Search
Generic filters

अपच, अजीर्ण, कमजोर पाचन शक्ति का होम्योपैथिक इलाज | Homeopathic Medicine For Indigestion In Hindi In Hindi

अपच – एक सामान्य शब्द है जो पेट में असुविधा का वर्णन करता है। अपच कोई बीमारी नहीं है, बल्कि कुछ लक्षणों का अनुभव है, जिनमें पेट में दर्द और खाने के तुरंत बाद पेट में तकलीफ होना शामिल है। अधिक खाने की आदत या पुरानी पाचन समस्या अपच को ट्रिगर कर सकती है। हालांकि अपच आम है, प्रत्येक व्यक्ति को कुछ अलग तरीके से अपच का अनुभव हो सकता है। अपच के लक्षण कभी-कभी या अक्सर दैनिक रूप से महसूस किए जा सकते हैं।

दवा अपच के लिए एकमात्र इलाज नहीं है। आप पाचन में सुधार कर सकते हैं और जीवनशैली समायोजन के साथ असहज लक्षणों से राहत पा सकते हैं। उदाहरण के लिए:

· दिन भर में छोटा भोजन करें।

· मसालेदार, वसायुक्त खाद्य पदार्थों से बचें जो समस्या को ट्रिगर कर सकते हैं।

· धीमी गति से चबा-चबा कर खाएं ।

· धूम्रपान बंद करें।

· शरीर का अतिरिक्त वजन कम करें ।

· कॉफी, शीतल पेय और शराब का सेवन कम करें।

· खूब आराम करें ।

· पेट में जलन पैदा करने वाली दवाइयाँ लेना बंद कर दें, जैसे कि NSAIDs

· योग या विश्राम चिकित्सा के माध्यम से तनाव कम करें।

अक्सर, अपच जीवनशैली से संबंधित होता है और भोजन, पेय या दवा से शुरू हो सकता है। अपच के सामान्य कारणों में शामिल हैं:

· ज्यादा खाना या जल्दी खाना

· वसायुक्त, चिकना या मसालेदार भोजन

· बहुत अधिक कैफीन, शराब, चॉकलेट का सेवन

· धूम्रपान करना

· शराब

· चिंता

· कुछ एंटीबायोटिक्स, दर्द निवारक और आयरन की खुराक

कभी-कभी अपच अन्य पाचन स्थितियों के कारण होता है, जिनमें शामिल हैं:

· पेट में सूजन (जठरशोथ)

· पेप्टिक अल्सर

· सीलिएक रोग ( ग्लूटन खाने से छोटी आंतों को नुकसान )

· पित्ताशय की पथरी

· कब्ज़

· मोटापा, अन्नप्रणाली ऐंठन।

· अग्न्याशय की सूजन (अग्नाशयशोथ)

· आमाशय का कैंसर

· आंतों की रुकावट

· आंत में रक्त का प्रवाह कम होना

· संवेदनशील आंत की बीमारी

· वृक्कीय विफलता

· हाइपरलकैमिया

अपच वाले लोगों में निम्नलिखित लक्षणों में से एक या अधिक हो सकते हैं:

· आपने अपना ज़्यादा खाना नहीं खाया है, लेकिन पेट पहले से ही भरा हुआ महसूस कर रहे हैं और शायद खाना खत्म नहीं कर पा रहे हैं।

· भोजन के बाद असहजता ।

· ऊपरी पेट में बेचैनी, आप अपने स्तन के नीचे और अपनी नाभि के बीच के क्षेत्र में हल्के से गंभीर दर्द को महसूस करते हैं।

· ऊपरी पेट में जलन, आप अपने स्तन और अपने नाभि के नीचे के बीच एक असहज गर्मी या जलन महसूस करते हैं।

· ऊपरी पेट में सूजन, गैस के निर्माण के कारण आपको जकड़न की असहज अनुभूति होती है।

· जी मिचलाना, आपको ऐसा लगता है जैसे आप उल्टी करना चाहते हैं।

अपच का होम्योपैथिक उपचार

एबीज़ नाइगरा :- ग्रासनली ( Esophagus ) में संकुचन की अनुभूति के साथ अजीर्ण। यह औषधि क्रियात्मक हृदय रोगों ( Functional heart symptoms ) के साथ वृद्ध व्यक्तियों के मन्दाग्नि में बहुत उपयोगी है। खाने के पश्चात् सदैव अमाशय में पीड़ा। दुर्गन्धित श्वास तथा डकारें।

एनाकार्डियम ओरि :- ठण्डे पेय लेने अथवा तनाव के पश्चात् अजीर्ण। इस प्रकार के रोगियों को खाने से सदैव आराम मिलता है। भोजन नली में कहीं भी ढक्कन की अनुभूति होती है। खाने के 2-3 घण्टों बाद सीने में जलन होती है।

अर्जेंटम नाइट्रिकम :- बहुत अधिक मिठाईयां खाने अथवा कब्ज के कारण अजीर्ण। जोर की डकार आना।

ओर्सेनिकम एल्ब :- संरक्षित आहार लेने से उत्पन्न अजीर्ण। कम पोषण के कारण भार का क्रमशः क्षय।

कार्बो बेज :- अत्यधिक डकार के साथ अजीर्ण। यह अत्यधिक खाने अथवा मसालेदार वसीय भोजन खाने, शाम को बहुत देर से खाने तथा उसके पश्चात शीघ्र ही सो जाने का परिणाम हो सकता है। वक्ष में जलन तथा सिरदर्द परिणाम हो सकता है। सादे भोजन से भी आजीर्ण।

कैरिका पपाया 1x :- यह पाचन में सुधार करती है। विशेषरूप से उन व्यक्तियों के, जो दूध अथवा मांस नहीं पचा सकते हैं।

कोलोसिन्थस :- क्रोध के पश्चात अजीर्ण।

ग्रेफाइटिस :- खाने के लगभग 2 घण्टों के बाद आमाशय गह्वर में पीड़ा। लगातार निगलने अथवा वमन की इच्छा होती है।

हीपर सल्फ :- अल्प भोजन के पश्चात भी उदर में फुलाव तथा भारीपन हो जाता है।

इपिकाकुआन्हा :- यदि मितली निरन्तर होती है, वमन से शान्त नहीं होती है तथा जिव्हा स्वच्छ है तब यह औषधि इंगित होती है। अजीर्ण का कारण भावनात्मक कष्ट भी हो सकता है।

कैलयम बाइ :- खाने के तुरन्त पश्चात अमाशय में पीड़ा, सीने में जलन तथा भारीपन।

नैट्रम कार्ब :- बहुत कमज़ोर पाचन शक्ति। भोजन में थोड़ा सा परिवर्तन या भूल अजीर्ण उत्पन्न कर देता है।

नैट्रम म्युर :- अत्यधिक कॉफी पीने के कारण अजीर्ण।

नेक्स वोमिका :- पीडायुक्त मिचली के साथ आजीर्ण तथा यह नींद में कमी अथवा तनाव के कारण हो सकता है। खाने के लगभग 30 से 60 मिनट के बाद वक्ष में जलन होती है। रोगी गर्मी तथा नींद से आराम महसूस करता है तथा अकेला छोड़ दिया जाने पर बेहतर हो जाता है। उसे मसालेदार भोजन तथा अल्कोहल की इच्छा होती है। अत्यधिक खाने के पश्चात अजीर्ण।

आर्निथोगेलम Q :- चिरकालिक आमाशयिक तथा भोजन नली के रोगों में उपयोगी। उदरीय अलसर, रक्त स्राव के साथ भी। कॉफी के चूरे के समान पदार्थ का वमन। ग्रहणी ( duodenum ) से सम्बद्ध आमाशय के निचले सिरे में वेदनापूर्ण संकुचन।

पेप्सिनम 1x :- यह आमाशय में आये भोजन को पचाती है तथा आमाशय के स्रावी ऊत्तकों पर क्रिया करती है। अजीर्ण के कारण अतिसार। खुराक 3-4 ग्रेन , दिन में तीन बार। अल्कोहल तथा कार्बोनेटेड पेय पदार्थ उपचार की अवधि के दौरान नहीं लिए जाने चाहिए।

पल्सेटिला :- मितली तथा वमन के साथ अजीर्ण, खाने के लगभग दो घण्टे बाद आरम्भ होते हैं और शाम तक बढ़ जाते हैं। स्वाद बुरा हो सकता है। यह मसालेदार वसीय भोजन, दबाव, भावनाओं के परिणाम के रूप में भी हो सकते हैं। तथा मासिकधर्म अथवा गर्भावस्था के साथ संयुक्त हो सकते हैं।

थुजा :- अत्यधिक चाय पीने के कारण अजीर्ण।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.