Search
Generic filters

Green coffee | हरी कॉफ़ी के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

हरी कॉफ़ी

ग्रीन कॉफी एक लोकप्रिय स्वास्थ्य पूरक है। यह भुने हुए रूप की तुलना में अधिक मात्रा में क्लोरोजेनिक एसिड के साथ कॉफी बीन्स का बिना भुना हुआ रूप है।
ग्रीन कॉफी का सेवन दिन में एक या दो बार करने से मोटापा रोधी गुण होने के कारण वजन घटाने में मदद मिल सकती है। यह उच्च रक्तचाप के प्रबंधन में भी फायदेमंद हो सकता है क्योंकि इसमें उच्चरक्तचापरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। ग्रीन कॉफी ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करने में भी मदद कर सकती है।
कुछ मामलों में, ग्रीन कॉफी बीन्स गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल गड़बड़ी, मतली, घबराहट और नींद न आने का कारण बन सकती है।

ग्रीन कॉफी के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

कॉफ़ी अरेबिका, राजपीलु, कॉफ़ी, बन, कपिबिजा, बूँद, बुंदाना, कैपीकोटे, कप्पी, सिलापकम, कप्पीविट्टालु, कैफ़ी, काफ़े, बन्नू, कोफ़ी, कॉमन कॉफ़ी, क्वाहवा, कावा, टोकेम केवे, कहवा

ग्रीन कॉफी का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

ग्रीन कॉफी के फायदे

मोटापे के लिए ग्रीन कॉफी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड वसा चयापचय में शामिल एक जीन, पीपीएआर-α की गतिविधि को बढ़ाकर वजन प्रबंधन में मदद कर सकता है। क्लोरोजेनिक एसिड स्टार्च के चीनी में टूटने को धीमा कर सकता है और शरीर में वसा के संचय को रोक सकता है।
टिप:
1. एक कप में 1/2-1 चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर लें।
2. इसमें 1 कप गर्म पानी डालें।
3. इसे 5-6 मिनट तक खड़े रहने दें।
4. बेहतर स्वाद के लिए छान लें और एक चुटकी दालचीनी पाउडर डालें।
5. बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 1-2 महीने तक खाना खाने से पहले इसे पिएं।
6. एक दिन में 1-2 कप से ज्यादा ग्रीन कॉफी न पिएं।

हृदय रोग के लिए ग्रीन कॉफी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड कोर्टिसोल नामक तनाव हार्मोन के स्तर को कम करके तनाव से प्रेरित हृदय रोगों के जोखिम को कम कर सकता है। एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि क्लोरोजेनिक एसिड में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं और यह मुक्त कणों द्वारा हृदय की मांसपेशियों के ऑक्सीडेटिव क्षति को रोकता है।
टिप:
1. एक कप में 1/2-1 चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर लें।
2. इसमें 1 कप गर्म पानी डालें।
3. इसे 5-6 मिनट तक खड़े रहने दें।
4. इसे कम से कम 1-2 महीने तक रोजाना छानकर पिएं।
6. एक दिन में 1-2 कप से ज्यादा ग्रीन कॉफी न पिएं।

अल्जाइमर रोग के लिए ग्रीन कॉफी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी अल्जाइमर रोग के रोगियों की मदद कर सकती है।
अल्जाइमर के रोगियों में, अमाइलॉइड बीटा प्रोटीन नामक प्रोटीन के उत्पादन में वृद्धि होती है, जिससे मस्तिष्क में अमाइलॉइड सजीले टुकड़े या क्लस्टर बनते हैं। एक अध्ययन में कहा गया है कि ग्रीन कॉफी मस्तिष्क में अमाइलॉइड सजीले टुकड़े के गठन को कम कर सकती है जिससे अल्जाइमर के रोगियों में स्मृति कार्यों में सुधार होता है।

डायबिटीज मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2) के लिए ग्रीन कॉफी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी मधुमेह के रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित कर सकती है। ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड कार्बोहाइड्रेट के शुगर में टूटने को धीमा कर देता है। जिसकी वजह से ब्लड शुगर का स्तर कम हो जाता है।
टिप:
1. एक कप में 1/2-1 चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर लें।
2. इसमें 1 कप गर्म पानी डालें।
3. इसे 5-6 मिनट तक खड़े रहने दें।
4. मिश्रण को छान लें और स्वाद बढ़ाने के लिए इसमें एक चुटकी दालचीनी पाउडर मिलाएं।
5. इसे कम से कम 1-2 महीने तक खाना खाने से पहले छानकर पिएं।
6. एक दिन में 1-2 कप से ज्यादा ग्रीन कॉफी न पिएं।

उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के लिए ग्रीन कॉफी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी में क्लोरोजेनिक एसिड की मौजूदगी के कारण तनाव से प्रेरित उच्च रक्तचाप को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। यह कोर्टिसोल नामक तनाव हार्मोन के निर्माण को रोकता है और उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।
टिप:
1. 1/2-1 चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर लें।
2. इसमें 1 कप गर्म पानी डालें।
3. इसे 5-6 मिनट तक खड़े रहने दें।
4. भोजन से पहले रोजाना तनाव और पियें।
5. बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 1-2 महीने तक जारी रखें।
6. एक दिन में 1-2 कप से ज्यादा ग्रीन कॉफी न पिएं।

ग्रीन कॉफी कितनी कारगर है?

अपर्याप्त सबूत

अल्जाइमर रोग, मधुमेह मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2), ​​हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल, मोटापा

ग्रीन कॉफी का प्रयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. पहले से ही चिंता से पीड़ित लोगों में ग्रीन कॉफी सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) के विकास के जोखिम को बढ़ा सकती है।
2. अगर आपको डायरिया और इरिटेबल बोवेल सिंड्रोम (आईबीएस) है तो ग्रीन कॉफी का सेवन सीमित करें क्योंकि इससे पेट में गैस्ट्रिक एसिड का स्राव बढ़ सकता है। इससे अपच, पेट में दर्द और ढीले मल हो सकते हैं।
3. अगर आपको ऑस्टियोपोरोसिस या कैल्शियम और विटामिन डी का स्तर कम है तो सावधानी के साथ ग्रीन कॉफी का प्रयोग करें। ऐसा इसलिए है क्योंकि ग्रीन कॉफी शरीर से कैल्शियम के उत्सर्जन को बढ़ाकर हड्डियों को नुकसान पहुंचा सकती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

रात में ग्रीन कॉफी पीने से बचें क्योंकि इससे अनिद्रा हो सकती है।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यदि आप वैज्ञानिक प्रमाण के अभाव में स्तनपान करा रही हैं तो ग्रीन कॉफी से बचें।

मधुमेह के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है। इसलिए आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि यदि आप मधुमेह विरोधी दवाओं के साथ ग्रीन कॉफी ले रहे हैं तो नियमित रूप से शर्करा के स्तर की निगरानी करें।

हृदय रोग के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी रक्तचाप को कम कर सकती है। इसलिए आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि यदि आप उच्च रक्तचाप रोधी दवाओं के साथ ग्रीन कॉफी ले रहे हैं तो नियमित रूप से रक्तचाप की निगरानी करें।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान ग्रीन कॉफी से बचें क्योंकि इससे जन्म के समय कम वजन (LBW), सहज गर्भपात, भ्रूण की वृद्धि प्रतिबंध और समय से पहले प्रसव का खतरा बढ़ सकता है।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. घबराहट
2. बेचैनी
3. पेट खराब होना
4. उबकाई आना
5. उल्टी होना।

ग्रीन कॉफी की अनुशंसित खुराक

  • ग्रीन कॉफी कैप्सूल – भोजन से पहले दिन में एक बार 1-2 कैप्सूल।

ग्रीन कॉफी का उपयोग कैसे करें

1. ग्रीन कॉफी कैप्सूल
ए. 1-2 ग्रीन कॉफी कैप्सूल लें।
बी इसे एक गिलास पानी के साथ निगल लें।
सी। इसे दिन में एक बार भोजन से पहले लें।

2. ग्रीन कॉफी बीन्स से गर्म कॉफी
a. ग्रीन कॉफी बीन्स को भिगोकर
मैं। 1 कप ग्रीन कॉफी बीन्स को 2 कप पानी में रात भर के लिए भिगो दें।
ii. अगली सुबह इस मिश्रण को लगातार चलाते हुए 15 मिनट तेज और 15 मिनट धीमी आंच पर पकाएं।
iii. गर्मी से निकालें और इसे लगभग 1 घंटे तक ठंडा होने दें।
iv. अब इस मिश्रण को छान कर किसी पेट जार में भर कर रख लें, इस मिश्रण को आप 2-5 दिनों के लिए फ्रिज में रख सकते हैं.
v. अब जार में से 1/2 चम्मच कॉफी का मिश्रण निकाल लें और उसमें गर्म पानी डालें.
vi. अपने स्वाद के अनुसार थोड़ा शहद डालें।
vii. यदि आप मधुमेह रोगी हैं तो शहद के सेवन से बचें।

बी ग्रीन कॉफी बीन्स को पीसकर
i. ग्रीन कॉफी बीन्स को अपने हिसाब से दरदरा या महीन पीस लें।
ii. कृपया ध्यान दें कि ग्रीन कॉफी बीन्स बहुत सख्त होती हैं, इसलिए सावधान रहने की सलाह दी जाती है और इसे पीसने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले ग्राइंडर का उपयोग करें
। iii. अब एक कप में 1/2 चम्मच पिसी हुई कॉफी डालें।
iv. फिर इसमें गर्म पानी डालें।
v. इसे 5-6 मिनट तक खड़े रहने दें।
vi. मिश्रण को छान लें और बेहतर स्वाद के लिए इसमें थोड़ा सा शहद मिलाएं।
vii. अगर आप मधुमेह के रोगी हैं तो शहद के सेवन से बचें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. वजन घटाने के लिए ग्रीन कॉफी ड्रिंक कैसे बनाएं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. एक कप में लगभग 1/2-1 चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर लें। लेकिन अगर आपके पास ग्रीन कॉफी बीन्स हैं, तो उन्हें बारीक पीस लें।
2. इसके ऊपर गर्म पानी डालें और अच्छी तरह मिलाएँ।
3. मिश्रण को लगभग 1-2 मिनट के लिए छोड़ दें और छान लें। अगर आपको यह बहुत मजबूत लगता है तो आप थोड़ा गर्म पानी मिला सकते हैं।
4. बेहतर स्वाद के लिए आप इसमें शहद और एक चुटकी इलायची पाउडर मिला सकते हैं।
युक्ति:
1. कॉफी से कड़वा तेल निकलने से रोकने के लिए केवल गर्म और उबलते पानी का प्रयोग करें, जो इसे कड़वा बना सकता है।
2. बेहतर परिणाम के लिए बिना दूध डाले ग्रीन कॉफी पिएं।
3. वजन घटाने में प्रभावी परिणामों के लिए ऑर्गेनिक ग्रीन कॉफी को चुनने का प्रयास करें।

प्र. भारत में उपलब्ध कुछ बेहतरीन ग्रीन कॉफी ब्रांड कौन से हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

बाजार में ग्रीन कॉफी ब्रांड के ढेर सारे हैं लेकिन अधिक से अधिक लाभ लेने के लिए ऑर्गेनिक ग्रीन कॉफी खरीदना हमेशा बेहतर होता है। ग्रीन कॉफी के कुछ लोकप्रिय ब्रांड हैं:
1. वाह ग्रीन कॉफी
2. न्यूट्रस ग्रीन कॉफी
3.
नेस्कैफे 4. स्वेटोल सिन्यू
5. न्यूट्रीशन अरेबिका ग्रीन कॉफी बीन्स पाउडर
6. न्यूहर्ब्स ऑर्गेनिक ग्रीन कॉफी पाउडर
7. स्वास्थ्य पहले ग्रीन कॉफी का अर्क
8 एच3 प्योर ग्रीन कॉफी बीन एक्सट्रेक्ट
न्यूट्रा 9. न्यूट्रालाइफ ग्रीन कॉफी बीन एक्सट्रेक्ट

प्र. ग्रीन कॉफी की कीमत क्या है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी की मूल्य सीमा आपके द्वारा चुने गए ब्रांड के आधार पर भिन्न होती है।
1. वाह ग्रीन कॉफी: रु. 1499
2. न्यूट्रस ग्रीन कॉफी: रु. 270
3. नेस्कैफे ग्रीन कॉफी ब्लेंड: रु. 400

Q. न्यूट्रस ग्रीन कॉफी क्या है और इसके क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

न्यूट्रस ग्रीन कॉफी बाजार में उपलब्ध सबसे अधिक मांग वाली ऑर्गेनिक ग्रीन कॉफी में से एक है। यह क्लोरोजेनिक एसिड का एक समृद्ध स्रोत है जिसमें मधुमेह और वजन घटाने जैसे कई स्वास्थ्य लाभ हैं। न्यूट्रस ग्रीन कॉफी की कीमत लगभग रु. २६५.

Q. क्या ग्रीन कॉफी बीन का अर्क आपको मल त्याग करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जब तक आप निर्देशानुसार ले रहे हैं तब तक ग्रीन कॉफी का सेवन करना सुरक्षित है। हालांकि, यदि आप बहुत बार ग्रीन कॉफी लेते हैं या खुराक बढ़ाते हैं, तो इससे अतिरिक्त मल त्याग हो सकता है। यह क्लोरोजेनिक एसिड की उपस्थिति के कारण होता है जिसमें रेचक (मल त्याग को बढ़ाता है) प्रभाव होता है।

Q. क्या ग्रीन कॉफी कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी शरीर में क्लोरोजेनिक एसिड की मौजूदगी के कारण शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद कर सकती है। कुछ जानवरों के अध्ययन से पता चलता है कि क्लोरोजेनिक एसिड ट्राइग्लिसराइड के संचय के साथ-साथ शरीर में कोलेस्ट्रॉल के संश्लेषण को रोकता है।

Q. क्या ग्रीन कॉफी बीन का अर्क मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

उच्च मात्रा में क्लोरोजेनिक एसिड की उपस्थिति के कारण हरी कॉफी बीन्स मधुमेह के प्रबंधन में मदद कर सकती है।
क्लोरोजेनिक एसिड ग्लूकोज-6-फॉस्फेट नामक एंजाइम को रोककर ग्लूकोज के निर्माण और ग्लाइकोजन के टूटने को रोकता है। नतीजतन, रक्त शर्करा का स्तर कम हो जाता है।
ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड और मैग्नीशियम को इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने के लिए भी कहा जाता है जो मधुमेह में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

टिप:
1. एक कप में 1/2-1 चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर लें।
2. इसमें 1 कप गर्म पानी डालें।
3. इसे 5-6 मिनट तक खड़े रहने दें।
4. छान लें और इसमें एक चुटकी दालचीनी पाउडर मिलाएं।
5. कम से कम 1-2 महीने तक खाना खाने से पहले इसे पिएं।
6. एक दिन में 1-2 कप से ज्यादा ग्रीन कॉफी न पिएं।

Q. ग्रीन कॉफी बीन्स वजन घटाने में कैसे मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी क्लोरोजेनिक एसिड की उपस्थिति के कारण वजन घटाने में मदद कर सकती है।
क्लोरोजेनिक एसिड लीवर में फैट मेटाबॉलिज्म को तेज करता है जो शरीर के वजन में तेजी से वृद्धि को नियंत्रित करने में मदद करता है। एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि क्लोरोजेनिक एसिड वसा चयापचय में शामिल एक जीन, पीपीएआर-α की गतिविधि को बढ़ाकर वसा हानि में मदद कर सकता है।
क्लोरोजेनिक एसिड को पाचन तंत्र से कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को कम करने के लिए भी कहा जाता है। यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है और इस प्रकार वजन प्रबंधन में मदद करता है।
टिप:
1. एक कप में 1/2-1 चम्मच ग्रीन कॉफी पाउडर लें।
2. इसमें 1 कप गर्म पानी डालें।
3. इसे 5-6 मिनट तक खड़े रहने दें।
4. बेहतर स्वाद के लिए छान लें और एक चुटकी दालचीनी पाउडर डालें।
5. बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 1-2 महीने तक खाना खाने से पहले इसे पिएं।
6. एक दिन में 1-2 कप से ज्यादा ग्रीन कॉफी न पिएं।

Q. क्या ग्रीन कॉफी ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

ग्रीन कॉफी में कुछ ऐसे घटक होते हैं जिनमें एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि और एंटीहाइपरटेन्सिव गुण होते हैं। यह रक्तचाप को कम करने और रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद कर सकता है।

Q. क्या ग्रीन कॉफी उम्र बढ़ने के संकेतों को धीमा करने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में मदद करते हैं।

Q. क्या ग्रीन कॉफी मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, ग्रीन कॉफी का सेवन मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड और इसके मेटाबोलाइट्स में तंत्रिका तंत्र की रक्षा करने का गुण होता है जो मनोभ्रंश जैसे मानसिक विकारों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

Q. क्या ग्रीन कॉफी इम्यून सिस्टम के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अगर ग्रीन कॉफी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए अच्छी है तो पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, हालांकि, इसमें कुछ ऐसे घटक होते हैं जिनमें एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि और एंटीहाइपरटेन्सिव गुण होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.