Search
Generic filters

Giloy | गिलोय के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

गिलोय

गिलोय, जिसे हिंदी में अमृता या गुडुची के नाम से भी जाना जाता है, एक जड़ी बूटी है जो प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करती है। इसमें दिल के आकार के पत्ते होते हैं जो पान के पत्तों के समान होते हैं।
गिलोय मधुमेह के रोगियों के लिए फायदेमंद है क्योंकि यह स्वाद में कड़वा होता है और रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह चयापचय में भी सुधार करता है और वजन प्रबंधन के लिए उपयोगी है।
ताजा गिलोय का रस पीने से प्रतिरक्षा में सुधार करने में मदद मिलती है और इसकी ज्वरनाशक गतिविधि के कारण बुखार को प्रबंधित करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है। यह प्लेटलेट काउंट भी बढ़ाता है और डेंगू बुखार में मदद कर सकता है।
त्वचा की विभिन्न समस्याओं के लिए गिलोय पाउडर, कड़ा (चाय) या गोलियों का भी उपयोग किया जा सकता है क्योंकि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है।
घाव भरने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए आप गिलोय के पत्तों के पेस्ट को त्वचा पर लगा सकते हैं क्योंकि यह कोलेजन उत्पादन और त्वचा के पुनर्जनन को बढ़ाने में मदद करता है [1-3]।

गिलोय के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

टीनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया, गुडुची, मधुपर्णी, अमृता, अमृतवल्लारी, छिन्नारुहा, चक्रलक्षनिका, सोमवल्ली, रसायनी, देवनिर्मिता, गुलवेल, वत्सदानी, ज्वारारी, बहुचिन्ना, अमृता

गिलोय का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

गिलोय के फायदे

डेंगू के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय डेंगू बुखार के प्रबंधन में उपयोगी है।
इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीपीयरेटिक (जो बुखार को कम करता है) गुण होते हैं। डेंगू के दौरान गिलोय का नियमित सेवन प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में भी मदद करता है। साथ में, यह डेंगू बुखार को प्रबंधित करने में मदद करता है।

बुखार के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय एक विरोधी भड़काऊ, ज्वरनाशक (बुखार को कम करने वाली) जड़ी बूटी है और यह प्रतिरक्षा प्रणाली के निर्माण और संक्रमण के खिलाफ शरीर की रक्षा में उपयोगी है। यह मैक्रोफेज (विदेशी निकायों के साथ-साथ सूक्ष्मजीवों से लड़ने के लिए जिम्मेदार कोशिकाएं) की गतिविधि को बढ़ाता है और इस प्रकार जल्दी ठीक होने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय अपने जावरघना (एंटीपायरेटिक) गुण के कारण बुखार को कम करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार तेज बुखार होने के दो कारण होते हैं, पहला अमा और दूसरा कोई विदेशी कण या जीव। गिलोय अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाले) और पचन (पाचन) गुणों के कारण पाचन और अवशोषण में सुधार करके बुखार को कम करने में मदद करता है जो बदले में अमा के गठन को रोकता है। यह अपने रसायन गुण के कारण विदेशी कणों या जीवों से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा में भी सुधार करता है।
युक्ति:
1. 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें।
2. इसमें इतना ही पानी मिलाकर सुबह खाली पेट दिन में एक बार पिएं।

हे फीवर के लिए गिलोय के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय हे फीवर के लक्षणों को कम करता है जिसे एलर्जिक राइनाइटिस भी कहा जाता है। यह नाक से स्राव, छींक आना, नाक में खुजली, नाक में रुकावट जैसे लक्षणों को कम करता है। यह संक्रमण से लड़ने के लिए ल्यूकोसाइट्स (श्वेत रक्त कोशिकाओं) की संख्या को भी बढ़ाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

शरीर में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) के संचय के परिणामस्वरूप कफ के असंतुलन के कारण एलर्जी होती है। गिलोय अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) प्रकृति के कारण अमा को बनने से रोकता है और कफ को संतुलित करने में मदद करता है। यह अपने रसायन (कायाकल्प) गुणों के कारण प्रतिरक्षा में सुधार करने में भी मदद करता है।

युक्ति:
1. 1 / 4-1 / 2 चम्मच गिलोय चूर्ण लें मिलाएं
। 2. 1 चम्मच शहद ।
3. लंच और डिनर के बाद लें।

डायबिटीज मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2) के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रक्त शर्करा के स्तर में सुधार करके मधुमेह के प्रबंधन में गिलोय उपयोगी हो सकता है। यह मधुमेह से संबंधित जटिलताओं जैसे अल्सर, घाव, गुर्दे की क्षति को इसके एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण प्रबंधित करने में भी मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय अपने दीपन (क्षुधावर्धक) और पचन (पाचन) गुणों के कारण पाचन और अवशोषण में सुधार करके उच्च रक्त शर्करा के स्तर और विभिन्न मधुमेह संबंधी जटिलताओं को नियंत्रित करने में मदद करता है जो बदले में अमा के गठन को रोकता है।
टिप :
1/2 चम्मच गिलोय चूर्ण को दिन में दो बार लंच और डिनर के बाद पानी के साथ लें।

जिगर की बीमारी के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

शराब की अधिक मात्रा के कारण लीवर की चोट को गिलोय से तैयार एक आयुर्वेदिक फॉर्मूलेशन गुडूची सतवा का उपयोग करके प्रबंधित किया जा सकता है। यह लीवर में कुल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके कार्य करता है। यह एंटीऑक्सिडेंट एंजाइमों (मुक्त कणों द्वारा नुकसान को कम करता है) और ऑक्सीडेटिव-तनाव मार्करों के स्तर में भी सुधार करता है जिससे समग्र यकृत समारोह में वृद्धि होती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण चयापचय और यकृत के कार्यों में सुधार करने में मदद करता है। गिलोय अध: पतन को भी रोकता है और अपनी रसायन (कायाकल्प) गुणवत्ता के कारण नई कोशिका वृद्धि को बढ़ावा देता है।
युक्ति:
1. 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें।
2. इसमें इतना ही पानी मिलाकर सुबह खाली पेट दिन में एक बार पिएं।

कैंसर के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय अपने एंटी-प्रोलिफ़ेरेटिव गुण के कारण स्तन कैंसर के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है।
गिलोय में मौजूद रुटिन और क्वेरसेटिन कैंसर रोधी गुणों के कारण कोशिका प्रसार और स्तन कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकते हैं। यह एपोप्टोटिक जीन की अभिव्यक्ति को भी बदलता है और स्तन कैंसर कोशिकाओं में एपोप्टोसिस (कोशिका मृत्यु) को प्रेरित करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय वात-पित्त-कफ को संतुलित करके और कैंसर कोशिकाओं के विकास और प्रसार को नियंत्रित करके कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। गिलोय अपने रसायन गुण के कारण कोशिका क्षति को भी रोकता है।
युक्ति:
1. 2-3 चम्मच ताजा गिलोय का रस लें।
2. इतना ही पानी मिलाकर सुबह खाली पेट पिएं।
3. बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 2-3 महीने तक जारी रखें।

उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए गिलोय के क्या लाभ हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय चयापचय में सुधार करके और उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए जिम्मेदार शरीर से विषाक्त पदार्थों को खत्म करके शरीर में उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह इसके दीपन (भूख बढ़ाने वाला), पचन (पाचन) प्रकृति और रसायन (कायाकल्प) गुणों के कारण है।
युक्ति:
1. 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें।
2. 1 गिलास पानी में डालकर पिएं।

गठिया के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय अपने वात संतुलन और रक्त शुद्ध करने वाली क्रियाओं के कारण वात रोग जैसे गठिया रोग में प्रयोग किया जाता है।

रूमेटाइड अर्थराइटिस में गिलोय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गठिया में दर्द और सूजन के प्रबंधन के लिए गिलोय फायदेमंद हो सकता है।
गिलोय प्रो-इंफ्लेमेटरी साइटोकिन्स (सूजन को बढ़ावा देने वाले अणु) के उत्पादन को रोककर गठिया की सूजन को दबाता है। ऑटो-इम्यून डिजीज के मामले में शरीर का अपना इम्यून सिस्टम शरीर पर हमला करता है और गिलोय इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के लिए जाना जाता है। जब आप ऑटोइम्यून बीमारियों के मामले में गिलोय का सेवन करते हैं, तो यह प्रतिरक्षा प्रणाली को अत्यधिक उत्तेजित कर सकता है।

दस्त के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय अपने पचन (पाचन) गुणों के कारण पाचन संबंधी समस्याओं जैसे अपच, अति अम्लता और पेट फूलने को कम करने में मदद करता है।
युक्ति:
1. 1 / 4-1 / 2 चम्मच गिलोय पाउडर लें।
2. 1 गिलास गुनगुने पानी में डालें और अच्छी तरह मिलाएँ।
3. लंच और डिनर के बाद लें।

गिलोय कितना कारगर है?

संभावित रूप से प्रभावी

डेंगू, हे फीवर

अपर्याप्त सबूत

कैंसर, मधुमेह मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2), ​​दस्त, बुखार, सूजाक, गाउट, उच्च कोलेस्ट्रॉल, यकृत रोग, लिम्फोमा, संधिशोथ, पेट के अल्सर, उपदंश

गिलोय का प्रयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय प्रतिरक्षा प्रणाली को अधिक सक्रिय होने का कारण बन सकता है जो ऑटोइम्यून बीमारियों के लक्षणों को और बढ़ा सकता है। इसलिए, यदि आप रुमेटीइड गठिया, मल्टीपल स्केलेरोसिस और ल्यूपस (सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस) जैसी ऑटोइम्यून बीमारियों से पीड़ित हैं, तो गिलोय से बचने की सलाह दी जाती है।

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सर्जरी के दौरान या बाद में गिलोय रक्त शर्करा के स्तर में हस्तक्षेप कर सकता है। इसलिए, निर्धारित सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले गिलोय से बचने की सलाह दी जाती है।

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय या इसके घटकों का प्रयोग केवल डॉक्टर की देखरेख में करें यदि आपको इससे एलर्जी है।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

वैज्ञानिक प्रमाण के अभाव में स्तनपान के दौरान गिलोय के औषधीय प्रयोग से बचें।

मॉडरेट मेडिसिन इंटरेक्शन

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय के कारण प्रतिरक्षा प्रणाली अधिक सक्रिय हो सकती है। इसलिए, इम्यूनोसप्रेसेन्ट्स के साथ गिलोय से बचने की सलाह दी जाती है।

मधुमेह के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है। इसलिए आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि यदि आप मधुमेह विरोधी दवाओं के साथ गिलोय ले रहे हैं तो रक्त शर्करा की निगरानी करें।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

वैज्ञानिक प्रमाण के अभाव में गर्भावस्था के दौरान गिलोय के औषधीय प्रयोग से बचें।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय सुरक्षित है जब अल्पावधि के लिए और अनुशंसित खुराक में उपयोग किया जाता है।

गिलोय की अनुशंसित खुराक

  • गिलोय का रस – 2-3 चम्मच रस, दिन में एक या दो बार।
  • गिलोय चूर्ण – -½ छोटा चम्मच दिन में दो बार।
  • गिलोय गोली – 1-2 गोली दिन में दो बार।
  • गिलोय कैप्सूल – 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।
  • गिलोय का अर्क – 1 चुटकी दिन में दो बार।

गिलोय का इस्तेमाल कैसे करें

1. गिलोय का रस
a. 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें।
बी उतनी ही मात्रा में पानी डालें।
सी। अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए दिन में एक या दो बार भोजन से पहले इसे पियें।

2. गिलोय सत्व
a. 1 चुटकी गिलोय सत्व लें।
बी इसे शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार भोजन करने के बाद लेने से यकृत विकारों में लाभ मिलता है।

3. गिलोय चूर्ण
a. आधा चम्मच गिलोय का चूर्ण लें।
बी इसमें शहद मिलाएं या गुनगुने पानी के साथ पिएं।
सी। इसे दिन में दो बार भोजन के बाद अधिमानतः लें।

4. गिलोय क्वाथ
a. 1-2 चम्मच गिलोय पाउडर लें।
बी 2 कप पानी में डालें और इसे तब तक उबालें जब तक कि मात्रा 1/2 कप न हो जाए।
सी। इसे दिन में दो बार पियें, बेहतर होगा कि लंच और डिनर से पहले या बाद में।

5. गिलोय घन वटी (गोली)
a. 1-2 गिलोय घन वटी लें।
बी दिन में दो बार खाना खाने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

6. गिलोय कैप्सूल
a. 1-2 गिलोय कैप्सूल लें।
बी दिन में दो बार खाना खाने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

गिलोय के फायदे

1. घाव
गिलोय अपने कषाय (कसैले) और रोपन (उपचार) गुणों के कारण घाव, कट या घर्षण को ठीक करने में मदद करता है।
टिप:
1. गिलोय के पत्तों का बारीक पेस्ट बना लें।
2. इसमें शहद या गुलाब जल मिलाएं।
3. इसे प्रभावित जगह पर लगाएं और कम से कम 2-3 घंटे के लिए छोड़ दें।
4. बाद में सादे पानी से धो लें।

2. आंखों की समस्या
गिलोय जलन, लालिमा जैसी आंखों की समस्याओं के जोखिम को कम करता
अपने कषाय (कसैले) और रोपन (उपचार) प्रकृति के कारण और खुजली है।
सुझाव:
1. गिलोय के कुछ पत्तों को पानी में उबाल लें।
2. पानी को कुछ देर ठंडा होने दें।
3. इस गिलोय के पानी को पलकों पर लगाएं।
4. 10-15 मिनट तक प्रतीक्षा करें और अपनी आंखों को गुनगुने पानी से धो लें।

3. बालों का झड़ना
गिलोय अपने कटु (तीखे) और कषाय (कसैले) प्रकृति के कारण बालों के झड़ने और रूसी को नियंत्रित करने में मदद करता है। गिलोय अपने रसायन (कायाकल्प) गुणों के कारण बालों के विकास में भी मदद करता है।
टिप:
1. गिलोय के पत्तों का बारीक पेस्ट बना लें।
2. इसमें शहद या गुलाब जल मिलाएं।
3. इसे स्कैल्प पर लगाएं और कम से कम 2-3 घंटे के लिए छोड़ दें।
4. इसे किसी भी हर्बल शैम्पू से धो लें।

गिलोय का प्रयोग करते समय सावधानियां

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

संभावित एलर्जी की जांच के लिए गिलोय को पहले एक छोटे से क्षेत्र में लगाएं।

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यदि आपको गिलोय से एलर्जी है तो हमेशा डॉक्टर की देखरेख में ही गिलोय या इसके घटकों का उपयोग करें।
युक्ति:
गिलोय का प्रयोग शहद या दूध के साथ बाहरी उपयोग के लिए करें।

गिलोय की अनुशंसित खुराक

  • गिलोय का रस – 1-2 चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • गिलोय पाउडर – -½ छोटा चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।

गिलोय का इस्तेमाल कैसे करें

1. दूध के साथ गिलोय का पेस्ट
a. -½ छोटा चम्मच गिलोय पाउडर लें।
बी इसे दूध में मिलाकर त्वचा पर लगाएं।
सी। ब्लेमिश और हाइपरपिग्मेंटेशन को नियंत्रित करने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 2-3 बार इस्तेमाल करें।

2. शहद के साथ गिलोय का रस
a. 1-2 चम्मच गिलोय का रस लें।
बी इसे शहद के साथ मिलाकर त्वचा पर समान रूप से लगाएं।
सी। सूखापन और झुर्रियों को नियंत्रित करने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 2-3 बार इस्तेमाल करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. गिलोय सत्व क्या है और इसे कैसे बनाया जाता है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार, सत्व औषधीय प्रयोजनों के लिए स्टार्च को निकालने की प्रक्रिया है।
How to make गिलोय सत्व:
1. गिलोय का तना और एक बर्तन लें।
2. मोटे तौर पर क्रश करें और पर्याप्त पानी में लगभग 6-8 घंटे के लिए बर्तन में भिगो दें।
3. इसके बाद डंठल को अच्छी तरह से मैश कर लें ताकि स्टार्च पानी में निकल जाए।
4. स्टार्च को तल पर जमने देने के लिए बर्तन को कुछ देर के लिए बिना हिलाए रख दें।
5. स्टार्च तलछट को परेशान किए बिना साफ पानी को सावधानी से निकालें।
6. गिलोय सत्व पाने के लिए इस स्टार्च को पूरी तरह छाया में सुखा लें।

Q. गिलोय का कड़ा कैसे बनाते हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय काढ़ा इन दो प्रक्रियाओं से बनाया जा सकता है:
1. गिलोय के कुछ ताजे पत्ते या तना लें और उन्हें पानी (400 मिली) में तब तक उबालें जब तक कि पानी एक चौथाई न रह जाए। तरल को ठंडा करें और तनाव दें।
2. ताजा गिलोय के पत्ते या तना न मिलने की स्थिति में आप किसी भी आयुर्वेदिक स्टोर से गिलोय का चूर्ण खरीद सकते हैं। 1 बड़ा चम्मच पाउडर का प्रयोग करें और इसे 2 कप पानी में उबाल लें। तब तक उबालें जब तक कि मात्रा एक चौथाई न रह जाए। ठंडा करें और तनाव दें।

Q. क्या मैं रोज सुबह और सोने से पहले गिलोय और आंवला के जूस का सेवन कर सकता हूं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय और आंवले का जूस आप रोज सुबह पी सकते हैं लेकिन रात में इसका सेवन करने से बचें। बेहतर परिणामों के लिए इसे सुबह खाली पेट पिएं।

Q. गिलोय के पत्तों का उपयोग कैसे करें?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय के पत्ते सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। सामान्य स्वास्थ्य में सुधार के साथ-साथ गठिया के प्रबंधन के लिए गिलोय की ताजी पत्तियों को चबा सकते हैं। आप त्वचा रोगों के लिए भी गिलोय के रस का सेवन कर सकते हैं क्योंकि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इसके अलावा, गिलोय के पत्तों को उबालकर काढ़ा पीने से गठिया, बुखार और अपच को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय के पत्तों को काढ़े के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है जो आमतौर पर अपच, एनोरेक्सिया और मतली की स्थिति में दिया जाता है क्योंकि इसकी उष्ना (गर्म), दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचाना (पाचन) गुणों के कारण पाचन में सुधार होता है। पत्तियों का उपयोग पेस्ट के रूप में किया जाता है जिसे घावों के साथ-साथ खुजली, जलन या आंखों की लाली जैसी समस्याओं के लिए भी लगाया जा सकता है। यह इसके कषाय (कसैले) और रोपना (उपचार) गुणों के कारण है। गिलोय के पत्तों का पेस्ट बालों की समस्याओं को रोकने के लिए स्कैल्प पर भी लगाया जा सकता है जैसे कि इसके कटु (तीखे) और कषाय (कसैले) गुणों के कारण बालों का झड़ना।

Q. क्या गिलोय के पत्ते खा सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, स्वस्थ शरीर को बनाए रखने के लिए गिलोय की ताजी पत्तियों को रोजाना चबाया जा सकता है।

Q. क्या गिलोय (गुडुची) अस्थमा और खांसी को ठीक कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय का उपयोग अस्थमा और पुरानी खांसी के प्रबंधन के लिए किया जाता है। इसमें अच्छा विरोधी भड़काऊ गुण है और प्रो-भड़काऊ एजेंटों (सूजन को बढ़ावा देने वाले अणु) की प्रतिक्रिया को रोकता है। यह अस्थमा और खांसी के मामले में वायु मार्ग की सूजन को कम करता है। गिलोय का अर्क अस्थमा से जुड़ी गॉब्लेट कोशिकाओं (बलगम को स्रावित करने वाली कोशिकाएं) की संख्या में वृद्धि के कारण बलगम के हाइपरसेरेटेशन को भी नियंत्रित करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय का पौधा कफ संबंधी विकारों जैसे अस्थमा, खांसी और नाक की एलर्जी में उत्कृष्ट परिणाम देता है। यह कफ से संबंधित समस्याओं पर दो तरह से काम करता है: गिलोय अपनी उष्ना वीर्य संपत्ति के कारण कफ को संतुलित करने में मदद करता है और यह अपने रसायन गुण के कारण विदेशी कणों या जीवों से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देता है।
सुझाव:
गिलोय घन वटी की 1-2 गोली दिन में दो बार हल्का भोजन करने के बाद शहद के साथ लें।

Q. क्या गिलोय का जूस स्ट्रेस रिलीवर का काम कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय के पौधे को एडाप्टोजेनिक (तनाव हार्मोन का प्रबंधन) जड़ी बूटी के रूप में भी जाना जाता है। यह सहानुभूति तंत्रिका तंत्र के अतिसक्रियण को दबा कर काम करता है और इस प्रकार मानसिक तनाव और चिंता को कम करता है। यह मन पर शांत प्रभाव डालता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार, तनाव या चिंता शरीर में बढ़े हुए वात के शामिल होने के कारण होती है। गिलोय (गुडुची) में वात संतुलन गुण होता है जिसके कारण यह मानसिक तनाव या चिंता को कम करने में मदद करता है और अतिसक्रिय तंत्रिका तंत्र को भी दबाता है।
सुझाव:
1. 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें।
2. इसमें इतना ही पानी मिलाकर सुबह खाली पेट दिन में एक बार पिएं।

Q. क्या गिलोय (गुडुची) गठिया का इलाज कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय गठिया के प्रबंधन के लिए उपयोगी है। गिलोय प्रो-इंफ्लेमेटरी साइटोकिन्स (सूजन को बढ़ावा देने वाले अणु) के उत्पादन को रोककर गठिया में सूजन को कम करता है।
यह ऑस्टियोब्लास्ट्स (हड्डियों के निर्माण में मदद करने वाली कोशिकाएं) के विकास को भी उत्तेजित करता है और इस प्रकार हड्डियों के निर्माण में मदद करता है और साथ ही हड्डी और उपास्थि को नुकसान से बचाता है।
हालांकि, गिलोय प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए कहा जाता है और रूमेटोइड गठिया (एक ऑटोम्यून्यून बीमारी) के मामले में अनुकूल नहीं हो सकता है। ऐसे में गिलोय या गिलोय सप्लीमेंट लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद में, गिलोय या गुडूची गठिया के इलाज के लिए उपयोगी जड़ी बूटियों में से एक है। आयुर्वेद का मानना ​​​​है कि किसी भी प्रकार के गठिया में अमा की मुख्य भागीदारी होती है और गिलोय अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाले) और पचन (पाचन) गुणों के कारण पाचन और अवशोषण में सुधार करके अमा को कम करने का काम करता है। गिलोय अमा को कम करने का काम करता है, जिससे शरीर में दर्द और सूजन कम होती है।
सुझाव:
गिलोय का चूर्ण या गिलोय घन वटी को दिन में दो बार खाना खाने के बाद गर्म पानी के साथ लें।

Q. क्या गिलोय (गुडुची) गुर्दे के एफ्लाटॉक्सिकोसिस (एफ्लाटॉक्सिन-प्रेरित विषाक्तता) के दौरान मदद कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय एफ्लाटॉक्सिन से प्रेरित नेफ्रोटॉक्सिसिटी (एफ्लाटॉक्सिन के कारण किडनी में विषाक्तता) से किडनी की रक्षा करता है। ऐसा इसमें मौजूद एल्कलॉइड के कारण होता है। गिलोय में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं और यह एफ्लाटॉक्सिकोसिस के दौरान उत्पन्न होने वाले मुक्त कणों को नष्ट कर देता है जिससे किडनी खराब होने से बच जाती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय अपने रसायन गुण के कारण गुर्दे के कार्यों में सुधार करने में मदद करता है। यह अपने शोधन गुण के कारण गुर्दे में रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर अतिरिक्त विषाक्त पदार्थों को भी निकालता है।
सुझाव:
1-2 गिलोय घन वटी (गोली) खाना खाने के बाद लें।

Q. अगर आपको ऑटोइम्यून डिसऑर्डर है तो क्या गिलोय को लिया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है यदि आपको कोई ऑटोइम्यून विकार जैसे रुमेटीइड गठिया, सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस या अन्य स्थितियां हैं।
ऑटो-इम्यून डिसऑर्डर के मामले में, शरीर की अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर पर हमला करती है और गिलोय प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। जब आप ऑटोइम्यून बीमारियों के मामले में गिलोय का सेवन करते हैं, तो यह प्रतिरक्षा प्रणाली को अत्यधिक उत्तेजित कर सकता है।

Q. क्या गिलोय बच्चों के लिए सुरक्षित है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

भूख न लगना, पेट की समस्या, बुखार और सामान्य दुर्बलता में सुधार के लिए गिलोय को थोड़े समय के लिए बच्चों को दिया जा सकता है।

Q. क्या गिलोय (गुडुची) का जूस वजन घटाने में मदद कर सकता है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, कम से कम 1-2 महीने तक नियमित रूप से लेने पर गिलोय का रस वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वजन में वृद्धि अस्वास्थ्यकर भोजन की आदतों और जीवन शैली के कारण होती है जो कमजोर पाचन अग्नि की ओर ले जाती है। यह अमा के संचय को बढ़ाता है (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) मेदा धातु में असंतुलन का कारण बनता है और इस प्रकार मोटापा होता है। गिलोय का प्रयोग पाचन अग्नि को सुधारने में मदद करता है और अमा को कम करता है जो मोटापे का प्रमुख कारण है। यह इसके दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण है।

Q. क्या पीसीओएस में गिलोय उपयोगी है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हालांकि पीसीओएस के लिए गिलोय के सीधे इस्तेमाल पर पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण नहीं हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह पीसीओएस वाले लोगों की प्रतिरक्षा में सुधार करता है।

Q. क्या उच्च रक्तचाप के लिए गिलोय का रस अच्छा है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय का रस समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार, पाचन संबंधी समस्याओं के कारण गिलोय उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। गिलोय चयापचय में सुधार करता है और एक अच्छे पाचन तंत्र को बनाए रखने में मदद करता है। यह उच्च रक्तचाप के स्तर के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

Q. क्या मैं गिलोय काढ़ा एक साल या जीवन भर के लिए ले सकता हूं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए गिलोय या गिलोय काढ़ा लिया जा सकता है। लेकिन गिलोय या गिलोय का कड़ा कितने समय तक लिया जा सकता है, यह जानने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करना उचित है।

Q. क्या मैं गिलोय का जूस खाली पेट ले सकता हूं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हाँ, गिलोय के रस को सुबह खाली पेट लेने से बुखार, लीवर विकार और तनाव दूर होता है।

युक्ति:
1. 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें।
2. इसमें इतना ही पानी मिलाकर सुबह खाली पेट दिन में एक बार पिएं।

Q. क्या गिलोय से कब्ज होता है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

आमतौर पर गिलोय से कब्ज नहीं होता है लेकिन अगर आप इस समस्या का सामना करते हैं तो आप गिलोय के पाउडर को गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं।

Q. क्या गिलोय इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, गिलोय एक इम्युनोमोड्यूलेटर होने के कारण प्रतिरक्षा को विनियमित और मजबूत करने में मदद करता है। यह कुछ रासायनिक घटकों जैसे मैग्नोफ्लोरिन की उपस्थिति के कारण होता है जो लिम्फोसाइट्स या प्रतिरक्षा बढ़ाने वाली कोशिकाओं को सक्रिय करते हैं। ये कोशिकाएं रोग पैदा करने वाले रोगजनकों से लड़कर शरीर को प्रतिरक्षा बनाने में मदद करती हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, गिलोय का सेवन इसके रसायन (कायाकल्प) गुण के कारण आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। यह आपके शरीर को सभी वायरल या बैक्टीरियल संक्रमणों से लड़ने और अच्छे आंतरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने की प्रवृत्ति विकसित करने में मदद करता है।
सुझाव:
1. 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें।
2. इसमें उतना ही पानी मिलाएं।
3. अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए इसे दिन में एक या दो बार भोजन से पहले पियें।

Q. क्या गिलोय आपके पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, गिलोय पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यह गिलोय के तने में एमाइलेज नामक एक पाचक एंजाइम की उपस्थिति के कारण स्टार्च के पाचन में मदद करता है जो मानव आहार में कार्बोहाइड्रेट का मुख्य स्रोत है। एमाइलेज द्वारा आहार स्टार्च का ग्लूकोज में रूपांतरण पाचन को बढ़ावा देने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, गिलोय पाचन तंत्र को ठीक रखने में मदद करता है। अग्निमांड्या (कम पाचक अग्नि) कमजोर या खराब पाचन का मुख्य कारण है। गिलोय अपने उष्ना (गर्म), दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचाना (पाचन) गुणों के कारण आपके पाचन को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह आपकी अग्नि (पाचन अग्नि) को बेहतर बनाने और आपकी भूख को बढ़ाने के साथ-साथ पाचन को बढ़ावा देने में मदद करता है।

Q. क्या गिलोय सांस संबंधी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, कुछ ऐसे घटकों की उपस्थिति के कारण जिनमें रोगाणुरोधी गुण होते हैं, गिलोय श्वसन रोगों से लड़ने में फायदेमंद हो सकता है। यह श्वसन तंत्र को स्वस्थ रखने वाले श्वसन संक्रमण पैदा करने वाले रोगाणुओं से लड़ने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

श्वसन संबंधी समस्याएं आमतौर पर वात और कफ दोष के असंतुलन के कारण होती हैं जो कभी-कभी बलगम के निर्माण और संचय से श्वसन मार्ग में रुकावट पैदा कर सकती हैं। गिलोय अपने उष्ना (गर्म) और वात-कफ संतुलन गुणों के कारण सांस की समस्याओं से लड़ने में मदद करता है। यह बलगम को पिघलाने में मदद करता है और सामान्य सांस लेने में आने वाली सभी बाधाओं को दूर करता है।

Q. क्या गिलोय प्लेटलेट्स बढ़ाता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, गिलोय कुछ फाइटोकेमिकल घटकों की उपस्थिति के कारण अस्थि मज्जा से प्लेटलेट्स के उत्पादन में सुधार करने में मदद करता है क्योंकि उनमें एंटीऑक्सिडेंट और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण होते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय प्लेटलेट्स के उत्पादन में सुधार करने में मदद करता है। गिलोय का रसायन (कायाकल्प) गुण प्लेटलेट काउंट को बढ़ाने में मदद करता है और शरीर की समग्र प्रतिरक्षा में भी सुधार करता है।

Q. गिलोय के तने के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय के तने के कई फायदे होते हैं। गिलोय एक इम्युनोमोड्यूलेटर होने के कारण प्रतिरक्षा को विनियमित और मजबूत करने में मदद करता है। इसके तने में एमाइलेज भी होता है, एक पाचक एंजाइम जो स्टार्च के पाचन में मदद करता है जो मानव आहार में कार्बोहाइड्रेट का मुख्य स्रोत है और इस प्रकार पाचन को बढ़ावा देता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गिलोय का तना इम्युनिटी बढ़ाने में उपयोगी होता है। यह शरीर को विभिन्न संक्रमणों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। गिलोय के तने का रस पीने से पाचन अग्नि तेज होकर पाचन क्रिया में सुधार आता है। यह त्रिदोष (वात-पित्त-कफ) को संतुलित करने में भी मदद करता है जो आपके संपूर्ण शरीर को स्वस्थ और मजबूत बनाता है।

Q. त्वचा के लिए गिलोय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गिलोय त्वचा के लिए कई तरह से फायदेमंद होता है। गिलोय में कुछ यौगिकों जैसे फेनोलिक यौगिकों, ग्लाइकोसाइड्स, स्टेरॉयड आदि की उपस्थिति के कारण घाव भरने का गुण होता है। यह हीलिंग टिश्यू की तन्य शक्ति को बढ़ाकर काम करता है जिससे कोलेजन उत्पादन और घाव का संकुचन होता है। इससे घाव को जल्दी भरने में मदद मिलती है। गिलोय कीड़े और सांप के काटने को भी नियंत्रित करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

त्वचा की समस्याएं तीन दोषों (वात, पित्त, कफ) में से किसी एक के असंतुलन के कारण हो सकती हैं, जिससे त्वचा में सूजन, सूखापन, खुजली या जलन हो सकती है। गिलोय अपने त्रिदोष (वात, पित्त और कफ) संतुलन, स्निग्धा (तैलीय), कषाय (कसैले) और रोपना (उपचार) गुणों के कारण त्वचा की इन सभी समस्याओं का प्रबंधन करने में मदद करता है। इससे त्वचा स्वस्थ और रोग मुक्त होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.