Search
Generic filters

Kokum | मेरी खुशबू के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

मेरी खुशबू

कोकम को “इंडियन बटर ट्री” के रूप में भी जाना जाता है और यह एक फल देने वाला पेड़ है। कोकम के सभी भाग यानी (फल, छिलके और बीज) स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। फलों के सूखे छिलके का उपयोग करी में स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है।
कोकम फैटी एसिड के उत्पादन को कम करने के साथ-साथ एक हार्मोन (सेरोटोनिन) के स्राव को बढ़ाकर वजन घटाने में मदद करता है जो भूख को दबाता है। कोकम, जब मौखिक रूप से लिया जाता है, तो इसके विरोधी भड़काऊ और रोगाणुरोधी गुणों के कारण गैस्ट्रिक अल्सर के प्रबंधन में भी उपयोगी हो सकता है। कोकम का जूस पीने से गर्मी दूर होती है, एसिडिटी कम होती है और लू से राहत मिलती है। कोकम का रस अपने मधुमेह विरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण इंसुलिन स्राव को बढ़ाकर रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में भी मदद करता है।
कोकम तेल अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण त्वचा के लिए अच्छा माना जाता है जो झुर्रियों को कम करने में मदद करता है और उम्र बढ़ने के संकेतों को कम करता है। इसका उपयोग त्वचा की एलर्जी और जलन को प्रबंधित करने के लिए किया जा सकता है।

कोकम के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

गार्सिनिया इंडिका, बिरोंड, बिरोंडी, कोकुम्मारा, धूपदमारा, कोकण, मुरगलमेरा, मुरगल, रतंबा, अमसोल, अमासुल, पुनमपुली, ब्रिंडोनिया लंबा पेड़, मैंगोस्टीन तेल का पेड़, जंगली मैंगोस्टीन।

कोकम का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

कोकुम के लाभ

1. अपच अपच
कोकम को प्रबंधित करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार अपच का अर्थ है पाचन की अपूर्ण प्रक्रिया की स्थिति। अपच का मुख्य कारण बढ़ा हुआ कफ है जो अग्निमांड्य (कमजोर पाचन अग्नि) का कारण बनता है। कोकम के सेवन से अग्नि (पाचन अग्नि) में सुधार होता है और भोजन आसानी से पच जाता है। यह क्रमशः इसके दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण है।
सुझाव:
ए. 1/2-1 कप कोकम का रस लें।
बी इतना ही पानी मिलाकर दिन में एक बार खाली पेट पिएं।
सी। तब तक दोहराएं जब तक आपको अपच से राहत न मिल जाए।

2. सूजन आंत्र रोग
कोकम सूजन आंत्र रोग (आईबीडी) के लक्षणों का प्रबंधन करने के लिए उपयोगी है। आयुर्वेद के अनुसार, पचक अग्नि (पाचन अग्नि) के असंतुलन के कारण सूजन आंत्र रोग (आईबीडी) होता है। कोकम लेने से पचक अग्नि (पाचन अग्नि) में सुधार होता है और आईबीडी के लक्षण कम होते हैं।
सुझाव:
ए. 1/2-1 कप कोकम का रस लें।
बी इतना ही पानी मिलाकर दिन में एक बार खाली पेट पिएं।
सी। आईबीडी के लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए रोजाना दोहराएं।

3. दस्त
को आयुर्वेद में अतिसार के नाम से जाना जाता है। यह अनुचित भोजन, अशुद्ध पानी, विषाक्त पदार्थों, मानसिक तनाव और अग्निमांड्य (कमजोर पाचन अग्नि) के कारण होता है। ये सभी कारक वात को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। यह बढ़ा हुआ वात शरीर के विभिन्न ऊतकों से आंत में तरल पदार्थ लाता है और मल के साथ मिल जाता है। इससे दस्त, पानी जैसा दस्त या दस्त हो जाते हैं। कोकम दस्त को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह इसके कषाय (कसैले) और ग्रही (शोषक) गुणों के कारण है। यह ढीले मल को गाढ़ा करने और दस्त या दस्त की आवृत्ति को नियंत्रित करने में मदद करता है।
सुझाव:
ए. 1/2-1 कप कोकम का रस लें।
बी इतना ही पानी मिलाकर दिन में एक बार खाली पेट पिएं।
सी। तब तक दोहराएं जब तक आपको दस्त के लक्षणों से राहत न मिल जाए।

कोकुम using उपयोग करते हुए सावधानियां

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

स्तनपान के दौरान कोकम के उपयोग पर पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए कोकम से बचने या स्तनपान के दौरान केवल चिकित्सकीय देखरेख में उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान कोकम के उपयोग पर पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए कोकम से बचने या गर्भावस्था के दौरान केवल चिकित्सकीय देखरेख में ही उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

कोकुम की अनुशंसित खुराक

  • कोकम सिरप – 1-2 चम्मच दिन में एक या दो बार।

कोकुम का उपयोग कैसे करें

1. कोकम सिरप
ए. 1-2 चम्मच कोकम सिरप लें।
बी उतनी ही मात्रा में पानी मिलाएं।
सी। इसे दिन में एक या दो बार खाना खाने के बाद लें।

2. कोकम जूस
a. ½-1 कप कोकम जूस लें।
बी इतना ही पानी मिलाकर दिन में एक बार खाली पेट पिएं।
सी। मीठे स्वाद के लिए आप इसमें गुड़ भी मिला सकते हैं।

कोकुम के लाभ

1. घाव घाव
भरना कोकम को जल्दी भरने में मदद करता है, सूजन को कम करता है और त्वचा की सामान्य बनावट को वापस लाता है। कोकम बटर जल्दी ठीक होने में मदद करता है और सूजन को कम करता है। यह इसके रोपन (उपचार) और पित्त संतुलन गुणों के कारण है।
सुझाव:
ए. 1/4 -1/2 चम्मच पिघला हुआ कोकम मक्खन या अपनी आवश्यकता के अनुसार लें।
बी बादाम का तेल मिलाकर प्रभावित जगह पर दिन में एक या दो बार लगाएं।
सी। घाव के त्वरित उपचार के लिए दोहराएं।

2. फटी एड़ियां
फटी एड़ियां एक आम समस्या है। इसे आयुर्वेद में पददरी के नाम से भी जाना जाता है और यह वात के खराब होने के कारण होता है। यह त्वचा में नमी को कम करता है जिससे त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है। कोकम मक्खन फटी एड़ी के मामले में मदद करता है और इससे जुड़े दर्द को कम करता है। यह इसके वात संतुलन और रोपन (उपचार) गुणों के कारण है।
सुझाव:
ए. 1/4 -1/2 चम्मच पिघला हुआ कोकम मक्खन या अपनी आवश्यकता के अनुसार लें।
बी मोम के साथ मिलाएं और फटी एड़ियों के जल्दी ठीक होने के लिए दिन में एक या दो बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

3.
अर्टिकेरिया अर्टिकेरिया एक प्रकार की एलर्जी है जिसे आयुर्वेद में शीतपित्त के नाम से भी जाना जाता है। यह वात और कफ के असंतुलन के साथ-साथ पित्त के खराब होने के कारण होता है। पित्ती में कोकम लाभ देता है। यह इसके वात और कफ संतुलन गुणों के कारण है।
सुझाव:
ए. 1/4 -1/2 चम्मच पिघला हुआ कोकम मक्खन या अपनी आवश्यकता के अनुसार लें।
बी पित्ती के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए बादाम का तेल मिलाएं और दिन में एक या दो बार प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।

कोकुम का उपयोग कैसे करें

1. कोकम बटर
ए. 1/4 -1/2 चम्मच पिघला हुआ कोकम मक्खन या अपनी आवश्यकता के अनुसार लें।
बी बादाम का तेल मिलाकर प्रभावित जगह पर दिन में एक या दो बार लगाएं।
सी। पित्ती के लक्षणों को प्रबंधित करने और घाव के त्वरित उपचार के लिए इसे दोहराएं।

2. कोकम फलों का पेस्ट
a. 1-2 कोकम फल या अपनी आवश्यकता के अनुसार लें।
बी इसका पेस्ट बना लें और इसमें थोड़ा सा गुलाब जल मिलाएं।
सी। त्वचा की एलर्जी के कारण होने वाली खुजली को नियंत्रित करने के लिए दिन में एक बार त्वचा पर लगाएं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. काला कोकम क्या है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

बाजार में बिकने वाला कोकम आधा और सूखा छिलका होता है जो गहरे बैंगनी या काले रंग का होता है। छिलका चिपचिपा और घुमावदार किनारों वाला होता है। यह गुलाबी-बैंगनी रंग के साथ पकवान में एक मीठा और खट्टा स्वाद जोड़ता है।

Q. कोकम बटर कहां से आता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कोकम के पेड़ के फल से कोकम मक्खन को दबाया और परिष्कृत किया जाता है। गाढ़ा होने के कारण इसका उपयोग क्रीम और लोशन में किया जाता है। कोकम बटर का इस्तेमाल साबुन, बॉडी बटर और लिप बाम जैसे अन्य सौंदर्य प्रसाधनों में भी किया जाता है।

Q. कोकम का स्वाद कैसा लगता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सूखे कोकम का स्वाद तीखा होता है, इसलिए इसे आम तौर पर इमली के स्थान पर व्यंजनों में प्रयोग किया जाता है। यह एक मीठा-तीखा स्वाद प्रदान करता है।

Q. कोकम जूस पीने का सबसे अच्छा समय क्या है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

वैसे तो कोकम का जूस पीने का कोई निश्चित समय नहीं होता है, लेकिन गर्मी के मौसम में शरीर को डिहाइड्रेशन और सनस्ट्रोक से बचाने के लिए इसे ठंडे और ताज़गी देने वाले पेय के रूप में अधिक इस्तेमाल किया जाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

कोकम के फल से बने कोकम के रस का सेवन किसी भी मौसम में किया जा सकता है क्योंकि यह पाचन के लिए अच्छा होता है। यह अपने उष्ना (गर्म), दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण पाचन अग्नि (अग्नि) को बढ़ाने और पाचन में सुधार करने में मदद करता है।

Q. कोकम का पानी घर पर कैसे तैयार करें?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

आप घर पर कोकम का पानी / जूस इस प्रकार बना सकते हैं:
– 2-3 कोकम फल लें और उन्हें अच्छी तरह से धो लें। फलों को काट कर बीज निकाल दें।
– गूदे और बाहरी आवरण का प्रयोग करें।
– इसके गूदे को थोड़े से पानी के साथ पीस लें.
– मिश्रण को छान कर अलग कर लें.
– कोकम का पानी बनाने के लिए आप कोकम के गूदे में थोड़ा और पानी मिला सकते हैं.
– आप चीनी की चाशनी में ठंडा पानी डालकर इसका शरबत भी बना सकते हैं.

Q. क्या कोकम खांसी के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

खांसी में कोकम की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, कोकम का पका फल कफ को संतुलित करने के गुण के कारण खांसी को नियंत्रित करने में मदद करता है। उष्ना (गर्म) प्रकृति के कारण यह फेफड़ों से अतिरिक्त बलगम को बाहर निकालने में भी मदद करता है।

Q. क्या कोकम वजन घटाने के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कोकम में साइट्रिक एसिड का एक उत्पाद होता है जिसका मोटापा-विरोधी प्रभाव हो सकता है। वजन घटाने को बढ़ावा देने के लिए कोकम विभिन्न तरीकों से कार्य करता है। यह फैटी एसिड के उत्पादन को कम कर सकता है या हार्मोन सेरोटोनिन के स्राव को बढ़ा सकता है जिससे भूख कम लगती है। कोकम कार्बोहाइड्रेट चयापचय को भी कम कर सकता है। इन कार्यों के कारण कोकम वजन घटाने में उपयोगी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

कोकम वजन को नियंत्रित करने में उपयोगी है। कोकम तृप्ति की भावना देता है और लालसा को कम करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसके गुरु (भारी) स्वभाव के कारण इसे पचने में समय लगता है। यह चयापचय में सुधार करने और अमा को कम करने में भी मदद करता है (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) जो इसके दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण अधिक वजन के कारणों में से एक है।

Q. क्या कोकम पित्त प्रकृति के लिए अच्छा है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

पित्त प्रकृति वाले व्यक्ति के लिए कोकम अच्छा होता है। आयुर्वेद के अनुसार पित्त प्रकृति का अर्थ है वह जो गर्मी के प्रति अति संवेदनशील हो। यह गर्मी और सूजन को कम करने में मदद करता है। यह इसकी उष्ना (गर्म) प्रकृति के कारण है। कोकम का जूस या कोकम का पानी पीने से गर्मी दूर होती है, एसिडिटी कम होती है और लू से राहत मिलती है।

कोकम में उष्ना (गर्म) प्रकृति की होती है लेकिन इसका रस ठंडा करने वाली सामग्री और मिश्री के साथ बनाते समय। यह गर्मी और सूजन को कम करने के लिए एकदम सही है, यह पित्त दोष के लिए एक आदर्श मारक है। कोकम का पानी पीने से गर्मी के मौसम में गर्मी, एसिडिटी का मुकाबला करने और सनस्ट्रोक से राहत पाने में मदद मिलती है।

Q. क्या कोकम मधुमेह के रोगियों के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कोकम में एंटीऑक्सीडेंट और मधुमेह विरोधी गुण होते हैं। टाइप 2 मधुमेह के मामले में कम होने वाले कुछ एंजाइमों का स्तर कोकम द्वारा बहाल किया जाता है। कोकम के कुछ घटक कार्बोहाइड्रेट चयापचय में भी शामिल होते हैं। इसलिए, कोकम मधुमेह के प्रबंधन के साथ-साथ इससे संबंधित जटिलताओं में भी उपयोगी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

कोकम सामान्य रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में उपयोगी है। आयुर्वेद के अनुसार, मधुमेह को मधुमेह के रूप में जाना जाता है, जो वात की वृद्धि और खराब पाचन के कारण होता है। बिगड़ा हुआ पाचन अग्न्याशय की कोशिकाओं में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) का संचय करता है और इंसुलिन के कार्य को बाधित करता है। कोकम अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण खराब पाचन को ठीक करने और चयापचय में सुधार करने में मदद करता है। यह अमा को कम करता है और इंसुलिन के कार्य में सुधार करता है, इस प्रकार सामान्य रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन करता है।

Q. क्या कोकम एसिडिटी के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, कुछ सक्रिय यौगिकों की उपस्थिति के कारण अम्लता के प्रबंधन में कोकम उपयोगी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

कोकम पाचन तंत्र में सुधार के लिए अच्छा है। कोकम का रस पीने से पाचन अग्नि ठीक होती है और उष्ना (गर्म) प्रकृति के कारण भोजन को आसानी से पचने में मदद मिलती है। यह अपच के कारण होने वाली एसिडिटी को नियंत्रित करने में मदद करता है।

Q. क्या कोकम कब्ज का कारण बनता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, कोकम से कब्ज नहीं होती है। वास्तव में, पारंपरिक चिकित्सा में, कोकम का उपयोग कब्ज सहित विभिन्न पाचन समस्याओं के प्रबंधन के लिए किया जाता है।

Q. क्या कोकम लीवर के लिए हानिकारक है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, कोकम लीवर के लिए हानिकारक नहीं है। कोकम एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध है और लिपिड पेरोक्सीडेशन को रोकता है। इन गुणों के कारण, कोकम में हेपेटोप्रोटेक्टिव या लीवर-प्रोटेक्टिव गतिविधि है [12-14]।

Q. क्या कोकम गैस्ट्रिक अल्सर से बचाता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, कोकम गैस्ट्रिक अल्सर के खिलाफ सुरक्षात्मक कार्य कर सकता है। इसमें एक निश्चित घटक (गार्सिनॉल के रूप में जाना जाता है) होता है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि होती है। यह गैस्ट्रिक (पेट) की कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाता है और गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव गतिविधि दिखाता है जिससे गैस्ट्रिक अल्सर के गठन को रोका जा सकता है।

Q. क्या कोकम चिंता और अवसाद को कम करने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, कोकम चिंता और अवसाद को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। कोकम फल शरीर में सेरोटोनिन के स्तर (जिसे हैप्पी केमिकल के रूप में भी जाना जाता है) को बेहतर बनाने में मदद करता है जो मुख्य रूप से मस्तिष्क में संकेतों के संचरण के लिए जिम्मेदार होता है। सेरोटोनिन की बढ़ी हुई मात्रा से मस्तिष्क के कार्य में सुधार होता है और अवसाद और चिंता के लक्षणों को कम करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

वात शरीर की सभी गतिविधियों और तंत्रिका तंत्र की प्रत्येक क्रिया को नियंत्रित करता है। चिंता और अवसाद तंत्रिका संबंधी विकार हैं जो आमतौर पर वात दोष के असंतुलन के कारण होते हैं। कोकम नसों को आराम देता है और मन को शांत करता है, जिससे इसकी वात संतुलन संपत्ति के कारण चिंता और अवसाद से राहत मिलती है।

Q. क्या कोकम दिल के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, कोकम दिल के लिए अच्छा हो सकता है क्योंकि यह कार्डियोप्रोटेक्टिव गतिविधि को दर्शाता है। इसमें कुछ घटक (फ्लेवोनोइड्स के रूप में जाना जाता है) होते हैं जो हृदय की कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं क्योंकि इसकी एंटीऑक्सीडेंट संपत्ति हृदय स्वास्थ्य में सुधार करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हाँ, कोकम अपने हृदय (हृदय टॉनिक) गुण के कारण हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करके और इसकी कार्यप्रणाली को बढ़ाकर हृदय को मजबूत रखने में सहायक है। यह हृदय को स्वस्थ रखने और हृदय संबंधी समस्याओं के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

Q. कोकम जूस के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कोकम का रस प्रकृति में ठंडा और ताज़ा होता है और शरीर को निर्जलीकरण और सनस्ट्रोक से बचाने में मदद करता है। यह पाचन तंत्र में भी सुधार करता है और विभिन्न पेट और यकृत विकारों के लिए प्राकृतिक उपचार के रूप में प्रयोग किया जाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

कोकम के फल से कोकम का रस तैयार किया जाता है और इसे किसी भी मौसम में सेवन किया जा सकता है क्योंकि यह आपके पाचन के लिए अच्छा होता है। यह अपने उष्ना (गर्म), दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण पाचन अग्नि (अग्नि) को बढ़ाने और पाचन में सुधार करने में मदद करता है।

Q. क्या कोकम त्वचा के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, कोकम का तेल त्वचा के लिए अच्छा होता है। कोकम एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है जिसके कारण यह त्वचा की कोशिकाओं के अध: पतन को कम करता है। यह त्वचा की लोच को भी पुनर्स्थापित करता है जिससे झुर्रियाँ कम होती हैं और उम्र बढ़ने के प्रभाव लंबे होते हैं। पारंपरिक चिकित्सा में, कोकम का उपयोग त्वचा की एलर्जी के कारण होने वाले चकत्ते के प्रबंधन के लिए किया जाता है और यह जलन और फटी त्वचा का भी प्रबंधन करता है।

Q. क्या कोकम बटर बालों के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

बालों के लिए कोकम मक्खन के लाभों का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

बालों की समस्याओं के प्रबंधन के लिए कोकम मक्खन उपयोगी है। इसका उपयोग बालों से संबंधित समस्याओं विशेषकर बालों के झड़ने के लिए किया जाता है। कोकम बटर स्कैल्प से गंदगी और अतिरिक्त तेल को हटाने के साथ-साथ बालों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है। यह इसकी कषाय (कसैले) संपत्ति के कारण है।

Q. कोकम तेल का उपयोग कैसे किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कोकम का तेल इसके बीजों से निकाला जाता है और इसे कोकम बटर के नाम से भी जाना जाता है। रस और शर्बत बनाने के लिए खाना पकाने में इसके उपयोग के अलावा इसमें कॉस्मेटिक और औषधीय दोनों अनुप्रयोग हैं। कोकम बटर में कुछ ऐसे घटक होते हैं जिनमें एंटीऑक्सीडेंट के साथ-साथ एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं। कोकम बटर में मॉइस्चराइजिंग, सुखदायक, कसैले और डिमूलसेंट (जलन को शांत करने वाले) गुण भी होते हैं, जो इसे फेस क्रीम, स्किन लोशन और लिपस्टिक बनाने में उपयोगी बनाते हैं। इसका उपयोग मलहम और सपोसिटरी में आधार के रूप में भी किया जाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

बारिश या सर्दी के मौसम में सूखे हाथों और पैरों पर स्थानीय आवेदक के रूप में कोकम तेल का उपयोग किया जा सकता है। त्वचा का रूखापन आमतौर पर वात दोष के बढ़ने के कारण होता है। कोमम तेल अपने वात संतुलन, स्निग्धा (तैलीय) और रोपन (उपचार) गुणों के कारण सूखापन को प्रबंधित करने में मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.