बालों के झड़ने जैसी तनाव संबंधी समस्याओं को कम करने में भी मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार बालों के झड़ने का कारण शरीर में बढ़ता वात दोष है और अश्वगंधा वात दोष को संतुलित करके बालों के झड़ने पर काम करता है। इसके अलावा, अश्वगंधा अपने स्निग्धा (तैलीय) गुण के कारण खोपड़ी को तेलीयता भी देता है। यह बालों को टूटने से रोकने में मदद करता है।
सुझाव:
बेहतर परिणाम के लिए कम से कम छह महीने के लिए सप्ताह में 3 बार रात में अश्वगंधा आधारित बालों के तेल का प्रयोग करें।

Q. क्या अश्वगंधा हाइट बढ़ा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि यह बताने के लिए कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि अश्वगंधा ऊंचाई बढ़ाता है; यह हड्डियों के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने और हड्डियों के नुकसान को रोकने में मदद करता है। यह शरीर की संरचना में सुधार करने में मदद करता है और मांसपेशियों और ताकत को बढ़ाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अश्वगंधा एक रसायन जड़ी बूटी है, जिसका अर्थ है कि यह रस, रक्त (रक्त), मनसा (मांसपेशियों), मेधा (वसा), अस्थि (हड्डियों), मज्जा और शुक्र से शुरू होने वाले प्रत्येक धातु (ऊतक) के सार को बढ़ाता है। अश्वगंधा लेने से हड्डियों (अस्थी) के आकार में सुधार हो सकता है लेकिन परिणाम प्रकृति (शरीर का प्रकार), व्यक्ति की उम्र, पचक अग्नि (पाचन अग्नि) की ताकत जैसे कई अन्य कारकों पर निर्भर करता है।

Q. क्या अश्वगंधा टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अश्वगंधा टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के स्तर में सुधार कर सकता है। यह तनावग्रस्त व्यक्तियों में तनाव हार्मोन, कोर्टिसोल के स्तर को कम करके टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है। अश्वगंधा एक शक्तिशाली कामोद्दीपक होने के कारण वृषण के विकास में भी मदद करता है जिससे टेस्टोस्टेरोन संश्लेषण में सुधार होता है। इसके अलावा, अश्वगंधा मुक्त कणों से लड़ने में मदद करता है, शुक्राणु कोशिकाओं की क्षति और मृत्यु को कम करता है। इस प्रकार, अश्वगंधा न केवल टेस्टोस्टेरोन बढ़ाता है बल्कि अन्य पुरुष यौन विकारों के लिए भी अच्छा है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार रसायन जड़ी बूटी शरीर में सभी प्रकार के धातुओं को बढ़ाती है। चूंकि अश्वगंधा एक रसायन जड़ी बूटी है, यह शरीर में शुक्र धातु (वीर्य के समान) सहित सभी धातुओं को बढ़ाता है।
युक्ति:
सर्वोत्तम परिणामों के लिए, 1 चम्मच अश्वगंधा अवलेह भोजन के दो घंटे बाद दिन में दो बार कम से कम 3 महीने तक लें।

Q. पुरुषों के लिए अश्वगंधा के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

पुरुषों के लिए अश्वगंधा के कुछ लाभ हैं:
1. तनाव प्रबंधन में
मदद करता है 2. चिंता से निपटने में मदद करता है
3. ताकत और सहनशक्ति बढ़ाने के लिए जाना जाता है

इन लाभों के अलावा, अश्वगंधा एक शक्तिशाली कामोद्दीपक होने के कारण शुक्राणुओं की संख्या में सुधार करके पुरुष बांझपन को बढ़ाने में मदद करता है। , शुक्राणु की गति, वीर्य की गुणवत्ता और हार्मोनल असंतुलन। यह न केवल वृषण के विकास में मदद करता है बल्कि टेस्टोस्टेरोन संश्लेषण में भी सुधार करता है। अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण, अश्वगंधा मुक्त कणों से लड़ने में मदद करता है। यह शुक्राणु कोशिकाओं की क्षति और मृत्यु को रोकता है। इस प्रकार, अश्वगंधा न केवल पुरुष बांझपन में मदद करता है बल्कि स्तंभन दोष जैसे अन्य पुरुष यौन विकारों में भी इसका उपयोग किया जाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद में, अश्वगंधा को पुरुषों के लिए वजीकरण (यौन इच्छा को बढ़ाता है), रसायन जड़ी बूटी के रूप में (शरीर को फिर से जीवंत करता है), बल्या (ताकत) बढ़ाता है, शुक्र धातु (वीर्य के साथ समानता) की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार करता है। तनव (तनाव) को कम करता है।

Q. क्या अश्वगंधा डिप्रेशन को ठीक कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तनाव को डिप्रेशन का एक मुख्य कारण माना जाता है। तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (एसीटीएच) के स्राव को बढ़ाने के लिए जाना जाता है जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ाता है। अश्वगंधा एक प्रसिद्ध एडाप्टोजेन है जो इस तनाव से निपटने के लिए व्यक्ति की क्षमता में सुधार करता है। अश्वगंधा पाउडर सीरम कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और अवसाद जैसी तनाव संबंधी समस्याओं को कम करने में भी मदद करता है।

Q. क्या अश्वगंधा नींद के लिए अच्छा है

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, अश्वगंधा नींद और अनिद्रा जैसे नींद संबंधी विकारों के लिए अच्छा माना जाता है। अश्वगंधा शामक के रूप में कार्य नहीं करता है बल्कि यह नसों को शांत करने में मदद करता है जो बदले में शरीर को सोने में मदद करता है। अश्वगंधा एक एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी होने के कारण तनाव से प्रेरित अनिद्रा से निपटने की व्यक्ति की क्षमता में भी सुधार करता है। तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (एसीटीएच) के स्राव को बढ़ाता है जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ाता है।
अश्वगंधा कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और अनिद्रा जैसी तनाव संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद करता है।
टिप:
एक चुटकी अश्वगंधा पाउडर लें।
इसे 1 गिलास गर्म दूध में डालें।
अच्छी तरह से हिलाएं और सोने से पहले इसे पी लें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार, बढ़ा हुआ वात दोष तंत्रिका तंत्र को संवेदनशील बनाता है जिससे अनिद्रा (अनिद्रा) हो जाती है। अश्वगंधा एक आराम देने वाली जड़ी बूटी है जो वात दोष को संतुलित करने का काम करती है और अच्छी नींद लाती है।

Q. क्या अश्वगंधा कैंसर का इलाज कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, कुछ अध्ययनों में कहा गया है कि अश्वगंधा कैंसर में मददगार हो सकता है। अश्वगंधा कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने में सक्षम हो सकता है। साथ ही यह कीमोथेरेपी के साइड इफेक्ट को भी कम करता है।

Q. क्या अश्वगंधा गर्म चमक को कम कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रजोनिवृत्ति से गुजरने वाली अधिकांश महिलाओं को गर्म चमक का अनुभव होता है जो तीव्र गर्मी की अनुभूति होती है। ये लक्षण मुख्य रूप से तनाव से जुड़े होते हैं जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ाते हैं। अश्वगंधा शरीर में कोर्टिसोल के स्तर को कम करके तनाव से प्रेरित गर्म चमक को दूर करने में मदद कर सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

रजोनिवृत्ति महिलाओं में शारीरिक और मानसिक परिवर्तन की स्थिति है। शरीर कुछ गंभीर लक्षण दिखाता है और उनमें से एक बार-बार गर्म चमक होना है। आयुर्वेद के अनुसार, रजोनिवृत्त महिलाओं में गर्म चमक आमतौर पर शरीर में अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों के निर्माण के कारण होती है, जिसे अमा कहा जाता है। अश्वगंधा लेने से कफ और वात संतुलन संपत्ति के कारण इन विषाक्त पदार्थों (अमा) को हटाने में मदद मिलती है और इस प्रकार गर्म चमक को नियंत्रित किया जाता है।

Q. क्या अश्वगंधा मतली का कारण बन सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा को आमतौर पर छोटी से मध्यम खुराक में अच्छी तरह से सहन किया जाता है लेकिन अश्वगंधा पाउडर की उच्च खुराक मतली, दस्त और उल्टी का कारण बन सकती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जब अश्वगंधा को पहली बार चूर्ण के रूप में लिया जाता है तो मतली का हल्का सा अहसास हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अश्वगंधा पाउडर को पचाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, खासकर उन लोगों के लिए जिनके पास कमजोर पचक अग्नि है। इससे बचने के लिए आप पहली बार पाउडर की जगह अश्वगंधा कैप्सूल या टैबलेट से शुरुआत कर सकते हैं।

Q. क्या ऑटोइम्यून बीमारियों वाले लोगों को अश्वगंधा से बचना चाहिए?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। लेकिन यह ऑटोइम्यून विकारों वाले लोगों के लिए एक समस्या हो सकती है जैसे मल्टीपल स्केलेरोसिस, रुमेटीइड गठिया आदि। ऐसा इसलिए है क्योंकि अश्वगंधा प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित कर सकता है, जिससे ऑटोइम्यून विकारों के लक्षण बढ़ सकते हैं।

Q. क्या अश्वगंधा थायराइड के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, अश्वगंधा थायराइड के लिए अच्छा है। अश्वगंधा में एल्कलॉइड, स्टेरॉइडल और सैपोनिन होते हैं जो थायराइड हार्मोन को संतुलित करने में आवश्यक होते हैं। अश्वगंधा को मजबूत एंटीऑक्सीडेंट गुण के लिए भी जाना जाता है। अश्वगंधा पाउडर मुक्त कणों को साफ करके थायरॉयड ग्रंथि में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करता है। यह समग्र थायराइड गतिविधि में सुधार करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

पित्त दोष द्वारा थाइरोइड क्रिया को नियंत्रित किया जाता है। हाइपोथायरायडिज्म में, कफ दोष और मेधा धातु की परत सेलुलर स्तर के कार्यों में पित्त दोष को रोकता है। अश्वगंधा कफ दोष और मेधा धातु के लेप को हटाने में मदद करता है और हाइपोथायरायडिज्म के लक्षणों को कम करता है।
युक्ति:
अश्वगंधा चूर्ण 1-3 ग्राम शहद के साथ मिलाकर शुरू करें। लंच और डिनर से 45 मिनट पहले लें। सर्वोत्तम परिणामों के लिए इसे कम से कम 3 से 4 महीने तक प्रयोग करें।

Q. क्या अश्वगंधा शरीर सौष्ठव के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

शरीर सौष्ठव या मांसपेशियों के आकार और कार्य में वृद्धि टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाकर हो सकती है। अश्वगंधा तनाव हार्मोन-कोर्टिसोल के स्तर को कम करके काम करता है और टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार करता है। यह तंत्रिका तंत्र पर एंटी-चिंता एजेंट के रूप में भी कार्य करता है और फोकस और एकाग्रता को बढ़ावा देने में मदद करता है। इससे मांसपेशियों का बेहतर समन्वय और भर्ती होता है।
साथ में अश्वगंधा बॉडीबिल्डिंग में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, शरीर सौष्ठव के लिए अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि अश्वगंधा की जड़ के पाउडर में रसायन (कायाकल्प) और बल्या (शक्ति प्रदाता) गुण होते हैं जो वजन बढ़ाने और शरीर सौष्ठव में मदद करते हैं।

Q. क्या आप सर्जरी से पहले अश्वगंधा ले सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अश्वगंधा केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को धीमा कर सकता है। सर्जरी के दौरान और बाद में एनेस्थीसिया और अन्य दवाएं इस प्रभाव को बढ़ा सकती हैं। इसलिए सलाह दी जाती है कि निर्धारित सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले अश्वगंधा या इसके सप्लीमेंट्स लेना बंद कर दें।

Q. क्या अश्वगंधा महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

लंबे समय तक तनाव से महिलाओं में यौन रोग हो सकते हैं। यह कामोत्तेजना की कमी, कामोत्तेजना संबंधी विकार या हाइपोएक्टिव यौन इच्छा विकार के रूप में हो सकता है। अश्वगंधा तंत्रिका तंत्र पर कार्य करती है और तनाव हार्मोन-कोर्टिसोल के स्तर को कम करती है। यह तनाव से संबंधित यौन समस्याओं को कम करने में मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.