Search
Generic filters

Banana | केला के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

केला

केला एक खाद्य फल है जो एक प्राकृतिक त्वरित ऊर्जा बूस्टर है। यह पोटेशियम और मैग्नीशियम का एक समृद्ध स्रोत है और पूरे केले के पौधे (फूल, पके, कच्चे फल, पत्ते और उपजी) का औषधीय महत्व है।
केला ऊर्जा को बढ़ावा देने में मदद करता है जो सहनशक्ति के साथ-साथ यौन स्वास्थ्य में भी सुधार करता है। हरा केला खाने से पाचन में सुधार होता है और दस्त को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। केला अपने एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। दूध के साथ लेने पर यह वजन बढ़ाने में मदद करता है।
आयुर्वेद के अनुसार इसके मजबूत रोपन (हीलिंग) गुण के कारण केले के पेस्ट को त्वचा पर लगाने से रूखी त्वचा, मुहांसे और झुर्रियों जैसी त्वचा की समस्याओं को दूर करने में लाभ होता है। यह बालों को पोषण देने और बालों के विकास को बढ़ावा देने में भी मदद करता है।
खाली पेट केला खाने से बचना चाहिए। आमतौर पर इसे हल्के भोजन के बाद लेने की सलाह दी जाती है [२-६]।

केला के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

मूसा पारादीसियाका, वारणा, अंबुसार, काल, तल्हा, कला, कांच कला, केला, बाले गड्डे, कडुबले, कट्टेबले, कदली, कदीला, वज़हाई, पज़म, आरती चेट्टू, मौज़

केले का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

केला के फायदे

1. दस्त
को आयुर्वेद में अतिसार के नाम से जाना जाता है। यह अनुचित भोजन, अशुद्ध पानी, विषाक्त पदार्थों, मानसिक तनाव और अग्निमांड्य (कमजोर पाचन अग्नि) के कारण होता है। ये सभी कारक वात को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। यह बढ़ा हुआ वात शरीर के विभिन्न ऊतकों से आंत में तरल पदार्थ लाता है और मल के साथ मिल जाता है। इससे दस्त, पानी जैसा दस्त या दस्त हो जाते हैं। जब आप दस्त से पीड़ित हों तो अपने आहार में केले का प्रयोग करें। हरा केला खाने से आपके शरीर को अधिक पोषक तत्वों को अवशोषित करने में मदद मिल सकती है और इसकी ग्राही (शोषक) संपत्ति के कारण आपके दस्त को नियंत्रित किया जा सकता है।
सुझाव:
ए. पूरे दिन में 1-2 कच्चा केला लें।
बी अधिमानतः हल्का भोजन करने के बाद।

2. यौन रोग
पुरुषों में यौन रोग कामेच्छा में कमी के रूप में हो सकता है यानी यौन क्रिया के प्रति कोई झुकाव नहीं होना। यौन क्रिया के तुरंत बाद कम इरेक्शन समय या वीर्य का निष्कासन भी हो सकता है। इसे ‘प्रारंभिक निर्वहन या शीघ्रपतन’ के रूप में भी जाना जाता है। केले का नियमित सेवन पुरुष यौन प्रदर्शन के समुचित कार्य में मदद करता है। यह इसकी वाजीकरण (कामोद्दीपक) संपत्ति के कारण है।
सुझाव:
ए. पूरे दिन में 1-2 कच्चा केला लें।
बी अधिमानतः हल्का भोजन करने के बाद।

3. कब्ज
आयुर्वेद में कब्ज विशेष रूप से वात दोष के बढ़ने से होता है। यह फास्ट फूड, कॉफी या चाय के अधिक सेवन, देर रात सोने, तनाव और अवसाद के कारण हो सकता है। ये सभी कारक बड़ी आंत में वात को बढ़ाते हैं और कब्ज पैदा करते हैं। वात संतुलन प्रकृति के कारण केला मल को नरम और चिकना बनाता है और कब्ज को नियंत्रित करता है।
सुझाव:
ए. 1-2 केले अदरक के काढ़े के साथ लें।
बी इसमें शहद मिलाकर हल्का भोजन करने के बाद सेवन करने से कब्ज दूर हो जाती है।

3. यूटीआई
यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन का वर्णन आयुर्वेद में मुत्रकचरा के व्यापक शब्द के तहत किया गया है। मुद्रा का अर्थ है रिसना, कृचर का अर्थ है पीड़ादायक। इस प्रकार, डिसुरिया और दर्दनाक पेशाब को मुत्रचक्र कहा जाता है। मूत्र मार्ग के संक्रमण में केले के तने का रस सीता (ठंडा) गुण के कारण होने वाली जलन को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में भी मदद करता है।
सुझाव:
ए. 2-4 चम्मच केले के तने का रस लें।
बी इतना ही पानी डालें और खाना खाने से पहले एक बार पियें।

4. कमजोर याददाश्त
कमजोर याददाश्त या याददाश्त कमजोर होने के कुछ मुख्य कारण नींद न आना और तनाव हैं। केले का नियमित सेवन तंत्रिका तंत्र को शांत करने में मदद करता है जिससे अनिद्रा और तनाव कम होता है। यह इसकी वात संतुलन संपत्ति के कारण है।
सुझाव:
ए. पूरे दिन में 1-2 कच्चा केला लें।
बी अधिमानतः हल्का भोजन करने के बाद।

केले का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

1. ज्यादा केला खाने से बचें, क्योंकि इसे पचने में काफी समय लगता है।
2. अगर आपको अस्थमा जैसी सांस की कोई समस्या है तो केले से परहेज करें क्योंकि इससे कफ बढ़ सकता है।

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अगर आपको माइग्रेन है तो केले से परहेज करें।

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केले के सेवन से एलर्जी हो सकती है।

मधुमेह के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केला ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकता है। इसलिए आमतौर पर मधुमेह की स्थिति में केला लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

केले का उपयोग कैसे करें

1. केला फल केले का फल
हल्का भोजन करने के बाद अपने स्वाद के अनुसार लें।

2. केले के तने का रस
a. 2-4 चम्मच केले के तने का रस लें।
बी इतना ही पानी मिलाकर खाना खाने से पहले एक बार पिएं।

3. केले के तने का पाउडर
a. -½ चम्मच केले के तने का पाउडर लें।
बी इसमें शहद या पानी मिलाकर दिन में दो बार भोजन के बाद लें।

केला के फायदे

1. त्वचा
रूखी रूखे होंठ और रूखी त्वचा वात असंतुलन के लक्षण हैं। केला वात दोष को संतुलित करके त्वचा में रूखेपन को कम करने में मदद करता है। यह इसकी स्निग्धा (तैलीय) संपत्ति के कारण है।
सुझाव:
ए. 1/2 – 1 चम्मच केले का ताजा पेस्ट लें।
बी इसमें दूध मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाएं।
सी। 25-30 मिनट तक प्रतीक्षा करें और नल के पानी से धो लें।

2. झुर्रियां
आयुर्वेद के अनुसार, वात दोष का बढ़ना झुर्रियों का कारण होता है। केला झुर्रियों को नियंत्रित करने में मदद करता है और वात को संतुलित करके त्वचा की बनावट में सुधार करता है। यह इसकी स्निग्धा (तैलीय) प्रकृति के कारण है।
सुझाव:
ए. 1/2 – 1 चम्मच केले का ताजा पेस्ट लें।
बी इसमें दूध मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाएं।
सी। 30-45 मिनट तक प्रतीक्षा करें।
डी नल के पानी से धो लें।

3. बालों का झड़ना बालों के झड़ने
आयुर्वेद कहता है कि का कारण बढ़ा हुआ वात दोष है। केला वात दोष को संतुलित करके बालों के झड़ने पर काम करता है और बालों को मॉइस्चराइज और हाइड्रेट करने में मदद करता है। यह इसकी स्निग्धा (तैलीय) प्रकृति के कारण है।
सुझाव:
ए. अपने बालों की लंबाई के अनुसार 2 या इससे ज्यादा केले लें और उन्हें एक बाउल में मैश कर लें।
बी 1-2 टेबल स्पून नारियल का तेल डालकर पेस्ट बना लें।
सी। इस पेस्ट को अपने बालों पर अच्छी तरह से लगाएं।
डी इस मास्क को लगभग 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें और ठंडे या गुनगुने पानी से धो लें।
इ। बालों की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इसे हफ्ते में 1-2 बार दोहराएं।

केले का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

अगर आपकी त्वचा हाइपरसेंसिटिव है तो केले के पत्ते, तने के रस या फलों के पेस्ट को गुलाब जल या किसी भी स्किन क्रीम के साथ इस्तेमाल करना चाहिए।

केले की अनुशंसित खुराक

  • केले का रस – 1-2 चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • केले का पेस्ट – ½ -1 छोटा चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।

केले का उपयोग कैसे करें

1. केले का रस
a. केले के पत्ते या तने का रस।
बी 1-2 चम्मच केले का रस लें।
सी। इसमें थोड़ा सा गुलाब जल मिलाएं।
डी इसे प्रभावित जगह पर 7-10 मिनट के लिए लगाएं।
इ। नल के पानी से अच्छी तरह धो लें।

2. केला ताजा पेस्ट
a. ½ – 1 चम्मच केले का ताजा पेस्ट लें।
बी इसमें शहद मिलाएं।
सी। प्रभावित क्षेत्र पर 4-5 मिनट के लिए लगाएं।
डी नल के पानी से अच्छी तरह धो लें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या केला अत्यधिक पौष्टिक है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, केला पौष्टिक होता है। केला पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है जो दैनिक पोटेशियम की 23% जरूरतों को पूरा करने में मदद करता है। यह पोटेशियम मांसपेशियों के समुचित कार्य के लिए आवश्यक है। केला भी फाइबर और विटामिन ए, बी 6, सी और डी का एक समृद्ध स्रोत है। केले की प्रत्येक सेवा में औसतन 70 कैलोरी होती है।

Q. क्या वर्कआउट से पहले केला खाया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केला पोटेशियम से भरपूर होता है। यह व्यायाम के दौरान उचित मांसपेशी संकुचन में मदद करता है। केले कैलोरी में भी उच्च होते हैं और कार्बोहाइड्रेट का समृद्ध स्रोत होते हैं। यह केले को ऊर्जा का बहुत अच्छा स्रोत बनाता है। इस प्रकार, कसरत से 30 मिनट पहले केला खाने से ऊर्जा बूस्टर के रूप में कार्य किया जा सकता है और मांसपेशियों की ऐंठन को भी रोकता है।

Q. क्या आप केले का छिलका खा सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि, केले का छिलका जहरीला नहीं होता है और इसका सेवन किया जा सकता है, यह लोकप्रिय नहीं है क्योंकि इसे अखाद्य माना जाता है। यह मैग्नीशियम, पोटेशियम, विटामिन बी6 और बी12 का अच्छा स्रोत है।

Q. क्या आप शहद और केला एक साथ खा सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

फलों के सलाद के रूप में केला और शहद को एक साथ आसानी से खाया जा सकता है। यह कब्ज के लिए अच्छा है, वजन घटाने में मदद करता है और शरीर को फिर से हाइड्रेट करता है।

Q. क्या मैं केले के तने का रस ले सकता हूँ?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, केले के तने का जूस सेहत के लिए अच्छा होता है। यह मूत्र प्रवाह को बढ़ाता है और गुर्दे की पथरी को दूर करने में मदद करता है। यह इसके Mutral (मूत्रवर्धक) गुण के कारण है।

Q. एक केले में कितनी कैलोरी होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केले की एक सर्विंग में लगभग 105 कैलोरी होती है।

Q. क्या केला दस्त के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हाँ, केला विशेष रूप से बच्चों में दस्त के प्रबंधन के लिए अच्छा है। हरा केला पेक्टिन से भरपूर होता है जिसे छोटी आंत पचा नहीं पाती है। पेक्टिन अपच के रूप में बृहदान्त्र में पहुंचता है और बाद में नमक और पानी के अवशोषण में मदद करता है।

Q. क्या केला गैस्ट्रिक अल्सर के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, केला गैस्ट्रिक अल्सर के प्रबंधन में मदद करता है। केला पेट में अम्लीय वातावरण को बेअसर करने में मदद करता है और पेट की परत पर एक लेप बनाता है। यह आगे अल्सर की जलन को कम करता है और उपचार को बढ़ावा देता है।

Q. क्या केला कब्ज के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, केला कब्ज के लिए अच्छा होता है। केला कई गैर-पचाने योग्य फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है जो मल त्याग को सामान्य करने में मदद करता है। केले में मौजूद पेक्टिन मल में बल्क जोड़ता है और पानी को सोखने में मदद करता है जिससे मल मुलायम हो जाता है।

Q. क्या केला रक्तचाप कम करने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, केला रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। केला पोटेशियम से भरपूर होता है जो रक्तचाप का नियामक है और स्ट्रोक के खतरे को कम करता है।
सुझाव:
पके केले कच्चे केले से बेहतर रक्तचाप को कम करते हैं।

Q. क्या अल्सर में केले की भूमिका होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, पेट को अल्सर और अल्सर से जुड़े नुकसान से बचाने में केले की भूमिका होती है। केले में मौजूद ल्यूकोसायनिडिन पेट की श्लेष्मा झिल्ली की मोटाई को बढ़ाता है। केले में एंटासिड गुण होता है। यह पेट में एसिड को बेअसर करने में मदद करता है। इस प्रकार, केला पेट के अल्सर को ठीक करने में मदद करता है, आगे की क्षति और नाराज़गी को रोकता है।
सुझाव:
केला और दूध का मिश्रण एसिड स्राव को कम करता है।

Q. क्या किडनी स्टोन में केले की भूमिका होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, किडनी स्टोन को बनने से रोकने में केले की भूमिका होती है। केला पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है जो मूत्र के माध्यम से कैल्शियम के उत्सर्जन को और कम करता है, इस प्रकार गुर्दे की पथरी के खतरे को कम करता है।

Q. क्या केला हैंगओवर को मैनेज करने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, केला हैंगओवर को मैनेज करने में मदद करता है। भारी शराब पीने से पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स का नुकसान होता है। केला इन महत्वपूर्ण इलेक्ट्रोलाइट्स का एक समृद्ध स्रोत है और शरीर को फिर से हाइड्रेट करने में मदद करता है। केला भारी शराब पीने के कारण पेट की ख़राबी को शांत करने में भी मदद करता है। केले को शहद के साथ लेने से अत्यधिक शराब पीने के कारण रक्त शर्करा के निम्न स्तर के कारण खोई हुई ऊर्जा वापस पाने में मदद मिलती है।
टिप:
केले को दूध और शहद के साथ मिलाकर बनाया गया कॉकटेल हैंगओवर के बाद के प्रभावों को दूर करने में मदद करता है।

Q. क्या डिप्रेशन को मैनेज करने में केले की भूमिका होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, केला डिप्रेशन को मैनेज करने में मदद करता है। केले में ट्रिप्टोफैन प्रोटीन होता है। ट्रिप्टोफैन जब शरीर में सेरोटोनिन में परिवर्तित होता है, तो मन को शांत करने में मदद करता है और खुशी की भावना को प्रेरित करता है।

Q. क्या केला दस्त का कारण बन सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कोई केला दस्त के लिए अच्छा नहीं है। इसमें मल त्याग और मल को नियंत्रित करने की प्रवृत्ति होती है। केले में मौजूद पोटेशियम आंत में पानी की मात्रा को संतुलित कर सकता है। यह मल गठन की उचित स्थिरता बनाए रखने में मदद करता है। इस प्रकार केला दस्त और कब्ज से पीड़ित लोगों के लिए उपयोगी है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

दस्त होने पर कच्चा केला खाने से लाभ होता है। यह आपके शरीर को अधिक पोषक तत्वों को अवशोषित करने में मदद करता है और इसकी ग्राही (शोषक) संपत्ति के कारण दस्त को नियंत्रित करता है।

Q. क्या केला अवसाद का कारण बनता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केला पोटेशियम का समृद्ध स्रोत है। तनाव और डिप्रेशन की स्थिति में हमारा मेटाबॉलिक रेट बढ़ जाता है जिससे पोटैशियम का स्तर कम हो जाता है। इसलिए रोजाना एक केला खाने से डिप्रेशन और तनाव से लड़ने में मदद मिलती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अवसाद वात दोष के असंतुलन के कारण हो सकता है। केला अपने वात संतुलन गुण के कारण अवसाद से लड़ने में मदद करता है।

Q. क्या दूध के साथ केला एक जहरीला संयोजन है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, केले और दूध को एक दूसरे के साथ असंगत कहा जाता है। केला खट्टा होता है और दूध मीठा होता है और यह संयोजन पाचन संबंधी कुछ समस्याएं पैदा कर सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार दूध के साथ केले का सेवन करने से बचना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह अग्नि को कमजोर कर सकता है जिससे अपच, मतली और पेट में भारीपन हो सकता है। यह अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) भी उत्पन्न कर सकता है और कफ को बढ़ा सकता है। इससे साइनस, कंजेशन, सर्दी और खांसी की बीमारी हो सकती है।

Q. क्या रात में केला खाना सुरक्षित है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

अपच, खांसी या दमा की स्थिति में आपको रात के समय केले का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह कफ दोष को बढ़ा सकता है। साथ ही केला एक भारी फल है और इसे पचने में समय लगता है। इसलिए सोने से 2-3 घंटे पहले इसका सेवन जरूर करें।

Q. क्या बनाना शेक वजन बढ़ाने में मददगार है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, केले का शेक वजन बढ़ाने में मददगार हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केला वजन बढ़ाने के साथ-साथ एनर्जी लेवल को बनाए रखने में भी मदद करता है। केले के शेक जैसे केले के शेक अपने बल्या (शक्ति प्रदान करने वाले) गुण के कारण वजन बढ़ाने में प्रभावी होते हैं।

Q. खाली पेट केला खाने के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

खाली पेट केला खाने से विटामिन सी की उपस्थिति के कारण हाइपरएसिडिटी हो जाती है। पोटेशियम से भरपूर होने के कारण केले को खाली पेट लेने से दिल की समस्या भी हो सकती है। इसलिए खाली पेट केला खाने की सलाह नहीं दी जाती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केला एक संपूर्ण भोजन है जिसे खाली पेट नहीं लेना चाहिए क्योंकि इसमें गुरु (भारी) गुण होता है जिससे इसे पचाना मुश्किल हो जाता है। इससे एसिडिटी और अपच जैसी स्थितियां हो सकती हैं।

Q. क्या केले आपको मुंहासे दे सकते हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

केले आपकी मुंहासों वाली त्वचा के लिए अच्छे नहीं हो सकते हैं क्योंकि वे आपकी त्वचा को अधिक तेल पैदा कर सकते हैं जिससे मुंहासे निकल सकते हैं। यह इसकी स्निग्धा (तैलीय) प्रकृति के कारण है। इसलिए बेहतर होगा कि केले को त्वचा पर लगाने से बचें। गुलाब जल के साथ केले का पैक बनाना एक विकल्प हो सकता है।

Q. क्या केले बालों को बढ़ने में मदद कर सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, केले बालों के विकास में मदद कर सकते हैं क्योंकि वे एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन, खनिज, प्राकृतिक तेलों और सबसे महत्वपूर्ण अमीनो एसिड से भरे होते हैं। केले में मौजूद अमीनो एसिड आर्जिनिन बालों के विकास में मदद करता है जबकि इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण बालों को नुकसान से बचाते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

बाल्या (शक्ति प्रदाता) गुण के कारण केला बालों के विकास में फायदेमंद हो सकता है जो बालों के विकास के लिए आवश्यक कुछ पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने में मदद करता है। यह असंतुलित वात दोष के कारण होने वाले बालों के झड़ने की स्थिति को रोकने में भी मदद करता है। यह अपने वात संतुलन और स्निग्धा (तैलीय) गुणों के कारण सूखे बालों को मॉइस्चराइज़ करता है और गुणवत्ता में सुधार करता है।

Q. केले के छिलके को चेहरे पर मलने से क्या होता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केले का छिलका अपने एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण त्वचा को साफ और निखारता है। केला अपने उपचार गुणों के कारण चेहरे पर निशान और घावों को कम करने में भी मदद कर सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केले का छिलका अपने स्निग्धा (तैलीय प्रभाव) और रोपन (उपचार) गुणों के कारण चेहरे पर लगाने पर चमक और चमक प्रदान करने में मदद करता है। यह आपकी त्वचा की नमी को बनाए रखने में मदद करता है, त्वचा को तेजी से ठीक करता है और आपके चेहरे को प्राकृतिक चमक प्रदान करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.