Search
Generic filters

Eucalyptus oil | नीलगिरी का तेल के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

नीलगिरी का तेल

नीलगिरी के पेड़ विभिन्न औषधीय लाभों वाले सबसे ऊंचे पेड़ों में से एक हैं। नीलगिरी का तेल नीलगिरी के पत्तों के अर्क से प्राप्त किया जाता है। यह एक हल्के पीले रंग का तेल है जिसमें एक विशिष्ट गंध होती है जिसे औषधीय प्रयोजनों के लिए इस्तेमाल करने से पहले पतला होना चाहिए।
नारियल के तेल जैसे वाहक तेल के साथ नीलगिरी के तेल का सामयिक अनुप्रयोग मुँहासे के प्रबंधन के लिए फायदेमंद है। यह अपने जीवाणुरोधी गुण के कारण मुँहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया की गतिविधि को रोकता है। कुछ त्वचा संक्रमणों से लड़ने में मदद करने के लिए गर्म पानी में नीलगिरी का तेल (2-3 बूंदें) भी मिलाया जा सकता है। छाती और पीठ पर नीलगिरी के तेल की मालिश करने से सर्दी, खांसी और नाक की भीड़ से राहत मिलती है क्योंकि यह बलगम के स्राव को बढ़ावा देता है ताकि वायुमार्ग को साफ किया जा सके और श्वसन संबंधी कुछ संक्रमणों को नियंत्रित किया जा सके। यह अपने विरोधी भड़काऊ गुण के कारण ब्रोंकाइटिस के मामले में भी उपयोगी पाया जाता है क्योंकि यह वायुमार्ग में सूजन को कम करता है और सांस लेने में मदद करता है। बालों के विकास को बेहतर बनाने में मदद के लिए आप अपनी दाढ़ी पर नीलगिरी का तेल भी लगा सकते हैं।
नीलगिरी के तेल को बच्चों की पहुंच से दूर रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसके मौखिक प्रशासन से मुंह और गले में जलन, उल्टी, सांस की समस्या और यहां तक ​​कि दौरे जैसे विभिन्न दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

नीलगिरी के तेल के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

यूकेलिप्टस ग्लोब्युलस, एकलिप्ता, सुगंध पत्र, ब्लू गम, यूकेलिप्टस, युकेलिप्टस, युक्कालीमाराम, नीलगिरि, जीवकामु, तैलपर्ना, नीलानिरसा

नीलगिरी के तेल का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

नीलगिरी के तेल के फायदे

अस्थमा के लिए नीलगिरी के तेल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी के तेल में एक यौगिक होता है जिसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं। यह उन रसायनों को रोकता है जो सूजन का कारण बनते हैं और इस प्रकार श्वसन पथ की सूजन को कम करते हैं। जिससे दमा के रोगी को सांस लेने में आसानी होती है। इसके कारण, यह दीर्घकालिक ब्रोन्कियल अस्थमा [3-5] के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नीलगिरी का तेल अस्थमा के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार, अस्थमा में शामिल मुख्य दोष वात और कफ हैं। दूषित ‘वात’ फेफड़ों में विक्षिप्त ‘कफ दोष’ के साथ जुड़ जाता है, जिससे श्वसन मार्ग में रुकावट आती है। इससे सांस लेने में दिक्कत होती है। इस स्थिति को स्वस रोग या अस्थमा के रूप में जाना जाता है। यूकेलिप्टस का तेल पीठ और छाती पर लगाने से कफ शांत होता है और फेफड़ों में जमा बलगम ढीला होता है। इससे अस्थमा के लक्षणों से राहत मिलती है।
सुझाव:
ए. नीलगिरी के तेल की 2-4 बूंदें लें।
बी 1 -2 चम्मच नारियल तेल के साथ पतला करें।
सी। अस्थमा के लक्षणों से राहत पाने के लिए छाती और पीठ पर मालिश करें।

वायुमार्ग की सूजन (ब्रोंकाइटिस) के लिए नीलगिरी के तेल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी का तेल अपने विरोधी भड़काऊ और एंटी-एलर्जी गुणों के कारण ब्रोंकाइटिस के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है। नीलगिरी का तेल नाइट्रिक ऑक्साइड के उत्पादन को रोकता है जो सूजन संबंधी बीमारियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह ब्रोंकाइटिस के लक्षणों को प्रबंधित करने में भी उपयोगी है, जैसे कि लगातार खांसी जिसके कारण सांस लेने में कठिनाई होती है [3-6]।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अगर आपको ब्रोंकाइटिस जैसी खांसी से जुड़ी समस्या है तो यूकेलिप्टस का तेल काम आता है। आयुर्वेद में इस रोग को कसरोगा के नाम से जाना जाता है। नीलगिरी के तेल से मालिश करने से बलगम का अतिरिक्त संचय कम हो जाता है और कफ संतुलन और उष्ना (गर्म) गुणों के कारण सूजन कम हो जाती है।
सुझाव:
1. नीलगिरी के तेल की 2-4 बूंदें लें।
2. 1 -2 चम्मच नारियल के तेल के साथ पतला करें।
3. ब्रोंकाइटिस में जमाव से राहत पाने के लिए छाती और पीठ पर मालिश करें।

नाक बंद (बंद नाक) के लिए नीलगिरी के तेल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, नीलगिरी का तेल सर्दी और साइनस की भीड़ के कारण नाक की भीड़ के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नीलगिरी का तेल नाक की भीड़ को नियंत्रित करने में मदद करता है। सर्दी के मौसम में कफ की अधिकता के कारण बलगम चिपचिपा और गाढ़ा हो जाता है। इससे नाक बंद हो जाती है। नीलगिरी का तेल लगाने या साँस लेने से बलगम द्रवीभूत हो जाता है। यह इसकी कफ संतुलन संपत्ति के कारण है।
टिप्स:
1. एक कटोरी में 2-4 बूंद यूकेलिप्टस तेल की डालें।
2. अपने चेहरे को तौलिये से ढकें और 5-10 मिनट के लिए सांस लें।
3. नाक बंद होने से राहत पाने के लिए इसे दिन में एक या दो बार दोहराएं।

दंत पट्टिका के लिए नीलगिरी के तेल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी के तेल में जीवाणुरोधी और एंटीप्लाक गुण होते हैं। इन गुणों के कारण, यह दंत पट्टिका के संचय को रोकने और कम करने में उपयोगी हो सकता है।

मसूढ़ों की सूजन के लिए नीलगिरी के तेल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मसूड़े की सूजन एक मसूड़ों की बीमारी है जो मसूड़ों की सूजन का कारण बनती है। नीलगिरी के तेल में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जिसके कारण यह मसूड़े की सूजन पैदा करने वाले बैक्टीरिया के विकास को रोकने में उपयोगी हो सकता है।

मुंह से दुर्गंध के लिए नीलगिरी के तेल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन नीलगिरी का तेल सांसों की दुर्गंध को नियंत्रित करने में उपयोगी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नीलगिरी के तेल को पानी में गरारे करने पर सांसों की दुर्गंध को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। नीलगिरी के तेल में एक सुखद गंध होती है जो सांसों की दुर्गंध को कम कर सकती है। गरारे का पानी पीने से बचें।
सुझाव:
ए. एक गिलास गर्म पानी में 2-4 बूंद यूकेलिप्टस के तेल की डालें।
बी सांसों की दुर्गंध को दूर करने के लिए सुबह गरारे करें।

सिरदर्द के लिए नीलगिरी के तेल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

पुदीने के तेल के साथ नीलगिरी के तेल का सामयिक अनुप्रयोग मानसिक रूप से आराम देने वाला प्रभाव हो सकता है और बेहतर सोचने में मदद कर सकता है। हालांकि, यह दर्द को पूरी तरह से कम नहीं कर सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नीलगिरी का तेल आम सर्दी से जुड़े सिरदर्द से राहत दे सकता है। इस प्रकार का सिरदर्द मुख्य रूप से कफ की अधिकता के कारण होता है। नीलगिरी का तेल जब माथे पर लगाया जाता है या साँस में लिया जाता है तो कफ संतुलन गुण के कारण बलगम को हटाने में मदद करता है। इसमें एक सुखद गंध भी होती है जो मन को शांत करने में मदद करती है।
सुझाव:
ए. एक कटोरी में 2-4 बूंद यूकेलिप्टस तेल की डालें।
बी अपने चेहरे को तौलिये से ढकें और 5-10 मिनट के लिए श्वास लें।
सी। सिर दर्द से राहत पाने के लिए इसे दिन में एक या दो बार दोहराएं।

घाव के संक्रमण के लिए नीलगिरी के तेल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, नीलगिरी का तेल घावों के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नीलगिरी का तेल घाव को जल्दी भरने में मदद करता है, सूजन को कम करता है और त्वचा की सामान्य बनावट को वापस लाता है। नारियल के तेल के साथ नीलगिरी का तेल अपने रोपन (उपचार) गुणों के कारण त्वरित उपचार और सूजन को कम करने में मदद करता है।
सुझाव:
1. नीलगिरी के तेल की 2-4 बूंद लें।
2. 1 -2 चम्मच नारियल के तेल के साथ पतला करें।
3. घाव के जल्दी ठीक होने के लिए दिन में एक या दो बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

सिर की जूँ के लिए नीलगिरी के तेल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी के तेल में मौजूद कुछ यौगिकों का सिर की जूँ के अंडे और वयस्क मादा जूँ के खिलाफ विषाक्त प्रभाव पड़ता है। इस प्रकार, सिर की जूँ के प्रबंधन में नीलगिरी के तेल का छिड़काव या सिर की त्वचा पर लगाना उपयोगी हो सकता है [१४-१६]।

मुँहासे के लिए नीलगिरी के तेल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी का तेल मुंहासों के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है। नीलगिरी के तेल में मौजूद कुछ यौगिकों में जीवाणुरोधी गुण होते हैं। नीलगिरी के तेल (तेल या क्रीम के रूप में) का सामयिक अनुप्रयोग मुँहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया की गतिविधि को रोकता है। त्वचा पर लगाने से पहले हमेशा नीलगिरी के तेल को नारियल के तेल या किसी वाहक तेल के साथ मिलाएं।

कितना कारगर है नीलगिरी का तेल?

अपर्याप्त सबूत

मुँहासा, भूख उत्तेजक, दमा, मुँह से दुर्गंध, जलन, दाँत की मैल, सिर की जूँ, सिर दर्द, मसूड़ों की सूजन, वायुमार्ग की सूजन (ब्रोंकाइटिस), इन्फ्लुएंजा (फ्लू), नाक बंद (बंद नाक), घाव का संक्रमण

नीलगिरी के तेल का उपयोग करते समय सावधानियां

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी के तेल को सीधे त्वचा पर लगाने से बचें। इसे त्वचा पर लगाने से पहले नारियल के तेल से पतला करें।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

स्तनपान के दौरान नीलगिरी के तेल से बचें।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान नीलगिरी के तेल से बचें।

नीलगिरी के तेल का उपयोग कैसे करें

1. नीलगिरी का तेल
A. कंजेशन
a. नीलगिरी के तेल की 2-5 बूंदें लें।
बी 1 चम्मच नारियल तेल से पतला करें
c. कंजेशन और खांसी से राहत पाने के लिए छाती पर मालिश करें।
या,
1. एक बड़े कटोरे में थोड़ा सा उबलता पानी लें।
2. पानी में नीलगिरी के तेल की 2-5 बूंदें डालें।
3. अपने चेहरे को तौलिए से ढक लें।
4. सर्दी, खांसी और नाक बंद होने से राहत पाने के लिए भाप को 5-7 मिनट तक अंदर लें।

बी दर्द से राहत
ए। नीलगिरी के तेल की 2-4 बूंदें लें।
बी 1-2 चम्मच नारियल तेल के साथ पतला करें।
सी। दर्द से राहत पाने के लिए प्रभावित जगह पर मालिश करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या नहाने के पानी में नीलगिरी का तेल डालना ठीक है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी के तेल से स्नान करने से आपको तनाव और दर्द से राहत मिल सकती है। नहाने के पानी में 1-2 बूंद तेल डालें।
लेकिन, नहाने के पानी में तेल डालने से पहले स्किन एलर्जी टेस्ट कराने की सलाह दी जाती है। इस टेस्ट को करने के लिए:
1. 1 बूंद नीलगिरी के तेल में 1 बूंद नारियल का तेल मिलाकर त्वचा पर लगाएं।
2. इसे 15-20 मिनट तक बैठने दें और त्वचा में किसी भी प्रकार की जलन के लिए देखें।
3. अगर आपको कोई प्रतिक्रिया नहीं मिलती है तो आप नहाने के पानी में नीलगिरी के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

प्र. आप नीलगिरी के तेल का उपयोग मच्छर भगाने के लिए कैसे करते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी के तेल को मच्छर भगाने के लिए इस्तेमाल करने के लिए:
1. तेल को इन्फ्यूसर में डालें।
2. या स्प्रे बोतलों में।

प्र. सर्दी और नाक बंद होने की स्थिति में आप नीलगिरी के तेल का उपयोग कैसे करते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी के तेल को वाष्प के रूप में अंदर लिया जा सकता है:
1. एक बड़े कटोरे में थोड़ा सा उबलता पानी लें।
2. पानी में नीलगिरी के तेल की 2-5 बूंदें डालें।
3. अपने चेहरे को तौलिए से ढक लें।
4. सर्दी, खांसी और नाक बंद होने से राहत पाने के लिए भाप को 5-7 मिनट तक अंदर लें।

Q. क्या नीलगिरी के तेल को अंदर लेना सुरक्षित है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हाँ, नीलगिरी का तेल गर्म पानी में डालने के बाद साँस लेना सुरक्षित है। यह नाक की भीड़ को दूर करने में मदद करता है और बलगम को हटाकर सिरदर्द को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह इसकी कफ संतुलन संपत्ति के कारण है।

Q. नीलगिरी इंसानों के लिए जहरीला है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, नीलगिरी का तेल जहरीला होता है। अधिक मात्रा में तेल के आंतरिक सेवन से विषाक्तता हो सकती है। नीलगिरी के तेल को आंतरिक रूप से लेते समय अपने चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

Q. क्या नीलगिरी का तेल दाढ़ी बढ़ाने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

दाढ़ी के विकास में नीलगिरी के तेल की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि, खोपड़ी पर लगाने पर नीलगिरी का तेल सिरामाइड के स्तर को बढ़ाता है जो बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार हो सकता है। नीलगिरी का तेल बालों की बनावट के साथ-साथ चमक में भी सुधार करता है और दाढ़ी के समग्र स्वास्थ्य को भी बढ़ावा दे सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नीलगिरी का तेल अपनी स्निग्धा (तैलीय) और कफ संतुलन संपत्ति के कारण दाढ़ी के विकास में मदद कर सकता है। यह दाढ़ी को मॉइस्चराइज़ करता है और इसे सूखने से रोकता है, जिससे बालों का गिरना रुक जाता है। इससे बालों की गुणवत्ता भी बढ़ती है और दाढ़ी में चमक आती है।

Q. क्या नीलगिरी का तेल खटमल को दूर करने के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, नीलगिरी का तेल खटमल को दूर करने में मदद कर सकता है। नीलगिरी के तेल में प्राकृतिक कीटनाशक यौगिक होते हैं जो कि सिमेक्स लेक्टुलरियस प्रजाति जैसे बिस्तर कीड़े के खिलाफ प्रभावी होते हैं। यह बेडबग्स के विकास को रोकता है, अंततः उन्हें मार देता है।

Q. क्या नीलगिरी का तेल बच्चों के लिए सुरक्षित है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, नीलगिरी का तेल बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं हो सकता है। बच्चों में नीलगिरी के तेल के मौखिक प्रशासन से मुंह और गले में जलन, उल्टी, सांस की समस्या और यहां तक ​​कि दौरे जैसे अवांछनीय दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इसलिए सलाह दी जाती है कि नीलगिरी का तेल और नीलगिरी के तेल से युक्त तैयारी बच्चों से दूर रखें।

Q. क्या आप नीलगिरी का तेल पी सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, नीलगिरी के तेल को मौखिक रूप से नहीं लेना चाहिए क्योंकि यह हानिकारक हो सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि नीलगिरी के तेल को लेने से कई हानिकारक प्रभाव सामने आए हैं। नीलगिरी के तेल का उपयोग दंत चिकित्सा में भी एक विरोधी भड़काऊ एजेंट के रूप में किया गया है और इसके दुष्प्रभाव जैसे मुंह में जलन और मसूड़ों पर केवल सामयिक आवेदन पर अल्सरेशन है।

Q. बालों के लिए नीलगिरी के तेल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नीलगिरी का तेल बालों के लिए अच्छा होता है क्योंकि इसमें कुछ ऐसे घटक होते हैं जो खोपड़ी पर लगाने पर सेरामाइड उत्पादन को उत्तेजित करते हैं। सिरामाइड मुख्य रूप से बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार होता है। नीलगिरी का तेल अपने रोगाणुरोधी और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण बालों की बनावट, चमक और समग्र खोपड़ी के स्वास्थ्य में भी सुधार करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नीलगिरी का तेल अपने स्निग्धा (तैलीय) और कफ संतुलन गुण के कारण बालों के विकास में मदद कर सकता है। यह बालों और स्कैल्प को नमीयुक्त रखता है और रूखेपन को रोकता है जिससे बाल झड़ सकते हैं। यह बालों की गुणवत्ता और चमक को भी बढ़ावा देता है और बालों के समग्र स्वास्थ्य में सुधार करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.