Search
Generic filters

Atis | एटीआई के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

एटीआई

अतिविषा, जिसे अतिविषा के नाम से भी जाना जाता है, मुख्य रूप से हिमालय क्षेत्र में उगाई जाने वाली एक लंबी जड़ी बूटी है। यह नेपाल, चुंबी क्षेत्र और सिक्किम की एक विशिष्ट प्रजाति है।
एटिस अपने कार्मिनेटिव गुण के कारण स्वस्थ पाचन तंत्र को बनाए रखने में प्रभावी है। यह दस्त में भी सहायक है क्योंकि यह अपनी जीवाणुरोधी गतिविधि के कारण रोगजनक सूक्ष्मजीवों के विकास को रोकता है। एटिस वजन घटाने में भी मदद कर सकता है क्योंकि यह ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करता है और एचडीएल-कोलेस्ट्रॉल (“अच्छा कोलेस्ट्रॉल”) के स्तर को बढ़ाता है। आयुर्वेद के अनुसार, यह अपने तिक्त (कड़वे) और कफ संतुलन गुणों के कारण मधुमेह के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करता है। अतीस चूर्ण को शहद के साथ लेने से उष्ना (गर्म) प्रकृति के कारण खांसी और सर्दी का प्रबंधन करने में मदद मिलती है और संचित बलगम को हटा देता है।
अतीस के बीजों को शहद के साथ लगाने से गले के संक्रमण और टॉन्सिलाइटिस में आराम मिलता है।
गंभीर सिरदर्द या माइग्रेन के प्रबंधन के लिए एटिस की जड़ों को अंदर लिया जा सकता है।
कुछ मामलों में, एटिस के कारण जी मिचलाना, समय-समय पर बुखार, बवासीर या मुंह का सूखापन हो सकता है। अधिक मात्रा में सेवन करने से कब्ज हो सकता है [10-12]।

आतिश के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

एकोनिटम हेटरोफिलम, भारतीय अतीस, अतिबिज, अतिविश, अति वासा, अरुणा, घुनाप्रिया, वीसा, आतिच, अतिइचा, अतिस रूट, अतिविष्णी काली, अतिविखनी काली, अतिविशा, अथिहगे, अतिविदयम, अतिविशा, आतुशी, अतिसा, अतीस, अतिव, शुक्लकंद, भांगुरा, विश्व.

एटिस का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

अतीस के लाभ

1.
अपच आयुर्वेद के अनुसार, अपच को अग्निमांड्य कहा जाता है जो पित्त दोष के असंतुलन के कारण होता है। मंड अग्नि (कम पाचक अग्नि) के कारण जब भी खाया हुआ भोजन पचाया नहीं जाता है, तो इससे अमा का निर्माण होता है (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) जो अपच का कारण बनता है। सरल शब्दों में हम कह सकते हैं कि अपच भोजन के पाचन की अपूर्ण प्रक्रिया की अवस्था है। अमा के दीपन (भूख बढ़ाने वाले) और पचाना (पाचन) गुणों के कारण अमा को पचाकर अपच को नियंत्रित करने में मदद करता है, जिससे अपच से राहत मिलती है।

2.
उल्टी उल्टी एक ऐसी स्थिति है जो तीनों दोषों, विशेष रूप से पित्त और कफ दोष के असंतुलन के कारण होती है। अत्यधिक तीक्ष्ण (तीक्ष्ण), कषाय (तीखा), आंवला (खट्टा), विदाही (जिससे जलन होती है), गुरु (भारी आहार), अति-शीता (ठंडा आहार) और अपाकवा का सेवन करने जैसी विभिन्न खाने की आदतों के कारण दोषों का असंतुलन होता है। अहारा (कच्चा / कच्चा भोजन)। इसके परिणामस्वरूप शरीर में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) का निर्माण होता है जिससे अपच होता है। अतीस अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला), पचाना (पाचन) और त्रिदोष (वात पित्त और कफ) संतुलन गुणों के कारण अमा को पचाकर उल्टी को रोकने में मदद करता है।

3.
दस्त, जिसे आयुर्वेद में अतिसार के नाम से भी जाना जाता है, एक ऐसी स्थिति है जिसमें एक व्यक्ति दिन में 3 बार से अधिक बार पानी जैसा मल त्याग करता है। यह स्थिति वात दोष के असंतुलन के कारण होती है जो पाचन अग्नि (अग्नि) के कामकाज को बाधित करती है और इसके परिणामस्वरूप अग्निमांड्य (कमजोर पाचन अग्नि) होता है। अन्य कारक जो दस्त के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं वे हैं अनुचित भोजन, अशुद्ध पानी, विषाक्त पदार्थ (अमा) और मानसिक तनाव। एटिस अपने वात संतुलन गुण के कारण दस्त के प्रबंधन में मदद करता है। यह दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण कमजोर पाचन अग्नि को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

4. पाइल्स भागदौड़ भरी लाइफस्टाइल के
आज की कारण पुरानी कब्ज के कारण पाइल्स एक आम समस्या हो गई है। कब्ज से तीनों दोषों, मुख्यतः वात दोष का ह्रास होता है। बढ़े हुए वात के कारण पाचन की आग कम हो जाती है, जिससे लगातार कब्ज बना रहता है, जिसके परिणामस्वरूप गुदा क्षेत्र के आसपास दर्द और सूजन हो सकती है यदि इसे अनदेखा किया जाए या अनुपचारित छोड़ दिया जाए। इसके बाद ढेर द्रव्यमान का निर्माण हो सकता है। एटिस अपने त्रिदोष संतुलन गुण (मुख्य रूप से वात) के कारण कब्ज का प्रबंधन करके बवासीर के प्रबंधन में मदद करता है।

अटिस उपयोग करते हुए सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कच्चे रूप में लेने पर एटिस विषाक्त हो सकता है, इसलिए इसे अनुशंसित तरीके से और केवल खुराक में लेने की सलाह दी जाती है।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

चूंकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए सलाह दी जाती है कि स्तनपान के दौरान Atis लेने से पहले चिकित्सक से परामर्श करने से बचें या परामर्श करें।

मधुमेह के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

चूंकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए मधुमेह रोगियों के लिए यह सलाह दी जाती है कि एटिस लेने से पहले चिकित्सक से सलाह लें या परामर्श करें।

हृदय रोग के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

चूंकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए सलाह दी जाती है कि हृदय संबंधी विकारों वाले लोगों में एटिस लेने से पहले चिकित्सक से सलाह लें या परामर्श करें।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

चूंकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए सलाह दी जाती है कि गर्भावस्था के दौरान एटिस लेने से पहले चिकित्सक से सलाह लें या परामर्श करें।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. जी मिचलाना
2. उल्टी
3. कमजोरी या हिलने- असमर्थता
डुलने में 4. मुंह का सूखापन
5. पसीना
6. कंपकंपी
7. सांस लेने में समस्या
8. दिल की समस्याएं

अतीस की अनुशंसित खुराक

  • एटिस पाउडर – वयस्कों के लिए – 1-3 ग्राम प्रति दिन।
    बच्चों के लिए – 1 ग्राम प्रतिदिन विभाजित मात्रा में।

Atis का इस्तेमाल कैसे करें

1. एटिस पाउडर
ए. 1 चम्मच अटिस पाउडर लें।
बी इसमें शहद मिलाएं और सुबह के समय सेवन करें।
सी। अपच से छुटकारा पाने के लिए दिन में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।

2. एटिस एक्सट्रैक्ट
ए। एटिस एक्सट्रेक्ट की 1-2 चुटकी लें।
बी इसमें शहद मिलाएं और सुबह के समय सेवन करें।
सी। बच्चों को बुखार, दस्त, सूजन आदि से राहत पाने के लिए इस उपाय का प्रयोग करें।

3. अतिस क्वाथा
ए। अटिस क्वाथ के 2-3 चम्मच लें।
बी इसमें बराबर मात्रा में पानी और थोड़ा सा शहद मिलाएं।
सी। इसे खाने के बाद दिन में दो बार पीने से पाचन संबंधी समस्याएं दूर होती हैं।

अतीस के लाभ

1.
गठिया का दर्द वात दोष के असंतुलन के कारण संधिशोथ या पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस में जो दर्द महसूस होता है उसे गठिया दर्द के रूप में जाना जाता है। वात संतुलन गुण के कारण इस दर्द को कम करने के लिए एटिस को प्रभावित क्षेत्र पर स्थानीय रूप से लगाया जा सकता है।

2.
नसों का दर्द नसों का दर्द एक ऐसी स्थिति है जो असंतुलित वात दोष के कारण नसों में किसी भी तरह की गड़बड़ी जैसे बाधित रक्त प्रवाह के कारण होती है। वात संतुलन गुण के कारण इस दर्द को कम करने के लिए एटिस को प्रभावित क्षेत्र पर स्थानीय रूप से लगाया जा सकता है।

अटिस उपयोग करते हुए सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अटिस जहरीले पौधों के परिवार से संबंधित है इसलिए इसे चिकित्सक की सलाह के अनुसार ही इस्तेमाल करना चाहिए।

अतीस की अनुशंसित खुराक

  • अतीस पाउडर – ½-1 छोटा चम्मच
  • अतीस तेल – 1-2 चम्मच

Atis का इस्तेमाल कैसे करें

1. एटिस पाउडर
ए. ½ – 1 चम्मच अतीस पाउडर लें।
बी इसमें गुलाब जल मिलाएं।
सी। प्रभावित क्षेत्र पर समान रूप से लगाएं।
डी इसे 8-10 मिनट तक बैठने दें।
इ। नल के पानी से अच्छी तरह धो लें।
एफ फोड़े और छालों से छुटकारा पाने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 2-3 बार इस्तेमाल करें।

2. एटिस ऑयल
ए. १-२ चम्मच अटिस का तेल लें।
बी तिल का तेल मिलाकर प्रभावित जगह पर हल्के हाथों से मसाज करें।
सी। जोड़ों के दर्द और सूजन से छुटकारा पाने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 2-3 बार इस्तेमाल करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्र. आटिस बाजार में किन रूपों में उपलब्ध है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

आटिस विभिन्न रूपों में बाजार में उपलब्ध है जैसे:
1. पाउडर
2. अर्क
3. तेल
वे विभिन्न ब्रांडों जैसे ग्रह आयुर्वेद, वीएचसी आयुर्वेद, नीरज ट्रेडर्स आदि के तहत उपलब्ध हैं। आप अपने अनुसार ब्रांड और उत्पाद चुन सकते हैं। पसंद और आवश्यकता।

Q. एटिस को कैसे स्टोर करें?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

एटिस को कमरे के तापमान पर संग्रहित किया जाना चाहिए और सीधे प्रकाश, नमी और गर्मी के संपर्क में नहीं आना चाहिए। अतीस को बच्चों और पालतू जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए।

Q. एकोनिटम हेटरोफिलम के सामान्य नाम क्या हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

एकोनिटम हेटरोफिलम को अतिस, अतिबिज, अतिविश, अति वासा, अरुणा, घुनाप्रिया, वीजा, आतिच, अतिइचा, अतिस रूट, अतिविष्णी काली, अतिविखनी काली, अतिविशा, अथिहगे, अतिविद्यम, अतिविशा, आतुशी, अतिसा, अतीस, कश्मीरा के नाम से भी जाना जाता है। शुक्लकाण्ड, भांगुरा, विश्व।

Q. एकोनिटम हेटरोफिलम के औषधीय उपयोग क्या हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

एकोनिटम हेटरोफिलम या एटिस एक आयुर्वेदिक औषधीय पौधा है जिसे सूखे अदरक, बील (भारत में बेलपेट्रा) फल, या जायफल (भारत में जयफल) के बारीक पाउडर के साथ लेने पर एंटीडायरेहियल गतिविधि होने की सूचना है। इसकी जड़ का रस दूध के साथ लेने पर कफ निस्सारक (वह गुण जो वायु मार्ग से थूक के स्राव को बढ़ावा देता है) के रूप में कार्य करता है। पौधे में मूत्रवर्धक, ज्वरनाशक, एनाल्जेसिक, एंटीऑक्सिडेंट, पेट फूलना और कफ-विरोधी गुण भी दिखाई देते हैं। इसके अलावा, पौधे प्रजनन विकारों के उपचार में भी सहायक है।

Q. स्पर्मेटोरिया (अत्यधिक वीर्य स्खलन) के लिए एटिस के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

स्पर्मेटोरिया अत्यधिक, अनैच्छिक स्खलन की स्थिति है।
हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन एटिस स्पर्मेटोरिया को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।

Q. सर्वाइकल लिम्फैडेनाइटिस के लिए एटिस फायदेमंद है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सरवाइकल लिम्फैडेनाइटिस ऊपरी श्वसन पथ में संक्रमण के कारण गर्भाशय ग्रीवा के लिम्फ नोड्स की सूजन की स्थिति है, जो घातक भी हो सकती है। एटिस रूट पाउडर में सूजन-रोधी गुण होते हैं और इसे सर्वाइकल लिम्फैडेनाइटिस से जुड़ी सूजन को कम करने के लिए रोगियों को मौखिक रूप से दिया जाता है। अटिस की जड़ों के रस को दूध के साथ लेने से श्वसन संबंधी रोगों के प्रबंधन के लिए भी सिफारिश की जाती है क्योंकि यह एक एक्सपेक्टोरेंट के रूप में कार्य करता है।

Q. क्या अतिसार दस्त को रोकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अतिसार अपने एंटीडायरियल गुण के कारण अतिसार के प्रबंधन में उपयोगी है। एटिस में रोगाणुरोधी क्रिया भी होती है और यह बड़ी आंतों में विभिन्न रोग पैदा करने वाले जीवों के विकास को रोकता है।
अतिसार को रोकने के लिए एटिस का उपयोग करने के लिए युक्तियाँ:
1. अतिस की जड़ को बेल फल यानी बेलपत्र, जायफल (जयफल), अदरक (सूखा रूप) और अत्विका के साथ मिलाएं।
2. सभी सामग्री को समान अनुपात में मिलाएं।
3. डायरिया को नियंत्रित करने के लिए 2 चुटकी पानी के साथ दिन में तीन बार लें।

Q. क्या एटिस यूरिनरी ट्रैक्ट में जलन से राहत दिलाने में उपयोगी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अटिस के बीज और जड़ का काढ़ा अपने मूत्रवर्धक गुण के कारण मूत्र पथ में जलन को कम करने में मदद करता है। यह पेशाब की मात्रा को बढ़ाने में मदद करता है जिससे जलन कम होती है।

Q. क्या एटिस उच्च स्तर के वसा को कम करने में सहायक है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, एटिस अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचाना (पाचन) गुणों के कारण वसा के उच्च स्तर को कम करने में मदद करता है। विषाक्त पदार्थों (अमा) के रूप में कमजोर या खराब पाचन के कारण शरीर में वसा जमा हो जाती है। एटिस पाचन में सुधार करने में मदद करता है और शरीर में वसा के गठन और संचय को रोकता है, जिससे वजन घटाने में सहायता मिलती है।

Q. क्या एटिस वास्तव में जहरीला है और क्या इससे बचना चाहिए?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि एटिस जहरीले पौधों के परिवार से संबंधित है, लेकिन यह अन्य जहरों के प्रभाव को कम करने के लिए दिखाया गया है। इसका औषधीय महत्व भी है और इसे हमेशा डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही इस्तेमाल करना चाहिए।

Q. क्या एटिस कब्ज का कारण बन सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, चूंकि अटिस को अधिक मात्रा में लेने से कब्ज हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

हां, रूक्शा (सूखी) संपत्ति के कारण अटिस कब्ज पैदा कर सकता है। यह आंतों में सूखापन बढ़ाता है जिससे मल शुष्क और कठोर हो जाता है। एक बार जब आंत में मल सूख जाता है तो शरीर से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है, जिससे कब्ज हो जाता है।

Q. क्या एटिस से दिल की समस्या हो सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों से पता चला है कि अटिस की अधिक मात्रा से दिल की धड़कन अनियमित हो सकती है.

Q. अतिविषा पाउडर का उपयोग कैसे करें?

आयुर्वेदिक नजरिये से

अतिविषा पाउडर अपच से जल्दी राहत पाने के लिए एक प्रभावी हर्बल दवा है। अतिविषा पाउडर को आप गर्म पानी के साथ दिन में एक या दो बार ले सकते हैं।

Q. अतिविषा पाउडर का उपयोग करने के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अतिविषा की जड़ का चूर्ण शहद के साथ लेने से खांसी, जलन और ब्रोंकाइटिस में लाभ होता है। यह आयुर्वेद में निर्धारित कड़वे घटकों में से एक है जो टाइप -2 मधुमेह (जिसे गैर-इंसुलिन निर्भर मधुमेह के रूप में भी जाना जाता है) में राहत देता है। इसे शिशुओं और बच्चों में गैस्ट्रोएंटेरिक बुखार के खिलाफ एक उपाय के रूप में माना जाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अतीस उपापचय, पाचन और फेफड़ों से संबंधित विकारों में लाभकारी होता है। अतीस चूर्ण पाचन अग्नि को बढ़ावा देने में मदद करता है जो अपच के लक्षण को ठीक करता है। कफ संतुलन प्रकृति के कारण यह खांसी और सर्दी में भी राहत देता है।

Q. क्या एटिस माइग्रेन के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

माइग्रेन के लिए अतिस की पत्ती/जड़ के चूर्ण को अंदर लेना लाभदायक माना जाता है।

माइग्रेन से राहत पाने के लिए Atis के इस्तेमाल के टिप्स।
1. अतीस की पत्तियों या जड़ों को पीस लें।
2. सेंधा नमक मिलाएं।
3. माइग्रेन के दर्द से राहत पाने के लिए श्वास लें या प्रभावित जगह पर लगाएं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

माइग्रेन एक ऐसी स्थिति है जो पित्त दोष के असंतुलन के कारण होती है और सिरदर्द, मतली या कभी-कभी चक्कर जैसे कुछ लक्षणों की ओर ले जाती है। पित्त संतुलन गुण के कारण एटिस इस स्थिति को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह माइग्रेन के लक्षणों को कम करने में मदद करता है, जिससे दर्द से राहत मिलती है।

Q. क्या एटिस गले के संक्रमण के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल गुणों के कारण एटिस को गले के संक्रमण के मामले में उपयोगी माना जाता है।
सुझाव:
1. कुछ अतिस के बीजों को क्रश कर लें।
2. इसमें 1-2 चम्मच शहद मिलाएं।
3. टॉन्सिलिटिस से राहत पाने के लिए इसे अपने गले पर स्थानीय रूप से लगाएं।

Q. क्या एटिस से त्वचा में सूजन हो सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

एटिस का उपयोग जोड़ों के दर्द और सूजन के लिए एक उपाय के रूप में किया जाता है लेकिन कुछ मामलों में यह त्वचा में सूजन का कारण बन सकता है अगर इसका सही तरीके से उपयोग न किया जाए।

Q. अटिस को संभालते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

चूंकि एटिस जहरीले पौधों के परिवार से संबंधित है, इसलिए चिकित्सक की सलाह के अनुसार इसे सावधानी से संभालने की सलाह दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.