Search
Generic filters

Ghee | घी के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

घी

घी, जिसे आयुर्वेद में घृत के रूप में भी जाना जाता है, जड़ी-बूटियों के गुणों को शरीर के गहरे ऊतकों तक पहुंचाने के लिए एक उत्कृष्ट अनुपान (चिकित्सीय वाहन) है। घी दो प्रकार का होता है; एक डेयरी दूध से और दूसरा वनस्पति तेल से बनाया जाता है जिसे वनस्पति घी या वनस्पति घी कहा जाता है। डेयरी घी शुद्ध, पौष्टिक और स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है क्योंकि यह वसा में घुलनशील विटामिन (ए, डी, ई और के) का एक समृद्ध स्रोत है। यह हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है और शरीर को पोषण और शक्ति प्रदान करता है।
घी भारतीय आहार में सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला दूध उत्पाद है जो भोजन के उचित पाचन और अवशोषण को बढ़ावा देता है जो शरीर में विषाक्त पदार्थों के संचय को कम करता है। यह भूख को नियंत्रित करके और अधिक खाने की इच्छा को कम करके वजन घटाने में भी मदद करता है।
आयुर्वेद के अनुसार, अपने दैनिक आहार में घी का नियमित उपयोग प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए बार-बार होने वाले संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। घी अपने रेचक गुण के कारण मल त्याग को बढ़ावा देकर कब्ज से राहत दिलाने में भी मदद करता है। घी को मस्तिष्क के लिए भी अच्छा माना जाता है क्योंकि यह अपने वात और बल्या गुणों के कारण मस्तिष्क के समग्र कामकाज में सुधार करता है।
घी का सामयिक अनुप्रयोग घाव को जल्दी भरने में भी मदद करता है और इसके विरोधी भड़काऊ गुण के कारण सूजन को कम करता है। यह अपने सीता (ठंडा) गुण के कारण होने वाली जलन से भी राहत देता है। घी झुर्रियों को नियंत्रित करने में मदद करता है और त्वचा की नमी को बढ़ाता है।
सर्दी-खांसी होने पर इसकी ठण्डी शक्ति के कारण अधिक मात्रा में घी से परहेज करने की सलाह दी जाती है। अत्यधिक सेवन से उल्टी और दस्त भी हो सकते हैं।

घी के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

गावा घी, गावा घृत, मक्खन, गया घी, तुप्पा, पासु, नेय, पासु नी, तोप, गया घिया, नी, नेयी, नी, गया का घी।

घी का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

घी के फायदे

1. कुपोषण
कुपोषण को आयुर्वेद में कार्श्य रोग से जोड़ा जा सकता है। यह पोषक तत्वों की कमी और अनुचित पाचन के कारण होता है। घी का नियमित उपयोग कुपोषण को प्रबंधित करने में मदद करता है। ऐसा इसके कफ बढ़ाने वाले गुण के कारण होता है जो शरीर को ताकत देता है। घी तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है और शरीर की कैलोरी की आवश्यकता को पूरा करता है।

2. कमजोर याददाश्त,
नींद न आना और तनाव कमजोर याददाश्त या याददाश्त संबंधी विकार के मुख्य कारण होते हैं। घी का उपयोग मस्तिष्क टॉनिक के रूप में एकाग्रता में सुधार और याददाश्त बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह इसके वात संतुलन और बल्या (शक्ति प्रदाता) गुणों के कारण है।

3. भूख में कमी
घी को दैनिक आहार का हिस्सा बनाने पर भूख में सुधार करने में मदद मिलती है। आयुर्वेद में, अग्निमांड्य (कमजोर पाचन) के कारण भूख कम लगना है। यह वात, पित्त और कफ दोषों के बढ़ने के कारण होता है जिससे भोजन का पाचन अधूरा रह जाता है। इससे पेट में गैस्ट्रिक जूस का अपर्याप्त स्राव होता है जिसके परिणामस्वरूप भूख कम लगती है। प्रतिदिन घी का सेवन करने से पाचक अग्नि उत्तेजित होती है और भूख में सुधार होता है।

4. संक्रमण
बार-बार होने वाला घी मौसम में बदलाव के कारण खांसी और सर्दी, एलर्जिक राइनाइटिस जैसे बार-बार होने वाले संक्रमण को नियंत्रित करने में मदद करता है। ऐसी स्थितियों के लिए घी सबसे अच्छे आयुर्वेदिक उपचारों में से एक है। आहार में घी का नियमित उपयोग बार-बार होने वाले संक्रमण से लड़ने के लिए प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। यह इसके ओजस (प्रतिरक्षा) के कारण संपत्ति को बढ़ाता है।

घी का प्रयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

1. अनुशंसित खुराक और अवधि में घी लें जब एक दवा के रूप में उपयोग किया जाता है, एक उच्च खुराक उल्टी और दस्त का कारण बन सकता है।
2. लीवर की समस्या जैसे पीलिया और फैटी लीवर होने पर घी से परहेज करें।
3. खांसी-जुकाम ज्यादा हो तो घी कम मात्रा में लें। ऐसा इसलिए है क्योंकि घी में ठंडी शक्ति होती है।
4. घी खाने के बाद अपच होने पर छाछ या गर्म पानी लें।

स्तनपान

आयुर्वेदिक नजरिये से

स्तनपान के दौरान घी का सेवन भोजन की मात्रा में किया जा सकता है।

गर्भावस्था

आयुर्वेदिक नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान हमेशा घी को डाइट में शामिल करें। आप पहली तिमाही में घी का सेवन शुरू कर सकती हैं। लेकिन अगर वजन बढ़ना चिंता का विषय है या आप पहले से ही अधिक वजन वाले हैं, तो अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद घी को अपने आहार में शामिल करने की सलाह दी जाती है।

घी का उपयोग कैसे करें

उ. कब्ज के लिए
रात को सोने से पहले 1-2 चम्मच घी गर्म दूध के साथ लेने से कब्ज दूर होता है।

ख. सिरदर्द के
लिए दिन में एक या दो बार सिरदर्द से राहत पाने के लिए प्रत्येक नथुने में घी की 2-3 बूंदें डालें।

ग. रूखापन दूर करने के लिए
1-2 चम्मच घी खाली पेट लेने से शरीर का सूखापन कम होता है।
बेहतर परिणाम के लिए इसे तीन महीने तक दिन में एक बार लें।

D. रोजाना खाना पकाने के
लिए अपने दैनिक भोजन को पकाने के लिए 1-2 चम्मच घी लें।

घी के फायदे

1. घाव भरने वाला घाव
घी को जल्दी भरने में मदद करता है, सूजन कम करता है और त्वचा की सामान्य बनावट को वापस लाता है क्योंकि इसकी रोपन (उपचार) प्रकृति है। यह सीता (ठंडा) गुण के कारण शीतलता प्रदान कर सूजन और जलन को भी कम करता है।

2. एंटी-रिंकल
झुर्रियां उम्र बढ़ने, रूखी त्वचा और नमी की कमी के कारण होती हैं। आयुर्वेद के अनुसार, यह बढ़े हुए वात के कारण होता है। घी झुर्रियों को नियंत्रित करने में मदद करता है और त्वचा में नमी की मात्रा को बढ़ाता है क्योंकि इसकी स्निग्धा (तैलीय) प्रकृति और वात संतुलन प्रकृति है।

3. बालों का झड़ना बालों के झड़ने
घी को नियंत्रित करने और खोपड़ी पर लगाने पर बालों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बालों का झड़ना मुख्य रूप से शरीर में बढ़े हुए वात दोष के कारण होता है। घी वात दोष को संतुलित करके बालों के झड़ने पर काम करता है। यह बालों के विकास को भी बढ़ावा देता है और अतिरिक्त सूखापन को दूर करता है। यह इसके स्निग्धा (तैलीय) और रोपन (उपचार) गुणों के कारण है।

4. जोड़ों का दर्द
प्रभावित जगह पर लगाने पर घी हड्डियों और जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार, हड्डियों और जोड़ों को शरीर में वात का स्थान माना जाता है। जोड़ों में दर्द मुख्य रूप से वात असंतुलन के कारण होता है। घी से मालिश करने से वात संतुलन गुण के कारण जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद मिलती है।

घी का प्रयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

1. यदि आपकी त्वचा बहुत अधिक तैलीय है तो घी का प्रयोग कम मात्रा में या वैकल्पिक दिनों में करें।
2. बालों में लगाने से पहले घी को नारियल तेल में मिलाकर पतला कर लें।

घी का उपयोग कैसे करें

उ. रूखी त्वचा के
लिए शुष्कता और सूजन से बचाव के लिए दिन में एक बार या सप्ताह में तीन बार सीधे त्वचा पर घी का प्रयोग करें।

B. सूखे होठों के लिए होठों
पर चीनी के साथ घी लगाएं और मृत कोशिकाओं को हटाने के लिए स्क्रब करें।

ग. सिरदर्द के
लिए दिन में एक बार सिर दर्द से राहत पाने के लिए माथे और पैरों पर घी से मालिश करें।

D. बालों के झड़ने के लिए बालों का झड़ना
कम करने के लिए सप्ताह में तीन बार खोपड़ी पर नारियल के तेल के साथ घी लगाएं।

ई. घाव भरने के लिए घाव
पर हल्दी पाउडर के साथ घी लगाने से घाव जल्दी ठीक होता है और जलन कम होती है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या घी मक्खन से ज्यादा सेहतमंद है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

वैसे तो घी सेहतमंद और विटामिन से भरपूर होता है लेकिन अगर हम कैलोरी की बात करें तो मक्खन में घी की तुलना में कम कैलोरी होती है।

Q. क्या आपको घी को रेफ्रिजरेट करने की जरूरत है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

बंद ढक्कन वाले जार में रखने पर कमरे के तापमान पर घी की शेल्फ लाइफ 3 महीने की होती है।
अगर फ्रिज में स्टोर किया जाए तो यह 1 साल तक भी ताजा रह सकता है। प्रशीतन इसकी कोमलता और बनावट को प्रभावित नहीं करता है। कमरे के तापमान पर रखने या गर्म करने पर यह फिर से पिघल जाएगा।

Q. एक चम्मच घी में कितनी कैलोरी होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1 चम्मच घी में लगभग 50-60 कैलोरी होती है।

Q. क्या मैं अपने बालों पर घी का इस्तेमाल कर सकता हूं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, बालों में घी का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह इसे रूखेपन से बचाएगा और इसे मुलायम और चमकदार बनाएगा।
टिप्स:
1. 1 चम्मच घी लें और उसमें 1 चम्मच नारियल तेल मिलाएं।
2. स्कैल्प और बालों पर 10-15 मिनट तक मसाज करें।
3. इसे 2-3 घंटे के लिए रख दें।
4. किसी भी माइल्ड शैम्पू से धो लें।

Q. क्या घी मल को नरम करने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, घी मल को नरम करने में मदद करता है। यह मल के आसान मार्ग के लिए पाचन तंत्र को चिकनाई देने में मदद करता है। अपने तैलीय स्वभाव के कारण यह मल को मुलायम बनाता है। यह पेट फूलना और सूजन जैसे अपच के लक्षणों को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

Q. क्या वजन घटाने में घी की भूमिका है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, वजन घटाने में घी की भूमिका होती है। यह भोजन के तेजी से पाचन और अवशोषण में मदद करता है। यह पेट में एसिड के स्राव में मदद करता है जो भोजन के पाचन में मदद करता है। यह मस्तिष्क में तृप्ति केंद्र को उत्तेजित करने में भी मदद करता है। यह भूख को नियंत्रित करने में मदद करता है, इस प्रकार वजन घटाने में मदद करता है।

Q. क्या घी दिमाग के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां घी दिमाग के लिए अच्छा होता है। यह समग्र मानसिक कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह मानसिक सतर्कता और याददाश्त में सुधार करता है।

Q. क्या घी सेहत के लिए अच्छा है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हाँ, घी स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है जब इसे दैनिक आधार पर लिया जाता है। यह ओजस (प्रतिरक्षा) बढ़ाने वाली संपत्ति के कारण अच्छे पाचन अग्नि को बढ़ावा देने और आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करता है।

Q. क्या घी पेट के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, घी पेट के लिए अच्छा होता है क्योंकि यह पेट की अंदरूनी परत को गैस्ट्रिक जूस से बचाता है। यह इसके रोपन (उपचार) और सीता (ठंड) संपत्ति के कारण है।

प्र. क्या घी सूजन के लिए अच्छा है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हाँ, घी अपने रोपन (उपचार) और सीता (ठंड) गुणों के कारण सूजन के लक्षणों के प्रबंधन के लिए अच्छा है।

Q. क्या घी शरीर को गर्म करता है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

नहीं, घी में सीता (ठंडा) शक्ति होती है और यह शरीर को गर्म नहीं करती है।

Q. क्या यह सच है कि देसी घी कोलेस्ट्रॉल कम करने में उपयोगी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, देसी घी का सेवन कोलेस्ट्रॉल कम करने में फायदेमंद हो सकता है। देसी घी में कुछ घटक (लिनोलिक एसिड) होते हैं जो खराब कोलेस्ट्रॉल (कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल-एलडीएल) के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल बायोसिंथेसिस (शरीर में कोलेस्ट्रॉल बनने की प्राकृतिक प्रक्रिया) को भी रोकता है और मल में कोलेस्ट्रॉल के उत्सर्जन को बढ़ाता है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में काफी मदद करता है। यह धमनियों में प्लाक बनने से भी रोकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

उच्च कोलेस्ट्रॉल एक ऐसी स्थिति है जो कमजोर या खराब पाचन के कारण होती है। इससे शरीर में अत्यधिक वसा या अमा के रूप में विषाक्त पदार्थों का निर्माण होता है (अपूर्ण पाचन के कारण शरीर में विष रहता है) जो रक्त वाहिकाओं को और अवरुद्ध कर देता है। देसी घी अपने पचक (पाचन) और पित्त संतुलन गुणों के कारण इस स्थिति को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। यह भोजन के उचित पाचन में मदद करता है और विषाक्त पदार्थों के निर्माण और संचय को कम करता है और कोलेस्ट्रॉल को प्रबंधित करने में मदद करता है।

Q. क्या घी बंद नाक के लिए उपयोगी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, बंद नाक के लिए घी उपयोगी हो सकता है। बंद नाक या नाक की रुकावट को नाक की बूंदों के रूप में घी के प्रशासन द्वारा साफ किया जा सकता है क्योंकि यह नाक के मार्ग को चिकनाई देता है और नाक गुहा (नाक म्यूको-सिलिअरी फ़ंक्शन के रूप में जाना जाता है) की स्व-समाशोधन प्रणाली में सुधार करता है। यह क्रिया नाक के बलगम के माध्यम से धूल जैसे विदेशी कणों को बाहर निकालने में मदद करती है और इस प्रकार वायुमार्ग को साफ करने में मदद करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

कफ दोष के बढ़ने के कारण नाक बंद हो जाती है जिससे बलगम का निर्माण होता है जो नाक के मार्ग को अवरुद्ध करता है। देसी घी अपनी कफ संतुलन संपत्ति के कारण इस स्थिति को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह श्लेष्म के उत्पादन को कम करने में मदद करता है जो श्वास को आसान बनाता है।

Q. क्या घी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, घी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने और बढ़ाने में मदद कर सकता है। घी में फैटी एसिड होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करते हैं (इसकी इम्युनोस्टिमुलेंट संपत्ति के कारण)। इससे यह शरीर को कई तरह के रोगों से बचाता है और लंबी उम्र बढ़ाता है। घी से शरीर की मालिश करने से शरीर में कुछ रसायन उत्पन्न होते हैं (जिन्हें एंडोर्फिन कहा जाता है) जो प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को विनियमित करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने पर पाचन क्रिया खराब होने से रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित हो सकती है। देसी घी अपनी पचक (पाचन) संपत्ति के कारण प्रतिरक्षा में सुधार कर सकता है जो आपके पाचन में सुधार करने में मदद करता है और आपके शरीर को उचित पोषण भी प्रदान करता है। यह अपने बल्या (शक्ति प्रदाता) संपत्ति के कारण शरीर की ताकत को बढ़ाने में भी मदद करता है। ताकत के साथ-साथ उचित पोषण आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है।

प्र. दूध के साथ घी लेने से क्या लाभ होता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

घी को दूध के साथ लेने से मल त्याग को बढ़ावा मिलता है। यह आंतों को चिकनाई देता है और आंत के माध्यम से मल के प्रवाह को आसान बनाता है।
सुझाव: सोने से पहले गर्म दूध में दो चम्मच घी मिलाकर पीने से मल त्याग में मदद मिलती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

दूध के साथ घी लेने से कब्ज दूर होता है क्योंकि घी में स्निग्धा (तैलीय) गुण होता है और दूध में रेचक (रेचक) गुण होता है जिसके कारण यह आंतों को साफ करने में मदद करता है और मल त्याग को पूर्ण और साफ करता है।

Q. चेहरे के लिए गाय के घी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

चेहरे के लिए गाय के घी की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि, घी त्वचा की कुछ समस्याओं जैसे स्केलिंग, खुजली, त्वचा पर चकत्ते, एरिथेमा या सूजन के प्रबंधन में मदद कर सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

त्वचा की समस्याएं जैसे खुजली, जलन या रंजकता आमतौर पर तीन दोषों में से किसी एक के असंतुलन के कारण होती है। गाय का घी अपने वात, पित्त और कफ संतुलन गुणों के कारण इन समस्याओं का प्रबंधन करने में मदद करता है। यह त्वचा को पोषण देता है, मूल रंगत में सुधार करता है और आपके चेहरे की प्राकृतिक चमक और चमक को बनाए रखने में मदद करता है।

This entry was posted in Ghee and tagged .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.