Search
Generic filters

He Lived like a Saint, Left like One

डॉ। एस.पी. शर्मा
1935 – 2013

मेरे पितासूरज प्रकाश शर्मा12 वें दिन निधन हो गया। दिसंबर 2013 की। भले ही उनकी मृत्यु हो गई, लेकिन उनका भाग्य जीत गया। किसी भी दर्द ने कभी उसकी मदद नहीं ली। केवल हमें पता चला कि वह जीवन के अंतिम चरण में अस्वस्थ था, जब हमने उसे दर्द से पूरी तरह से मुक्त पाया। फिर भी उसने कोई रोना नहीं कहा।वह संत की तरह निकल गया

कोई भी अमीर उसे नहीं ले गया। नो फ्लैम्बॉयन्स ने उस पर अपनी छाप छोड़ी। कोई नुकसान नहीं हुआ।

उसके पास कोई शत्रु नहीं था। उसका कोई दोस्त नहीं था । फिर भी वह अपने आसपास के लोगों से बहुत प्यार करता था।

उन्हें धर्म में कोई विश्वास नहीं था। वह किसी भी धर्म से परे थे। वह अपने आप में एक धर्म था।

उनका अनुशासन किसी भी आधुनिक स्व-सुधार पुस्तिका से कहीं अधिक था। उन्होंने अपने जीवन के अंतिम घंटे तक काम किया। फिर भी उन्हें फिजिकल बॉडी से कोई प्यार नहीं था।

उन्होंने कोई किताब नहीं लिखी। उन्होंने कोई व्याख्यान नहीं दिया। उनके जीवन का दर्शन सबसे शानदार था। इसमें सिर्फ दो शब्द लिखे थे –ईमानदारीतथासादगी

उनकी उपलब्धियां अथाह हैं। फिर भी उन्होंने कोई प्रशंसा नहीं मांगी। वह एक संत की तरह रहते थे।

कुछ भी उसे एक एपिटैफ़-एसएमएस से बेहतर नहीं बताता है जो मेरे एक दोस्त ने उसके लिए लिखा था – anवह उन बेहतरीन आत्माओं में से एक थीं जिन्हें मैं कभी जानता था‘।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.