Search
Generic filters

Mung daal | Mung daal के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

Mung daal

मूंग दाल या मुडगा संस्कृत में और इसे “ग्रीन ग्राम” के रूप में भी जाना जाता है। यह आमतौर पर दैनिक खाद्य लेख के रूप में दाल (बीज और अंकुरित) का उपयोग किया जाता है जिसमें जैविक गतिविधियों के साथ प्रचुर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं। कुछ गतिविधियाँ जिनमें विभिन्न स्वास्थ्य लाभकारी बायोएक्टिव यौगिक होते हैं, वे हैं एंटीऑक्सिडेंट, मधुमेह विरोधी, रोगाणुरोधी, एंटी-हाइपरलिपिडेमिक और एंटीहाइपरटेंसिव प्रभाव, विरोधी भड़काऊ, और कैंसर विरोधी, एंटी-ट्यूमर और एंटी-म्यूटाजेनिक। मूंग की फलियों का नियमित सेवन एंटरोबैक्टीरिया के वनस्पतियों को नियंत्रित कर सकता है, विषाक्त पदार्थों के अवशोषण को कम कर सकता है, हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया और कोरोनरी हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है। विभिन्न क्षेत्रों में साक्ष्य के अनुसार मूंग की फलियों का अत्यधिक कुशल उपयोग भोजन, दवा और कॉस्मेटिक हैं [२-४]।

मूंग दाल के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

विग्ना रेडियाटा, फेजोलस रेडियेटस, मुंगल्या, मूंग, हरा चना, मग, मैग, मुंगा, हेसरा, हेसोरूबल्ली, चेरुपयार, मुगा, जयमुगा, मुंगी, मुंगा पट्टचाई पयारू, पासी पयारू, सिरु मुर्ग, पेसालु, पछा।

मूंग दाल का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

मूंग दाल के फायदे

1. अपचन
भोजन के अधूरे पाचन के कारण अपच होता है। अपच का मुख्य कारण अग्निमांड्य (कमजोर पाचक अग्नि) है। मूंग दाल अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाले) गुण के कारण अपच को नियंत्रित करने के लिए अग्नि (पाचन अग्नि) को बढ़ाने में मदद करती है। इसके अलावा, मूंग दाल अपने लघु (हल्के) गुण के कारण पचने में भी आसान होती है।
अपच को नियंत्रित करने के लिए मूंग दाल लेने की युक्ति- मूंग दाल
को पचाने में आसान बनाने के लिए आप इसमें एक चुटकी हींग मिला सकते हैं।

2. भूख
में कमी आयुर्वेद में, भूख न लगना अग्निमांड्य (कमजोर पाचन) से संबंधित है और यह वात, पित्त और कफ दोषों के बढ़ने के साथ-साथ कुछ मनोवैज्ञानिक कारकों के कारण होता है। इससे भोजन का अधूरा पाचन होता है और पेट में गैस्ट्रिक रस का अपर्याप्त स्राव होता है जिसके परिणामस्वरूप भूख कम लगती है। मूंग दाल अग्नि (पाचन अग्नि) को बढ़ाने में मदद करती है और इसके दीपन (भूख बढ़ाने वाले) गुण के कारण भूख में सुधार करती है। यह अपने लघु (प्रकाश) गुण के कारण एक अच्छा पाचन उत्तेजक और क्षुधावर्धक भी माना जाता है।

3. अति अति
अम्लता अम्लता पेट में अम्ल के बढ़े हुए स्तर को दर्शाती है। बढ़ा हुआ पित्त पाचन अग्नि को खराब करता है, जिससे भोजन का अनुचित पाचन होता है और साथ ही अमा का उत्पादन होता है (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विष बना रहता है)। यह अमा पाचन तंत्र में जमा हो जाता है और हाइपरएसिडिटी का कारण बनता है। मूंग दाल अत्यधिक एसिड उत्पादन को रोकने में मदद करती है और पाचन में सुधार करती है, जिससे पित्त संतुलन और दीपन (पेटाइज़र) गुणों के कारण हाइपरएसिडिटी से राहत मिलती है।

4. दस्त
, आयुर्वेद में अतिसार के नाम से जाना जाने वाला दस्त, वात दोष के असंतुलन के कारण होता है। अनुचित भोजन, अशुद्ध पानी, विषाक्त पदार्थ, मानसिक तनाव और अग्निमांड्य (कमजोर पाचन अग्नि) वात को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। यह बढ़ा हुआ वात शरीर के विभिन्न ऊतकों से आंत में तरल पदार्थ लाता है और इसे मल के साथ मिलाता है जिससे दस्त के रूप में जाना जाने वाला पानी जैसा दस्त होता है। मूंग दाल अपने ग्रही (शोषक) गुण के कारण आंतों से अतिरिक्त तरल पदार्थ को अवशोषित करने में मदद करती है और दस्त को रोकती है।

दस्त को नियंत्रित करने के लिए मूंग दाल का सेवन करने की युक्ति-
a. दस्त को नियंत्रित करने के लिए मूंग दाल का सेवन हल्की खिचड़ी के रूप में किया जा सकता है।

5. आंखों की समस्याएं
आंखों में जलन, खुजली या किसी भी तरह की जलन जैसी समस्याएं आमतौर पर पित्त और कफ दोष के असंतुलन के कारण होती हैं। मूंग दाल अपने पित्त-कफ संतुलन और नेत्र (नेत्र टॉनिक) गुणों के कारण आंखों की समस्याओं का प्रबंधन करने में मदद करती है। यह दोषों को बढ़ने से रोकने में मदद करता है और आंखों में जलन, खुजली या किसी भी तरह की जलन जैसे लक्षणों को भी कम करता है।

मूंग दाल का प्रयोग करते समय सावधानियां

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मूंग दाल के सेवन से कुछ लोगों में हल्की जलन हो सकती है। इसलिए आमतौर पर सलाह दी जाती है कि मूंग दाल को अपने आहार में शामिल करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. चिड़चिड़ापन
2. थकान
3. अधीरता
4. दस्त
5. मतली
6. पेट में ऐंठन

मूंग दाल का इस्तेमाल कैसे करें

1. मूंग दाल
ए. 4-8 चम्मच मूंग दाल लें।
बी इसमें पानी डालें।
सी। अपने स्वादानुसार हल्दी और नमक डालें।
डी दाल को प्रेशर कुकर में अच्छी तरह उबाल लें।
इ। अच्छे पाचन को बनाए रखने में मदद करने के लिए दिन में 1-2 बार मूंग दाल के भोजन का आनंद लें।

2. मूंग दाल का हलवा
a. एक कढ़ाई में 4-5 छोटी चम्मच घी लें।
बी इसमें 10-15 चम्मच मूंग दाल का पेस्ट मिलाएं।
सी। मध्यम आंच पर लगातार चलाते हुए पेस्ट को अच्छी तरह से पकाएं।
डी इसमें अपने स्वादानुसार चीनी और सूखे मेवे मिलाएं।
इ। स्वस्थ मिठाई के रूप में स्वादिष्ट मूंग दाल के हलवे का आनंद लें।
यह अच्छे पाचन, भूख को बनाए रखने और आंतरिक रूप से शक्ति प्रदान करने में भी मदद करेगा।

मूंग दाल के फायदे

1. त्वचा की समस्याएं
मूंग दाल त्वचा के लिए फायदेमंद होती है और त्वचा की कुछ समस्याओं जैसे मुंहासे, जलन, खुजली या जलन को प्रबंधित करने में मदद करती है। ये समस्याएं पित्त और कफ दोष के असंतुलन के कारण होती हैं। मूंग दाल अपने पित्त-कफ संतुलन, सीता (ठंडा) और कषाय (कसैले) गुणों के कारण उन्हें प्रबंधित करने में मदद करती है। यह त्वचा की समस्याओं के लक्षणों को रोकने और कम करने में मदद करता है।

स्वस्थ चमकती त्वचा पाने के लिए मूंग दाल का उपयोग करने की
युक्ति- a. 50 ग्राम मूंग दाल को एक कटोरी में रात भर भिगो दें और सुबह इसे बारीक पीसकर पेस्ट बना लें।
b. पेस्ट में 1 चम्मच कच्चा शहद और 1 चम्मच बादाम का तेल मिलाएं।
c. इस फेस पैक को अपने चेहरे पर समान रूप से लगाएं।
d.इसे 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें और सामान्य पानी से धो लें।
अपनी त्वचा में स्वस्थ चमक के लिए इस पैक को हर दूसरे दिन लगाएं।

मुंग दाल के इस्तेमाल से पिंपल्स या मुंहासों से छुटकारा पाने के उपाय-
क. 1/4 कप मूंग दाल को रात भर भिगोकर रखें और सुबह इसे पीसकर बारीक पेस्ट बना लें।
ख. पेस्ट में 2 बड़े चम्मच घर का बना घी मिलाएं।
ग. इस पेस्ट से अपनी त्वचा को ऊपर की दिशा में मालिश करें।
d.अपनी त्वचा को मुंहासों और फुंसियों से मुक्त रखने के लिए इस पेस्ट का प्रयोग सप्ताह में तीन बार करें

मूंग दाल की अनुशंसित खुराक

  • मूंग दाल का पेस्ट – 2-3 चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • मूंग दाल पाउडर – 2-3 चम्मच या अपनी आवश्यकता के अनुसार।

मूंग दाल का इस्तेमाल कैसे करें

1. मूंग दाल का पेस्ट
a. 2-3 चम्मच मूंग दाल का पेस्ट लें।
बी इसमें दूध डालें।
सी। चेहरे और शरीर पर लगाएं।
डी इसे 4-5 मिनट के लिए बैठने दें।
इ। नल के पानी से अच्छी तरह धो लें।
रूखी और बेजान त्वचा से छुटकारा पाने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 2-3 बार इस्तेमाल करें।

2. मूंग दाल पाउडर
a. 2-3 चम्मच मूंग दाल का पाउडर लें।
बी थोड़ा सा गुलाब जल और सेब का सिरका मिलाकर पेस्ट बना लें।
सी। बालों और खोपड़ी पर समान रूप से लगाएं।
डी इसे 2-3 घंटे के लिए बैठने दें।
इ। शैम्पू और पानी से धो लें।
मुलायम और चमकदार बाल पाने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 1-2 बार इस्तेमाल करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या मूंग दाल का स्टार्च स्वस्थ है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, मूंग दाल का स्टार्च सेहतमंद होता है। मूंग दाल स्टार्च पेट और आंतों के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए अच्छा है। यह पोषक तत्वों से भरा हुआ है जो विभिन्न पोषण संबंधी खाद्य पदार्थों को पूरक कर सकता है और कमजोर पाचन तंत्र वाले रोगियों के लिए सहायक है।

Q. क्या आप कच्ची मूंग खा सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कच्ची मूंग की फलियाँ काफी सख्त होती हैं और इसलिए इन्हें पचाना और बाहर निकालना बहुत मुश्किल होता है। यही कारण है कि इन्हें भिगोकर और/या उबालकर खाना पसंद किया जाता है।

प्र. क्या आपको मूंग दाल को पकाने से पहले भिगोना है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मूंग की फलियों को पकाने से पहले भिगोना वांछनीय है। मूंग दाल को पानी में कुछ देर के लिए भिगोने से यह आसानी से बन जाती है.

Q. मूंग दाल के पोषण संबंधी तथ्य क्या हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मूंग दाल एक महत्वपूर्ण खाद्य फली फसल है। मूंग दाल संतुलित पोषक तत्वों का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जिसमें प्रोटीन, आहार फाइबर, खनिज, विटामिन और महत्वपूर्ण मात्रा में बायोएक्टिव यौगिक शामिल हैं। इसके अलावा, यह पॉलीफेनोल्स में समृद्ध है जो रक्त वाहिकाओं को स्वस्थ और लचीला रखने के लिए आवश्यक हैं, अच्छे परिसंचरण को बढ़ावा देते हैं।

Q. क्या मूंग दाल के आटे में ग्लूटेन होता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मूंग दाल का आटा पूरी तरह से ग्लूटेन फ्री होता है। इसे ग्राउंड मून बीन्स से बनाया जाता है। इसमें कार्ब्स की मात्रा कम होती है और प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है, जिससे ग्लूटेन असहिष्णुता वाले लोगों के लिए भी इसे आहार में शामिल करना एक आदर्श विकल्प है।

Q. क्या मूंग दाल मधुमेह के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मूंग दाल अपने एंटीऑक्सिडेंट और सूजन-रोधी गुणों के कारण मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। यह अग्नाशयी बीटा कोशिकाओं के नुकसान को कम करता है और इंसुलिन स्राव को बढ़ाता है, जिससे रक्त शर्करा का स्तर कम होता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

मधुमेह, जिसे मधुमेह भी कहा जाता है, वात-कफ दोष के असंतुलन और खराब पाचन के कारण होता है। बिगड़ा हुआ पाचन अग्न्याशय की कोशिकाओं में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) का संचय करता है और इंसुलिन के कार्य को बाधित करता है। मूंग दाल अपने मधुर (मीठे) स्वाद के बावजूद, अपने कफ संतुलन और कषाय (कसैले) गुणों के कारण इंसुलिन के सामान्य स्तर को बनाए रखते हुए मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद करती है। यह शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य बनाए रखने में मदद करता है, जिससे मधुमेह नियंत्रण में रहता है।

Q. क्या मूंग दाल सेहत बनाए रखने में मदद करती है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हां, मूंग दाल अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और बल्या (शक्ति प्रदाता) गुणों के कारण अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करती है। यह बढ़ी हुई भूख के साथ अच्छे पाचन को बनाए रखने में मदद करता है और शरीर को आंतरिक रूप से शक्ति प्रदान करता है, जो आगे स्वस्थ हड्डियों और मांसपेशियों को बनाए रखता है।

Q. क्या मूंग शरीर में यूरिक एसिड के उच्च स्तर को प्रबंधित करने के लिए अच्छा है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हाँ, मूंग की फलियाँ अपने लघु (हल्का) और दीपन (भूख बढ़ाने वाले) गुणों के कारण शरीर में यूरिक एसिड के उच्च स्तर को प्रबंधित करने के लिए अच्छी होती हैं। अत्यधिक यूरिक एसिड एक ऐसी स्थिति है जो कमजोर या खराब पाचन के कारण होती है जहां गुर्दे के लिए उचित उत्सर्जन प्रक्रिया करना मुश्किल हो जाता है। मूंग दाल या मूंग दाल अच्छे पाचन को बनाए रखने में मदद करती है और पचने में हल्की भी होती है, जो यूरिक एसिड के सामान्य स्तर को बनाए रखने में सहायक होती है।

Q. क्या मूंग लीवर के लिए अच्छी है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हां, मूंग लीवर और लीवर से संबंधित कुछ समस्याओं जैसे कि इसके लघु (हल्का) और दीपन (भूख बढ़ाने वाला) गुणों के कारण अपच के लिए अच्छा है। यह अग्नि (पाचन अग्नि) को बढ़ाने और पाचन में सुधार करने में मदद करता है, इस प्रकार एक स्वस्थ यकृत बनाए रखता है।

Q. क्या मूंग बच्चों के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

शिशुओं के लिए मूंग दाल के लाभों के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

प्र. क्या मूंग गाउट के लिए अच्छी है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

गाउट वात दोष के असंतुलन के साथ-साथ अपूर्ण पाचन के कारण होता है जिससे यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है। मूंग अपने लघु (हल्का) और दीपन (भूख बढ़ाने वाले) गुणों के कारण शरीर में यूरिक एसिड के उच्च स्तर के प्रबंधन के लिए अच्छा है। अत्यधिक यूरिक एसिड एक ऐसी स्थिति है जो कमजोर या खराब पाचन के कारण होती है जहां गुर्दे के लिए उचित उत्सर्जन प्रक्रिया करना मुश्किल हो जाता है। मूंग दाल या मूंग दाल अच्छे पाचन को बनाए रखने में मदद करती है और पचने में भी हल्की होती है, जो यूरिक एसिड के सामान्य स्तर को बनाए रखने में सहायक होती है, जिससे गाउट को रोका जा सकता है।

Q. क्या गठिया के लिए मूंग दाल अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मूंग दाल अपने एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण गठिया के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। मूंग दाल में मौजूद कुछ घटक एक भड़काऊ प्रोटीन की गतिविधि को रोकते हैं जो सूजन को प्रेरित करता है। यह गठिया से जुड़े जोड़ों के दर्द और सूजन को कम करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, गठिया रोग में मूंग दाल फायदेमंद हो सकती है। गठिया कमजोर या खराब पाचन के कारण होता है। मूंग की दाल प्रकृति में छोटी (हल्का) होती है जिसके कारण यह आसानी से पच जाती है। मूंग दाल गठिया के लिए भी फायदेमंद है क्योंकि इसमें दीपन (भूख बढ़ाने वाला) गुण होता है जो अच्छे पाचन को बनाए रखने में मदद करता है।

Q. क्या मूंग की दाल कोलेस्ट्रॉल के लिए अच्छी होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मूंग दाल अपने कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले गुण के कारण कोलेस्ट्रॉल को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। यह शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल (उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन) को बढ़ाते हुए कुल कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड्स और खराब कोलेस्ट्रॉल (कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन) को कम करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

उच्च कोलेस्ट्रॉल अग्नि (पाचन अग्नि) के असंतुलन के कारण होता है। बिगड़ा हुआ पाचन अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) के रूप में अत्यधिक विषाक्त पदार्थ पैदा करता है जो रक्त वाहिकाओं को बाधित करता है। मूंग दाल पाचन में सुधार करने में मदद करती है, इस प्रकार इसकी दीपन (भूख बढ़ाने वाली) संपत्ति के कारण शरीर में विषाक्त पदार्थों को बनने से रोकती है।

Q. क्या उच्च रक्तचाप के लिए मूंग दाल अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, मूंग दाल उच्च रक्तचाप को प्रेरित करने वाले एंजाइम की गतिविधि को रोककर रक्तचाप को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है।

Q. क्या मूंग किडनी के मरीजों के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गुर्दे की समस्या वाले रोगियों में मूंग की भूमिका के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

Q. क्या मूंग दाल मोटापे को प्रबंधित करने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, मूंग की दाल मोटापे से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद है क्योंकि इसमें फैट कम और फाइबर की मात्रा अधिक होती है। यह परिपूर्णता की भावना को प्रेरित करता है और लालसा को कम करता है। यह कैलोरी में भी कम है और इसमें कुछ ऐसे घटक होते हैं जो अधिक कैलोरी जलाने में मदद करते हैं, जिससे वजन प्रबंधन में मदद मिलती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

वजन (या मोटापा) में अत्यधिक वृद्धि अस्वास्थ्यकर भोजन की आदतों और जीवन शैली के कारण होती है जो कमजोर पाचन अग्नि की ओर ले जाती है। एक बढ़ा हुआ कफ दोष अस्वास्थ्यकर वजन बढ़ाने में योगदान देता है। कमजोर या खराब पाचन से वसा और अमा के रूप में विषाक्त पदार्थों का निर्माण और संचय होता है। मूंग दाल शरीर में विषाक्त पदार्थों के निर्माण को रोकने में मदद करती है, जिससे इसके कफ संतुलन और दीपन (भूख बढ़ाने वाले) गुणों के कारण मोटापे का प्रबंधन होता है।

Q. क्या मूंग दाल सूजन को कम करने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मूंग दाल अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण सूजन को कम करने में मदद कर सकती है। यह कुछ मध्यस्थों की गतिविधि को रोकता है जो सूजन का कारण बनते हैं, जिससे शरीर में दर्द और सूजन कम होती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

सूजन आमतौर पर वात और पित्त दोष के असंतुलन के कारण होती है। मूंग दाल अपने पित्त संतुलन गुण के कारण सूजन को रोकने के साथ-साथ सूजन को कम करने में मदद करती है।

Q. मूंग दाल गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों के प्रबंधन में कैसे मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मूंग दाल अपने रोगाणुरोधी और जीवाणुरोधी गुणों के कारण जठरांत्र संबंधी विकारों को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। मूंग दाल में मौजूद कुछ घटक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संक्रमण का कारण बनने वाले बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकार आमतौर पर पित्त दोष के असंतुलन के कारण होते हैं जो अपच का कारण भी बनते हैं। मूंग दाल को अपने नियमित आहार में शामिल करने से पाचन में सुधार होता है जो बदले में इसके पित्त संतुलन और दीपन (भूख बढ़ाने वाले) गुणों के कारण जठरांत्र संबंधी विकारों को प्रबंधित करने में मदद करता है।

Q. क्या मूंग दाल सेप्सिस के मामलों में मददगार है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सेप्सिस एक ऐसी स्थिति है जो शरीर के संक्रमण के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप होती है। इसमें रोगाणुरोधी गुण होते हैं जो रोगाणुओं के विकास को रोकते हैं और संक्रमण से लड़ने के लिए रसायन भी छोड़ते हैं, जिससे सेप्सिस को रोका जा सकता है।

Q. क्या मूंग दाल (बीन्स) से एलर्जी हो सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मूंग की दाल से कुछ लोगों को एलर्जी हो सकती है। मूंग दाल के सेवन से कुछ मध्यस्थों की रिहाई बढ़ सकती है जो मूंग दाल से एलर्जी वाले लोगों में एलर्जी की प्रतिक्रिया को उत्तेजित करने के लिए जिम्मेदार हैं।

Q. क्या मूंग से सूजन होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सूजन पैदा करने में मूंग दाल की भूमिका के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

प्र. अधिकतम स्वास्थ्य लाभ के लिए मूंग दाल कैसे खाएं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मूंग दाल प्रोटीन और अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर होती है। लेकिन, एक कटोरी अनाज में मूंग दाल डालने से प्रोटीन की गुणवत्ता में काफी वृद्धि हो सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अनाज सल्फर युक्त अमीनो एसिड से भरपूर होते हैं लेकिन लाइसिन की कमी होती है, जिसे मूंग दाल द्वारा जोड़ा जा सकता है।

Q. मूंग दाल से गैस बनती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, मूंग दाल से गैस नहीं होती है। पकी हुई मूंग दाल पेट के लिए हल्की होती है। आप या तो इसे भिगोने के बाद इस्तेमाल कर सकते हैं या बेहतर पाचन सुनिश्चित करने के लिए इसे पका सकते हैं। अन्य फलियों में प्रोटीन की तुलना में मूंग बीन प्रोटीन आसानी से पचने योग्य होता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नहीं, मूंग दाल को पानी में भिगोने से गैस नहीं बनती है. आयुर्वेद के अनुसार, यह प्रकृति में लघु (पचाने में हल्का) है, जिसका अर्थ है कि यह पचने में आसान है और इससे गैस या पेट खराब नहीं होता है।

Q. क्या हम रात में मूंग दाल खा सकते हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

आम तौर पर, दाल के रूप में फलियों को दिन के समय सेवन करने की सलाह दी जाती है। यह रात के समय किसी भी अपच से बचने के लिए है क्योंकि एक कमजोर पाचन तंत्र रात में दाल को भारी लग सकता है। इसके अलावा, मूंग की दाल पेट के लिए हल्की होती है और रात में ली जा सकती है क्योंकि यह प्रकृति में लघु (पचाने में हल्की) होती है।

Q. क्या मैं रोजाना मूंग दाल खा सकता हूं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, आप रोजाना मूंग दाल खा सकते हैं। यह प्रोटीन और फाइबर का समृद्ध स्रोत है। मूंग दाल में मौजूद फाइबर स्वस्थ पाचन को बढ़ावा देता है। मूंग दाल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी नियंत्रित रखती है, दिल की सेहत को भी ठीक रखती है।

Q. क्या मूंग दाल त्वचा के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मूंग दाल त्वचा के लिए अच्छी हो सकती है क्योंकि इसमें कुछ ऐसे घटक (फ्लेवोन) होते हैं जिनमें त्वचा को गोरा करने का गुण होता है। यह फ्लेवोन की उपस्थिति के कारण सौंदर्य प्रसाधनों में एक घटक के रूप में प्रयोग किया जाता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जी हां, मूंग की दाल त्वचा के लिए फायदेमंद होती है। यह त्वचा को एक स्वस्थ चमक देता है और इसके पित्त-कफ संतुलन, कषाय (कसैले) और सीता (ठंडे) गुणों के कारण इसे मुंहासों / फुंसियों से मुक्त रखता है।

Q. क्या मूंग एक्जिमा के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, मुंग दाल अपने एंटी इंफ्लेमेटरी गुण के कारण एक्जिमा की स्थिति में अच्छी मानी जाती है। यह त्वचा पर लगाने पर एक्जिमा से जुड़े दर्द और सूजन को कम करता है। यह खुजली से राहत दिलाने में भी मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

एक्जिमा एक त्वचा की समस्या है जो मुख्य रूप से पित्त दोष के असंतुलन के कारण होती है। यह खुजली, सूजन और कभी-कभी दर्द जैसे कुछ लक्षणों की ओर ले जाता है। मूंग दाल अपने पित्त संतुलन, कषाय (कसैले) और सीता (ठंडे) गुणों के कारण खुजली, सूजन या दर्द जैसे एक्जिमा के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती है। यह प्रभावित क्षेत्र पर शीतलन और शांत प्रभाव प्रदान करने में भी मदद करता है।

Q. क्या मूंग दाल बालों के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

बालों के लिए मूंग के फायदे के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

Q. क्या हम रोजाना चेहरे पर बेसन का इस्तेमाल कर सकते हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हरा बेसन कषाय (कसैला) प्रकृति का होता है जिसका अर्थ है कि यह त्वचा से तेल निकालता है। इसलिए अगर आपकी त्वचा रूखी है तो बेसन को दूध में मिलाकर पेस्ट बनाने की कोशिश करें, नहीं तो रोजाना हरे बेसन का इस्तेमाल आपकी त्वचा पर अत्यधिक रूखापन पैदा कर सकता है।

Q. क्या मूंग दाल तैलीय त्वचा के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, मूंग की दाल अपने कषाय (कसैले) गुण के कारण तैलीय त्वचा के लिए अच्छी होती है। यह आपकी त्वचा से अतिरिक्त नमी या तेल को अवशोषित करने और इसे तेल मुक्त और ताजा बनाने में मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.