Search
Generic filters

Mandukaparni | Mandukaparni के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

Mandukaparni

मंडुकपर्णी एक प्राचीन जड़ी बूटी है और यह नाम संस्कृत से लिया गया है जिसका अर्थ है (पत्ती एक मेंढक के पैरों जैसा दिखता है)। यह प्राचीन काल से एक विवादास्पद दवा है और अक्सर ब्राह्मी के साथ भ्रमित होती है क्योंकि ब्राह्मी वह है जो बुद्धि को बढ़ावा देती है और यही कारण है कि समान प्रभाव वाली कई जड़ी-बूटियां भ्रमित हो जाती हैं। आयुर्वेद में, यह कई यौगिक योगों का एक महत्वपूर्ण घटक है। मंडुकपर्णी मेध्या रसायन (साइकोट्रोपिक ड्रग्स) के रूप में जानी जाने वाली दवाओं के समूह से संबंधित है। बायोएक्टिव घटकों की उपस्थिति जड़ी बूटी को एक शक्तिशाली स्मृति बढ़ाने वाला बनाती है, ऐंठन-रोधी, अवसाद-रोधी, घाव भरने, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल गतिविधि प्रदान करती है। मंडुकपर्णी का सेवन ग्रहणी और गैस्ट्रिक अल्सर, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र, त्वचा और जठरांत्र संबंधी विकारों के जोखिम को भी नियंत्रित करता है।

मंडुकपर्णी के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

सेंटेला एशियाटिका, ब्रह्म मंडुकी, कोडंगल, करिवना, सरस्वती अकु, वौरी, मंडुकी, दारदुरचड्डा, मणिमुनि, झोलखुरी, थल्कुरी, थंकुनी, इंडियन पेनीवॉर्ट, खोडाब्राह्मी, खादभ्रम्मी, ओंडेलगा, ब्राह्मी सोपू, कोडंगल, करिवना, वल्ला।

मंडुकपर्णी का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

मंडुकपर्णी के लाभ

चिंता के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी अपनी चिंताजनक गतिविधि के कारण चिंता को कम करने में मदद करती है। यह कुछ मध्यस्थों के प्रभाव को कम करता है जो चिंता को प्रेरित करते हैं। यह व्यवहार परिवर्तन और हार्मोन के रिलीज को संतुलित करके न्यूरोट्रांसमीटर के कार्य का प्रबंधन भी करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

चिंता को एक तंत्रिका संबंधी विकार के रूप में वर्गीकृत किया जाता है जहां एक व्यक्ति को क्रोध, तनाव या अवसाद की भावना जैसे कुछ लक्षण मिलते हैं। आयुर्वेद के अनुसार, चिंता जैसे किसी भी स्नायविक विकार को वात दोष द्वारा नियंत्रित किया जाता है। मंडुकपर्णी चिंता के लक्षणों को कम करने में मदद करती है और मेध्य (मस्तिष्क टॉनिक) संपत्ति के कारण तंत्रिका तंत्र पर शांत प्रभाव डालती है।

मानसिक सतर्कता के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मानसिक सतर्कता में मंडुकपर्णी की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि, मंडुकपर्णी को अन्य जड़ी-बूटियों (जैसे अश्वगंधा और वाचा) के साथ लेने से संज्ञानात्मक कार्य में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

मंडुकपर्णी नियमित रूप से उपयोग करने पर मानसिक सतर्कता में सुधार करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार, तंत्रिका तंत्र वात द्वारा नियंत्रित होता है। वात के असंतुलन से मानसिक सतर्कता कमजोर होती है। मंडुकापर्णी अपने मेध्या (मस्तिष्क टॉनिक) गुण के कारण मानसिक सतर्कता में सुधार करने के साथ-साथ स्मृति को बढ़ाने में मदद करती है।

रक्त के थक्कों के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण रक्त के थक्कों की घटना को रोकने में मदद कर सकती है। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड सिंथेज़ का उत्पादन करता है। नाइट्रिक ऑक्साइड सिंथेज़ प्लेटलेट्स के आसंजन और एकत्रीकरण को रोकता है, जिससे रक्त के थक्कों को बनने से रोकता है।

मधुमेह मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2) के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी अपने एंटीऑक्सिडेंट और सूजन-रोधी गुणों के कारण मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। मंडुकपर्णी कार्बोहाइड्रेट के टूटने को कम करता है, ग्लूकोज के अवशोषण को रोकता है और रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। यह अग्नाशय की कोशिकाओं को होने वाले नुकसान को भी रोकता है और इंसुलिन स्राव को बढ़ाता है, जिससे रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन होता है।

लीवर की बीमारी के लिए मंडुकपर्णी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी अपनी एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि के कारण लीवर की बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है। यह मुक्त कणों से लड़ता है और कोशिका क्षति को रोकता है। विभिन्न अध्ययनों से पता चलता है कि यह सीरम में एल्ब्यूमिन और कुल प्रोटीन के स्तर को बढ़ाता है जो प्रोटीन के संश्लेषण को बढ़ाता है जिससे यकृत कोशिकाओं का पुनर्जनन होता है। साथ में यह लीवर की बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद करता है।

मंडुकपर्णी के थकान के लिए क्या लाभ हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

मंडुकपर्णी दैनिक जीवन में थकान से छुटकारा पाने के लिए एक उपयोगी जड़ी बूटी है। थकान का तात्पर्य थकान, कमजोरी या ऊर्जा की कमी की भावना से है। आयुर्वेद के अनुसार थकान को कलमा कहा जाता है। मंडुकपर्णी अपने बल्या (शक्ति प्रदाता) और रसायन (कायाकल्प) गुणों के कारण तत्काल ऊर्जा देती है और थकान के लक्षणों को कम करती है।

मंडुकपर्णी के अपच के लिए क्या लाभ हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

मंडुकपर्णी अपच को प्रबंधित करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार अपच का अर्थ है पाचन की अपूर्ण प्रक्रिया की स्थिति। अपच का प्राथमिक कारण बढ़ा हुआ कफ है जो अग्निमांड्य (कमजोर पाचन अग्नि) को जन्म देता है। मंडुकपर्णी लेने से अग्नि (पाचन अग्नि) में सुधार होता है और दीपन (भूख बढ़ाने वाला) गुण के कारण भोजन आसानी से पच जाता है, जिससे अपच को रोका जा सकता है।

सामान्य सर्दी के लक्षणों के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

मंडुकपर्णी सामान्य सर्दी और फ्लू और इसके लक्षणों जैसे खांसी को प्रबंधित करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार खांसी मुख्य रूप से कफ दोष के असंतुलन के कारण होती है। मंडुकपर्णी अपनी सीता (ठंडी) शक्ति के बावजूद बढ़े हुए कफ को संतुलित करने में मदद करती है। यह अपने रसायन (कायाकल्प) गुण के कारण नियमित रूप से लिए जाने पर प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है जो सामान्य सर्दी की पुनरावृत्ति को रोकने में मदद करता है।

मूत्र मार्ग में संक्रमण (यूटीआई) के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

मूत्र पथ के संक्रमण (UTI) को आयुर्वेद में Mutrakchhra के व्यापक शब्द के तहत वर्णित किया गया है। मुद्रा का अर्थ है रिसना, कृचर का अर्थ है पीड़ादायक। मंडुकपर्णी मूत्र के प्रवाह को बढ़ाती है और यूटीआई के लक्षणों को कम करती है जैसे कि सीता (ठंड) और मूत्रल (मूत्रवर्धक) गुणों के कारण पेशाब के दौरान जलन।

मंडुकपर्णी कितनी प्रभावी है?

अपर्याप्त सबूत

चिंता, रक्त के थक्के, सामान्य सर्दी के लक्षण, मधुमेह मेलेटस (टाइप 1 और टाइप 2), ​​थकान, अपच, यकृत रोग, मानसिक सतर्कता, मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई)

मंडुकपर्णी . का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. मंडुकपर्णी को 6 सप्ताह से अधिक समय तक उपयोग करने की अनुशंसा नहीं की जाती है क्योंकि लंबे समय तक उपयोग सक्रिय घटकों के चयापचय को धीमा कर सकता है और विषाक्तता पैदा कर सकता है। इसलिए, मंडुकपर्णी के हर 6-सप्ताह के चक्र के बाद 2 सप्ताह का ब्रेक लेने की सलाह दी जाती है।

2. अगर सर्जरी के दौरान और बाद में इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के साथ मंडुकपर्णी को लिया जाए तो उनींदापन या नींद आ सकती है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि निर्धारित सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले मंडुकपर्णी का उपयोग बंद कर दें।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

स्तनपान के दौरान मंडुकपर्णी के उपयोग के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि स्तनपान के दौरान मंडुकपर्णी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से सलाह न लें या परामर्श लें।

मधुमेह के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी के कारण रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है। इसलिए, मधुमेह रोगियों के लिए मंडुकपर्णी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से बचने या परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

हृदय रोग के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कुछ लोगों में, मंडुकपर्णी लिपिड के स्तर में वृद्धि का कारण बन सकती है। इसलिए, हृदय रोग के रोगियों के लिए यह सलाह दी जाती है कि मंडुकपर्णी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से परामर्श न करें या परामर्श करें।

लीवर की बीमारी के मरीज

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी से लीवर को नुकसान हो सकता है। इसलिए, जिगर की बीमारी वाले रोगियों के लिए मंडुकपर्णी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से बचने या परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान मंडुकपर्णी के उपयोग के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए, गर्भावस्था के दौरान मंडुकपर्णी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करने या परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. सिरदर्द
2. मतली
3. अपच
4. चक्कर आना
5. तंद्रा।

गंभीर दवा बातचीत

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी शामक के प्रभाव को बढ़ा सकती है। इसलिए, आमतौर पर मंडुकपर्णी को शामक के साथ लेते समय चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

मंडुकपर्णी की अनुशंसित खुराक

  • मंडुकपर्णी पाउडर – 1-3 ग्राम दिन में दो बार या चिकित्सक के निर्देशानुसार।
  • मंडुकापर्णी कैप्सूल – 1 कैप्सूल दिन में दो बार या चिकित्सक द्वारा निर्देशित।

मंडुकपर्णी का इस्तेमाल कैसे करें

1. मंडुकपर्णी पाउडर
a. मंडुकपर्णी चूर्ण 1-3 ग्राम (या चिकित्सक के निर्देशानुसार) लें।
बी इसमें थोड़ा सा शहद मिलाएं।
सी। मानसिक सतर्कता में सुधार के लिए भोजन के बाद दिन में एक या दो बार लें।

2. मंडुकपर्णी (गोटू कोला) कैप्सूल
a. 1 मंडुकपर्णी कैप्सूल (या चिकित्सक द्वारा निर्देशित) लें।
बी चिंता के लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए भोजन के बाद दिन में एक या दो बार इसे गुनगुने पानी या दूध के साथ निगल लें।

मंडुकपर्णी के लाभ

घाव भरने के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकापर्णी जेल अपने एंटीऑक्सिडेंट, विरोधी भड़काऊ और रोगाणुरोधी गुणों के कारण घाव भरने में मदद कर सकता है। मंडुकपर्णी में मौजूद फाइटोकॉन्स्टिट्यूएंट्स घाव को सिकोड़ने और बंद करने में मदद करते हैं। यह कोलेजन के निर्माण और नई त्वचा कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है। मंडुकपर्णी बैक्टीरिया और माइक्रोबियल संक्रमण के जोखिम को भी कम करता है, जिससे घाव भरने को बढ़ावा मिलता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

मंडुकापर्णी सूजन को कम करके और त्वचा की सामान्य बनावट को वापस लाकर घाव भरने को बढ़ावा देने में मदद करती है। नारियल के तेल के साथ मंडुकपर्णी चूर्ण का लेप घाव पर लगाने से घाव ठीक हो जाता है और इसके रोपन (उपचार) और पित्त संतुलन गुणों के कारण सूजन कम हो जाती है।

सोरायसिस के लिए मंडुकपर्णी के क्या लाभ हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

सोरायसिस एक आम, पुरानी, ​​ऑटोइम्यून बीमारी है जो त्वचा पर शुष्क, लाल, पपड़ीदार पैच और फ्लेक्स का कारण बनती है। मंडुकपर्णी सोरायसिस में उपयोगी है क्योंकि यह सूखापन कम करती है और रोपन (उपचार) संपत्ति के कारण बाहरी रूप से लागू होने पर स्केली पैच के त्वरित उपचार में मदद करती है।

सोरायसिस के प्रबंधन के लिए मंडुकपर्णी का उपयोग करने के लिए टिप-
1. मंडुकपर्णी तेल की 4-5 बूंदें (या अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
2. नारियल या बादाम के तेल में मिलाएं।
3. सोरायसिस के लक्षणों जैसे लालिमा और पपड़ीदार त्वचा से छुटकारा पाने के लिए दिन में एक या दो बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

मंडुकपर्णी कितनी प्रभावी है?

अपर्याप्त सबूत

सोरायसिस, घाव भरना

मंडुकपर्णी . का उपयोग करते समय सावधानियां

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी बाहरी रूप से उपयोग किए जाने पर कुछ लोगों में त्वचा की एलर्जी का कारण बन सकती है।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी गर्भवती महिलाओं के लिए त्वचा पर लगाने के लिए संभवतः सुरक्षित है, हालांकि, उपयोग करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. जिल्द की सूजन
2. त्वचा पर जलन।

मंडुकपर्णी की अनुशंसित खुराक

  • मंडुकपर्णी तेल – 4-5 बूँदें या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • मंडुकपर्णी पाउडर – 1-6 ग्राम या अपनी आवश्यकता के अनुसार।

मंडुकपर्णी का इस्तेमाल कैसे करें

1. मंडुकापर्णी (सेंटेला एशियाटिका) तेल
a. मंडुकपर्णी तेल की 4-5 बूँदें (या अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
बी नारियल या बादाम के तेल में मिलाएं।
सी। घाव भरने को बढ़ावा देने के लिए दिन में एक या दो बार प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।

2. मंडुकपर्णी पाउडर
a. मंडुकपर्णी चूर्ण 1-6 ग्राम (या अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
बी इसमें शहद मिलाकर पेस्ट बना लें।
सी। समान रूप से चेहरे और गर्दन पर लगाएं।
डी इसे 15-20 मिनट तक बैठने दें।
इ। नल के पानी से अच्छी तरह धो लें।
एफ कोमल और कोमल त्वचा पाने के लिए इस उपाय का प्रयोग दिन में 1-2 बार करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या मंडुकपर्णी का इस्तेमाल सौंदर्य प्रसाधनों में किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, मंडुकापर्णी अर्क का उपयोग सौंदर्य प्रसाधनों में एक घटक के रूप में किया जाता है।

Q. आप मंडुकपर्णी चाय कैसे बनाते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी चाय बनाने के लिए-

1. प्रति कप पानी में आधा चम्मच ताजा या सूखा गोटू कोला (मंडुकपर्णी) की पत्तियां लें।
2. इसमें उबलता पानी डालें और ढक्कन से ढक दें।
3. जड़ी-बूटी को 10 से 15 मिनट तक रहने दें। याद रखें कि जितनी देर आप जड़ी-बूटियों को खड़े रहने देंगे, चाय उतनी ही मजबूत होगी।
4. पत्तों को छान लें और चाय को गरमागरम परोसें।

Q. क्या गोटू कोला (मंडुकपर्णी) और ब्राह्मी एक ही हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि गोटू कोला (मंडुकपर्णी) और ब्राह्मी के बीच समानता के बारे में भ्रम है, लेकिन वे समान नहीं हैं। उन्हें अलग-अलग खुराक में लिया जाता है और प्रत्येक के अलग-अलग लाभ और दुष्प्रभाव होते हैं। ब्राह्मी या गोटू कोला (मंडुकपर्णी) लेने से पहले चिकित्सक से सलाह लें।

Q. क्या गोटू कोला पेनीवॉर्ट के समान है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, वे गोटू कोला और पेनीवॉर्ट एक ही हैं – ये मंडुकपर्णी को दिए गए अलग-अलग नाम हैं। गोटू कोला को एशियाटिक पेनीवॉर्ट या इंडियन पेनीवॉर्ट के नाम से भी जाना जाता है। यह जड़ी-बूटी अपने औषधीय और पाककला संबंधी उपयोगों के लिए प्रसिद्ध है।

Q. मंडुकपर्णी/गोटू कोला लेने के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी/गोटू कोला घाव भरने के लाभ दिखाने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा, यह विभिन्न त्वचा स्थितियों जैसे कुष्ठ रोग, ल्यूपस, वैरिकाज़ अल्सर, एक्जिमा और सोरायसिस के इलाज में एक गढ़ है। इसका उपयोग मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को फिर से सक्रिय करने, ध्यान अवधि और एकाग्रता बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है।

Q. क्या मंडुकपर्णी उच्च रक्तचाप के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मंडुकपर्णी अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण उच्च रक्तचाप के लिए अच्छा हो सकता है। मंडुकपर्णी रक्त में कुछ रसायनों को अधिक उपलब्ध कराकर रक्तचाप को भी कम करता है। यह संकुचित हृदय की चिकनी मांसपेशियों को आराम देता है और रक्तचाप को कम करता है।

Q. पेनीवॉर्ट (मंडुकपर्णी) गठिया के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मंडुकपर्णी अपने एंटीऑक्सिडेंट और सूजन-रोधी गुणों के कारण गठिया के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। यह एक भड़काऊ प्रोटीन की गतिविधि को रोकता है और गठिया से जुड़े जोड़ों के दर्द और सूजन को कम करता है।

Q. क्या गोटू कोला (मंडुकपर्णी) में कैफीन है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, गोटू कोला (मंडुकपर्णी) में कैफीन नहीं होता है, न ही यह कोई उत्तेजक गुण दिखाता है।

Q. मंडुकपर्णी पाउडर का उपयोग कैसे करें?

आयुर्वेदिक नजरिये से

मानसिक सतर्कता के लिए मंडुकपर्णी चूर्ण कारगर है। मंडुकपर्णी चूर्ण 1-3 ग्राम शहद या पानी के साथ दिन में एक या दो बार हल्का भोजन करने के बाद ले सकते हैं।

प्र. क्या मंडुकपर्णी/गोटू कोला के कोई दुष्प्रभाव हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

आम तौर पर मंडुकपर्णी/गोटू कोला को अनुशंसित मात्रा में लेना सुरक्षित माना जाता है। हालांकि, इसे लंबे समय तक शीर्ष रूप से उपयोग करने से खुजली और लालिमा हो सकती है। इसलिए, किसी भी रूप में इसका उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

Q. क्या मंडुकपर्णी बुखार को प्रबंधित करने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मंडुकपर्णी अपने ज्वरनाशक गुण के कारण बुखार को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। अध्ययनों से पता चलता है कि यह ज्वरनाशक एजेंट शरीर के ऊंचे तापमान को कम करने में मदद करता है और बुखार से राहत प्रदान करता है।

Q. क्या मंडुकपर्णी सोरायसिस को प्रबंधित करने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, मंडुकपर्णी सोरायसिस के मामले में संक्रमण और दर्द को कम कर सकती है क्योंकि इसमें एंटी-सोरायटिक गतिविधि होती है।

प्र. क्या मंडुकपर्णी मिर्गी के लिए उपयोगी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मंडुकपर्णी अपने एंटीपीलेप्टिक और चिंताजनक गुणों के कारण मिर्गी के लिए उपयोगी हो सकती है। यह उत्तेजना के स्तर को कम करके जब्ती गतिविधि को दबाने में प्रभावी है, जिससे मिर्गी का प्रबंधन होता है।

Q. क्या मंडुकपर्णी/गोटू कोला त्वचा में कसाव लाता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मंडुकपर्णी में टेरपेनोइड्स की उपस्थिति शरीर में कोलेजन उत्पादन को बढ़ाने में सहायक मानी जाती है। त्वचा की दृढ़ता और लोच को बहाल करने के लिए कोलेजन संश्लेषण महत्वपूर्ण है। यह नए खिंचाव के निशान को बनने से रोकने में मदद कर सकता है और किसी भी मौजूदा निशान को ठीक करने में भी मदद कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.