Search
Generic filters

Guggul | गुग्गुल के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

गुग्गुल

गुग्गुल को “पुरा” भी कहा जाता है जिसका अर्थ है “बीमारी को दूर करना”। इसका उपयोग वाणिज्यिक “गम गुग्गुल” के स्रोत के रूप में किया जाता है। गुग्गुल का प्रमुख जैव सक्रिय घटक ओलियो-गम-राल (एक तेल और पौधे के तने या छाल से स्रावित पीले या भूरे रंग के तरल पदार्थ का मिश्रण) है। यह ओलियो-गम राल है जिसके बारे में कहा जाता है कि इसके चिकित्सीय लाभ हैं।
आयुर्वेद के अनुसार, गुग्गुल वजन प्रबंधन में उपयोगी है क्योंकि यह पाचन अग्नि को बढ़ाकर चयापचय में सुधार और अमा (शरीर में विषाक्त अवशेष) को कम करने में मदद करता है। यह ऑस्टियोआर्थराइटिस के मामले में जोड़ों में सूजन, दर्द और जकड़न को कम करने में भी मदद करता है, साथ ही इसके विरोधी भड़काऊ और गठिया विरोधी गुणों के कारण संधिशोथ भी। गुग्गुल कुल कोलेस्ट्रॉल, कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल या खराब कोलेस्ट्रॉल) और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करके रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को प्रबंधित करने में भी सहायक हो सकता है।
सीबम के उत्पादन को कम करने में मदद करने के लिए गुग्गुल को पाउडर, टैबलेट या कैप्सूल के रूप में लिया जा सकता है जो अपने जीवाणुरोधी गुण के कारण मुँहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया के विकास को रोकता है।
गुग्गुल का लेप गर्म पानी में मिलाकर जोड़ों पर लगाने से जोड़ों का दर्द कम होता है।
यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए निगलने से पहले गुग्गुल को हमेशा अच्छी तरह चबाया जाना चाहिए।

गुग्गुल के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

कोमिफोरा वाइटी, पुरा, महिसाक्ष, कौसिका, पालकासा, गुग्गुल, गम-गुगुल, इंडियन बडेलियम, गुगल, गुग्गल, गूगर, कंठगाना, गुग्गल, महिषाक्ष गुग्गुलु, गुग्गुलुगिडा, गुग्गुलु, गुग्गल धूप, कंठ, गुग्गुल। (शिहप्पू)।

गुग्गुल का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

गुग्गुल के फायदे

मोटापे के लिए गुग्गुल के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

वैज्ञानिक शोध के अनुसार मोटापे के प्रबंधन में गुग्गुल अप्रभावी हो सकता है। हालांकि, परंपरागत रूप से इसका उपयोग वजन को प्रबंधित करने के लिए किया जाता रहा है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

वजन में वृद्धि अस्वास्थ्यकर भोजन की आदतों और जीवन शैली के कारण होती है जो कमजोर पाचन अग्नि का कारण बनती है। यह अमा के संचय को बढ़ाता है (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) मेदा धातु में असंतुलन का कारण बनता है और इस प्रकार मोटापा होता है। मोटापे को नियंत्रित करने के लिए गुग्गुल उपयोगी हो सकता है क्योंकि यह चयापचय में सुधार करने और पाचन अग्नि को बढ़ाकर अमा को कम करने में मदद करता है। यह इसकी दीपन (भूख बढ़ाने वाली) प्रकृति के कारण है। लेखनिया (स्क्रैपिंग) संपत्ति के कारण गुग्गुल शरीर में अतिरिक्त वसा का प्रबंधन भी कर सकता है।
सुझाव:
1. गुग्गुल की 1-2 गोली लें।
2. इसे दिन में 1-2 बार गर्म पानी के साथ निगल लें।
3. मोटापे को प्रबंधित करने के लिए रोजाना दोहराएं।

ऑस्टियोआर्थराइटिस के लिए गुग्गुल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गुग्गुल अपने विरोधी भड़काऊ गुण के कारण पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है। यह सूजन, दर्द और जकड़न को कम करता है जिससे ऑस्टियोआर्थराइटिस के लक्षणों से राहत मिलती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

ऑस्टियोआर्थराइटिस में दर्द को प्रबंधित करने के लिए गुग्गुल उपयोगी है। आयुर्वेद के अनुसार, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस वात दोष के बढ़ने के कारण होता है और इसे संधिवात के रूप में जाना जाता है। यह दर्द, सूजन और जोड़ों की गतिशीलता का कारण बनता है। गुग्गुल में वात संतुलन गुण होता है और यह पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस जैसे जोड़ों में दर्द और सूजन के लक्षणों से राहत देता है।
सुझाव:
1. गुग्गुल की 1-2 गोली लें।
2. पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए इसे दिन में 1-2 बार गर्म पानी के साथ निगल लें।

रुमेटीइड गठिया के लिए गुग्गुल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गुग्गुल में कुछ ऐसे घटक होते हैं जिनमें सूजन-रोधी और गठिया-रोधी गुण होते हैं। यह उन रसायनों को दबाता है जो रूमेटोइड गठिया के मामले में दर्द और सूजन का कारण बनते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

संधिशोथ (आरए) को आयुर्वेद में आमवात के रूप में जाना जाता है। अमावता एक ऐसा रोग है जिसमें वात दोष के बिगड़ने और जोड़ों में अमा का संचय हो जाता है। अमावता कमजोर पाचन अग्नि से शुरू होती है जिससे अमा का संचय होता है (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष)। इस अमा को वात के माध्यम से विभिन्न स्थानों पर ले जाया जाता है लेकिन अवशोषित होने के बजाय जोड़ों में जमा हो जाता है। गुग्गुल अपनी उष्ना (गर्म) शक्ति के कारण अमा को कम करने में मदद करता है। गुग्गुल में वात संतुलन गुण भी होता है और इस प्रकार यह जोड़ों में दर्द और सूजन जैसे संधिशोथ के लक्षणों से राहत देता है।
सुझाव:
1. गुग्गुल की 1-2 गोली लें।
2. संधिशोथ के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए इसे दिन में 1-2 बार गर्म पानी के साथ निगल लें।

उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए गुग्गुल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गुग्गुल उच्च कोलेस्ट्रॉल के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है। इसमें एक बायोएक्टिव घटक होता है जो कुल कोलेस्ट्रॉल, कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल या खराब कोलेस्ट्रॉल) और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गुग्गुल सामान्य कोलेस्ट्रॉल स्तर को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। यह अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) को कम करके चयापचय में सुधार करता है। यह इसकी उष्ना (गर्म) प्रकृति के कारण है। यह अपने लखनिया (स्क्रैपिंग) गुण के कारण शरीर से अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को भी हटाता है।
सुझाव:
1. गुग्गुल की 1-2 गोली लें लें
। 2. इसे गर्म पानी के साथ दिन में 1-2 बार निगल ।

मुँहासे के लिए गुग्गुल के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गुग्गुल अर्क में एक बायोएक्टिव घटक होता है जिसमें विरोधी भड़काऊ और जीवाणुरोधी गुण होते हैं। गुग्गुल, जब मौखिक रूप से लिया जाता है, सेबम के उत्पादन को कम करता है और मुँहासा पैदा करने वाले बैक्टीरिया के विकास को रोकता है। इसके कारण, गुग्गुल मुंहासों के विकास के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है। एक अध्ययन में यह देखा गया कि गुग्गुल तैलीय त्वचा वाले लोगों में उल्लेखनीय रूप से अच्छा काम करता है [3-5]।

आयुर्वेदिक नजरिये से

कफ-पित्त दोष वाली त्वचा के प्रकार पर मुंहासे और फुंसियां ​​हो सकती हैं। आयुर्वेद के अनुसार, कफ के बढ़ने से सीबम का उत्पादन बढ़ जाता है जिससे रोम छिद्र बंद हो जाते हैं। इससे सफेद और ब्लैकहेड्स दोनों बनते हैं। पित्त के बढ़ने से लाल पपल्स (धक्कों) और मवाद के साथ सूजन भी होती है। त्रिदोष संतुलन संपत्ति के कारण गुग्गुल कफ-पित्त को संतुलित करने में मदद करता है और मौखिक रूप से लेने पर रुकावट और सूजन को कम करता है।
सुझाव:
1. गुग्गुल की 1-2 गोली लें।
2. इसे दिन में 1-2 बार गर्म पानी के साथ निगल लें।
3. मुंहासों और फुंसियों को नियंत्रित करने के लिए रोजाना दोहराएं।

कितना कारगर है गुग्गुल?

संभावित रूप से प्रभावी

मुँहासे

संभावित रूप से अप्रभावी

मोटापा

अपर्याप्त सबूत

उच्च कोलेस्ट्रॉल, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, रुमेटीइड गठिया

गुग्गुल का उपयोग करते समय सावधानियां

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

स्तनपान के दौरान गुग्गुल लेते समय अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

मॉडरेट मेडिसिन इंटरेक्शन

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. गुग्गुल उच्चरक्तचापरोधी दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है। इसलिए, आमतौर पर गुग्गुल को एंटीहाइपरटेन्सिव दवाओं के साथ लेते समय अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।
2. गुग्गुल थक्कारोधी के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है। इसलिए, आमतौर पर गुग्गुल को एंटीकोआगुलंट्स के साथ लेते समय अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।
3. गुग्गुल कैंसर रोधी दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है। इसलिए, आमतौर पर गुग्गुल को कैंसर रोधी दवाओं के साथ लेते समय अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।
4. गुग्गुल थक्कारोधी के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है। इसलिए, आमतौर पर गुग्गुल को एंटीकोआगुलंट्स के साथ लेते समय अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।
5. गुग्गुल थायराइड की दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है। इसलिए, थायराइड की दवाओं के साथ गुग्गुल लेते समय आमतौर पर अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

हृदय रोग के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गुग्गुल शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है। इसलिए, आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि यदि आपके पास उच्च कोलेस्ट्रॉल है तो गुग्गुल लेते समय अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर की निगरानी करें।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान गुग्गुल लेते समय अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. पेट खराब
2. सिरदर्द
3. मतली
4. उल्टी
5. ढीला मल
6. दस्त
7. डकार
8. हिचकी।

गंभीर दवा बातचीत

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गुग्गुल गर्भनिरोधक दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है। इसलिए, आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि यदि आप गर्भनिरोधक दवाओं के उपचार पर हैं तो गुग्गुल लेते समय अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

गुग्गुल की अनुशंसित खुराक

  • गुग्गुल पाउडर – 2-4 चुटकी पाउडर दिन में दो बार।
  • गुग्गुल टैबलेट – 1-2 गोलियां दिन में एक या दो बार।
  • गुग्गुल कैप्सूल – 1-2 कैप्सूल दिन में एक या दो बार।

गुग्गुल का इस्तेमाल कैसे करें?

1. गुग्गुल पाउडर
a. 2-4 चुटकी गुग्गुल पाउडर लें।
बी इसे दिन में 1-2 बार गर्म पानी के साथ निगल लें।

2. गुग्गुल कैप्सूल
a. गुग्गुल कैप्सूल के 1-2 सेवन करें।
बी इसे दिन में 1-2 बार गर्म पानी के साथ निगल लें।

3. गुग्गुल टैबलेट
ए. गुग्गुल की 1-2 गोली लें।
बी इसे दिन में 1-2 बार गर्म पानी के साथ निगल लें।

गुग्गुल के फायदे

1. जोड़ों का दर्द
प्रभावित जगह पर लगाने पर गुग्गुल हड्डी और जोड़ों के दर्द को नियंत्रित करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार, हड्डियों और जोड़ों को शरीर में वात का स्थान माना जाता है। जोड़ों में दर्द मुख्य रूप से वात असंतुलन के कारण होता है। गुग्गुल का लेप उष्ना (गर्म) शक्ति और वात संतुलन गुण के कारण जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करता है।
सुझाव:
ए. -½ छोटा चम्मच गुग्गुल पाउडर लें।
बी गर्म पानी से पेस्ट बना लें।
सी। प्रभावित क्षेत्र पर दिन में एक बार लगाएं।
डी इसे 1-2 घंटे के लिए छोड़ दें।
इ। जोड़ों के दर्द को नियंत्रित करने के लिए सादे पानी से धो लें।

गुग्गुल का उपयोग करते समय सावधानियां

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. दाने
2. खुजली।

गुग्गुल की अनुशंसित खुराक

  • गुग्गुल पाउडर – -½ चम्मच पाउडर दिन में एक बार।

गुग्गुल का इस्तेमाल कैसे करें?

1. गुग्गुल पाउडर
a. -½ छोटा चम्मच गुग्गुल पाउडर लें।
बी गर्म पानी से पेस्ट बना लें।
सी। प्रभावित क्षेत्र पर दिन में एक बार लगायें
घ. इसे 2-4 घंटे के लिए छोड़ दें।
इ। नल के पानी से अच्छी तरह धो लें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या गुग्गुल हाइपोथायरायडिज्म के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, गुग्गुल हाइपोथायरायडिज्म के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है। यह थायराइड के कार्य को बढ़ाकर और कुछ एंजाइमी प्रतिक्रियाओं के माध्यम से भी थायराइड हार्मोन के उत्पादन को बढ़ाता है [13-15]।

Q. क्या गुग्गुल दिल के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, गुग्‍गुल दिल के लिए अच्‍छी हो सकती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीलिपिडेमिक (लिपिड कम करने वाले) गुण होते हैं। यह कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल या खराब कोलेस्ट्रॉल) के स्तर को कम करता है जिससे धमनियों में रुकावट को रोका जा सकता है। इसके कारण, गुग्गुल दिल के दौरे और अन्य हृदय असामान्यताओं को रोकने में उपयोगी हो सकता है [16-18]।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गुग्गुल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करके हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद करता है। गुग्गुल अपने उष्ना (गर्म) स्वभाव के कारण अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) को कम करके चयापचय में सुधार करता है। यह अपने लेखनिया (स्क्रैपिंग) गुण के कारण शरीर से अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी मदद करता है।

Q. क्या गुग्गुल लीवर के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, गुग्गुल अपने हेपेटोप्रोटेक्टिव (लीवर प्रोटेक्टिव) गुण के कारण लीवर के लिए अच्छा हो सकता है। यह कुछ उपयोगी एंजाइमों और एंजाइमी प्रतिक्रियाओं के उत्पादन को बढ़ाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.