Search
Generic filters

Rosemary | रोजमैरी के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

रोजमैरी

रोज़मेरी, जिसे आयुर्वेद में रुजामारी के नाम से जाना जाता है, एक सुगंधित औषधीय पौधा है। यह अपने आवश्यक तेल के लिए प्रसिद्ध है जिसका व्यापक रूप से साबुन और इत्र के निर्माण में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा, इसका सजावटी और पाक मूल्य भी है।
रोज़मेरी का तेल त्वचा के लिए फायदेमंद होता है क्योंकि यह अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण झुर्रियों और उम्र बढ़ने के संकेतों को रोकता है। यह खोपड़ी में रक्त के संचलन में सुधार करके पुरुषों में बालों के पुनर्विकास को भी बढ़ावा देता है। आप अपने जोड़ों की मालिश के लिए भी रोज़मेरी के तेल का उपयोग कर सकते हैं क्योंकि इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं।
रोज़मेरी मस्तिष्क में सिग्नल ट्रांसमिशन में सुधार करके याददाश्त बढ़ाने में मदद करती है। रोज़मेरी की चाय पीने और रोज़मेरी के तेल से माथे की मालिश करने से दिमाग़ को आराम मिलता है और सिर दर्द से राहत मिलती है। आप तनाव और अवसाद को प्रबंधित करने के लिए रोज़मेरी के आवश्यक तेल को भी अंदर ले सकते हैं।
आपको रोज़मेरी के अत्यधिक उपयोग से बचना चाहिए क्योंकि इससे कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे उल्टी, गर्भाशय से रक्तस्राव, त्वचा का लाल होना या जलन [1-3]।

रोजमेरी के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

रोसमारिनस ऑफिसिनैलिस।

रोज़मेरी का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

रोज़मेरी के फायदे

संज्ञानात्मक बढ़ाने के लिए मेंहदी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोजमेरी याददाश्त बढ़ाने वाले गुणों के कारण याददाश्त को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यह मस्तिष्क में कुछ यौगिकों की मात्रा को बढ़ाता है जो स्मृति और अनुभूति जैसे कार्यों में सुधार करते हैं। मेंहदी की चाय एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होती है जो मस्तिष्क (न्यूरोनल) कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाती है, इस प्रकार, इसके नियमित सेवन से स्मृति हानि को रोकने में मदद मिल सकती है।

याददाश्त बढ़ाने के लिए मेंहदी का उपयोग करने की युक्ति
a. 3-5 ग्राम सूखे या ताजे मेंहदी के पत्ते लें।
बी इसमें 1-2 कप पानी डालें।
सी। रोज़मेरी चाय बनाने के लिए इस जड़ी बूटी को 5-10 मिनट तक उबालें।
डी पत्तियों को छानकर दिन में दो बार या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें।
इ। याददाश्त बढ़ाने के लिए नियमित रूप से सेवन करें।
एफ यदि आवश्यक हो तो आप स्टीविया को प्राकृतिक स्वीटनर के रूप में जोड़ सकते हैं।

उम्र से संबंधित स्मृति हानि के लिए रोज़मेरी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी उम्र से संबंधित मानसिक गिरावट या हानि को रोकने में मदद कर सकती है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह मस्तिष्क (न्यूरोनल) कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाता है और मस्तिष्क में कुछ न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर को बढ़ाता है जो अनुभूति को बढ़ाने में शामिल हैं।

उम्र से संबंधित मानसिक गिरावट को रोकने के लिए रोज़मेरी लेने की युक्ति
a. 1 रोज़मेरी कैप्सूल लें या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें।
बी दिन में दो बार हल्का भोजन करने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।
सी। उम्र से संबंधित मानसिक गिरावट को रोकने के लिए इसे नियमित रूप से लें।

मधुमेह गुर्दे की बीमारी के लिए रोज़मेरी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी मधुमेह के गुर्दे की क्षति को रोकने में मदद कर सकती है जिसे मधुमेह अपवृक्कता के रूप में भी जाना जाता है जो आमतौर पर मधुमेह के रोगियों में देखी जाती है। रोज़मेरी में कुछ ऐसे घटक होते हैं जिनमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। ये एंटीऑक्सिडेंट गुर्दे की कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं और सूजन को कम करने में मदद करते हैं जिससे गुर्दे की क्षति को रोका जा सकता है।

निम्न रक्तचाप के लिए रोज़मेरी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी हाइपोटेंशन को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है क्योंकि इसमें एंटीहाइपोटेंसिव गुण होते हैं। इसमें कुछ ऐसे घटक होते हैं जो रक्त वाहिकाओं की सिकुड़न को कम करते हैं और रक्तचाप को बढ़ाते हैं।

ओपियोइड निकासी के लिए रोज़मेरी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी ओपिओइड निकासी के लक्षणों में उपयोगी हो सकती है। अध्ययनों से पता चलता है कि मेंहदी अपने विरोधी भड़काऊ और कारण मांसपेशियों में झटके, ऐंठन और मस्कुलोस्केलेटल दर्द (हड्डियों, मांसपेशियों, स्नायुबंधन आदि में दर्द) जैसे ओपिओइड निकासी के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करती है
मनो-उत्तेजक (शारीरिक और मानसिक कार्यों में सुधार करने वाले एजेंट) गुणों के ।

पेट फूलना (गैस बनना) के लिए रोज़मेरी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी का तेल गैस (पेट फूलना) के प्रबंधन में उपयोगी हो सकता है क्योंकि इसमें कार्मिनेटिव गुण होते हैं। यह गैस बनने से रोकता है और साथ ही गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट से अत्यधिक गैस को बाहर निकालने में मदद करता है, जिससे पेट फूलने से राहत मिलती है।

सिरदर्द के लिए रोज़मेरी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी सिरदर्द (माइग्रेन सिरदर्द सहित) को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है क्योंकि यह रक्त वाहिकाओं के फैलाव (वृद्धि) को कम करने में मदद करती है जो सिरदर्द का मुख्य कारण है। रोज़मेरी इन्फ्यूजन को पीने से दिमाग को आराम मिलता है और सिरदर्द से राहत मिलती है।

सिर दर्द से राहत पाने के लिए रोज़मेरी के इस्तेमाल की टिप-
अ. एक कप में कुछ ताज़ी रोज़मेरी की पत्तियाँ लें।
बी इसके ऊपर गर्म पानी डालें।
सी। इसे ढक्कन से ढक दें और 10-15 मिनट तक प्रतीक्षा करें।
डी सिरदर्द से राहत पाने के लिए गर्मागर्म रोज़मेरी के अर्क का आनंद लें।

अपच के लिए रोज़मेरी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मेंहदी अपच से राहत पाने के लिए अच्छी हो सकती है क्योंकि इसमें पाचक गुण होते हैं। यह पाचन को उत्तेजित करके भोजन के अवशोषण में सुधार करता है और इस प्रकार अपच का प्रबंधन करता है।

भारी मासिक धर्म रक्तस्राव के लिए रोज़मेरी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मेंहदी मासिक धर्म के प्रवाह को बढ़ाने में मदद कर सकती है क्योंकि यह गर्भाशय के संकुचन को उत्तेजित करती है। बढ़े हुए संकुचन गर्भाशय के रक्त प्रवाह में वृद्धि का कारण बनते हैं। यह चिकनी मांसपेशियों को आराम देने और मासिक धर्म में ऐंठन से राहत दिलाने में भी मदद करता है।

रोज़मेरी कितनी कारगर है?

संभावित रूप से प्रभावी

संज्ञानात्मक बढ़ाने वाला

अपर्याप्त सबूत

उम्र से संबंधित स्मृति हानि, मधुमेह गुर्दे की बीमारी, पेट फूलना (गैस बनना), सिरदर्द, भारी मासिक धर्म रक्तस्राव, अपच, निम्न रक्तचाप, ओपिओइड निकासी

रोज़मेरी का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

आंतरिक उपयोग के लिए रोज़मेरी के तेल को हमेशा पतला करने की सलाह दी जाती है। मेंहदी का तेल जब बिना पतला किया जाता है तो इससे गैस्ट्रोएंटेराइटिस, ऐंठन, उल्टी और गुर्दे में जलन हो सकती है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि हमेशा रोज़मेरी तेल का उपयोग करने से पहले उसकी ताकत की जांच कर लें।

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी को एस्पिरिन के साथ नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि इसमें एस्पिरिन के समान रासायनिक घटक “सैलिसिलेट” होता है और एस्पिरिन से एलर्जी वाले लोगों में जटिलताएं पैदा कर सकता है।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

शिशुओं पर रोज़मेरी के प्रभाव के बारे में बहुत कम जानकारी है, हालांकि, स्तनपान के दौरान अनियंत्रित मात्रा में इसके उपयोग से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे गैस्ट्रोएंटेराइटिस, ऐंठन, उल्टी और गुर्दे में जलन हो सकती है।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान रोज़मेरी का उपयोग करने की अनुशंसा नहीं की जाती है क्योंकि इसके उपयोग से ऐंठन, उल्टी, गर्भाशय से रक्तस्राव या गर्भपात जैसी गैस्ट्रिक समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि, रोज़मेरी तेल का उपयोग करने वाली अरोमाथेरेपी गर्भवती महिलाओं में तनाव को दूर करने में मदद करती है। साथ ही, जो महिलाएं गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, उन्हें रोज़मेरी का उपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि इसमें हार्मोन को बदलने की क्षमता होती है।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी की अधिक मात्रा के कारण दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे:
1. उल्टी
2. गैस्ट्रोएंटेराइटिस
3. गुर्दे में जलन
4. गर्भाशय से रक्तस्राव।
साथ ही रोज़मेरी को अधिक मात्रा में लेने से ब्लीडिंग डिसऑर्डर होने की संभावना रहती है।

गंभीर दवा बातचीत

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. रोज़मेरी में एस्पिरिन के साथ बातचीत करने की क्षमता होती है क्योंकि दोनों में सामान्य सक्रिय घटक “सैलिसिलेट” होता है। उनके एक साथ उपयोग से ओवरडोज हो सकता है।

2. रोज़मेरी दौरे को और खराब कर सकती है, इसलिए, एंटीकॉन्वेलसेंट दवा लेते समय इसके उपयोग से बचने की सलाह दी जाती है।

3. यदि आप एंटीप्लेटलेट या थक्कारोधी दवा ले रहे हैं, तो रोज़मेरी के उपयोग से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसकी एंटीथ्रॉम्बोटिक गतिविधि के कारण रक्तस्राव हो सकता है।

रोज़मेरी का इस्तेमाल कैसे करें

1. मेंहदी की चाय
a. 3-5 ग्राम सूखे या ताजे मेंहदी के पत्ते लें।
बी इसमें 1-2 कप पानी डालें।
सी। रोज़मेरी टी बनाने के लिए इसे 5-10 मिनट तक उबालें।
पत्तियों को छानकर दिन में दो बार या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें।
डी याददाश्त बढ़ाने में मदद के लिए नियमित रूप से सेवन करें।
यदि आवश्यक हो तो आप स्टीविया को प्राकृतिक स्वीटनर के रूप में जोड़ सकते हैं।

2. रोज़मेरी आसव
a. एक कप में कुछ ताज़ी रोज़मेरी की पत्तियाँ लें।
बी इसके ऊपर गर्म पानी डालें।
सी। इसे ढक्कन से ढक दें और 10-15 मिनट तक प्रतीक्षा करें।
सिरदर्द से राहत पाने के लिए गर्मागर्म रोज़मेरी के अर्क का आनंद लें।

3. रोज़मेरी कैप्सूल
ए. 1 रोज़मेरी कैप्सूल लें या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें।
बी मानसिक तनाव को दूर करने के लिए दिन में दो बार हल्का भोजन करने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

4. दैनिक आहार में ताजा मेंहदी
a. मेंहदी के पत्तों को काटकर अपने दैनिक भोजन में गार्निशिंग या स्वाद के लिए जोड़ा जा सकता है।
बी रोजमेरी की पत्तियों को भोजन के साथ पकाकर या भूनकर भी खाया जा सकता है।

रोज़मेरी के फायदे

सिरदर्द के लिए रोज़मेरी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी सिरदर्द (माइग्रेन सिरदर्द सहित) को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है क्योंकि यह रक्त वाहिकाओं के फैलाव (वृद्धि) को कम करने में मदद करती है जो सिरदर्द का मुख्य कारण है। रोजमेरी के तेल से माथे की मालिश करने से दिमाग को आराम मिलता है और सिर दर्द में आराम मिलता है।

थकान के लिए रोज़मेरी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मानसिक थकान और थकान से राहत प्रदान करने में मदद के लिए अरोमाथेरेपी में रोज़मेरी आवश्यक तेल का उपयोग किया जा सकता है। यह एक तंत्रिका और मस्तिष्क टॉनिक के रूप में कार्य करता है जो मस्तिष्क की गतिविधि को उत्तेजित करता है और इसके कार्यों में सुधार करता है।

मसूड़ों की सूजन के लिए रोज़मेरी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी को टूथपेस्ट में एक घटक के रूप में इस्तेमाल किया गया है क्योंकि यह अपने रोगाणुरोधी और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण मसूड़े की सूजन जैसे मसूड़ों की बीमारियों में मदद कर सकता है। यह मौखिक बैक्टीरिया की गतिविधि को रोकता है और मसूड़ों की सूजन को कम करता है।

तनाव के लिए रोज़मेरी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी का तेल अपने एंटीस्ट्रेस गुण के कारण तनाव को प्रबंधित करने में उपयोगी हो सकता है। रोज़मेरी आवश्यक तेल को अंदर लेने से कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) का स्तर कम होता है और एक न्यूरोट्रांसमीटर (डोपामाइन) का स्तर बढ़ जाता है। यह अंततः तनाव के स्तर को कम करने में मदद करता है और मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।

गठिया के लिए रोज़मेरी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मेंहदी गठिया में मदद कर सकती है क्योंकि इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं। रोज़मेरी के तेल का उपयोग मालिश के लिए किया जा सकता है या गर्म संपीड़ित या स्नान में जोड़ा जा सकता है। यह सूजन पैदा करने के लिए जिम्मेदार मध्यस्थों को रोकता है जिससे गठिया के मामले में सूजन से संबंधित लक्षणों का प्रबंधन होता है।

गठिया के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए रोज़मेरी का उपयोग करने की युक्ति
a. रोज़मेरी तेल की कुछ बूँदें (या अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
बी इसमें 1 बूंद जैतून का तेल या सरसों का तेल मिलाएं।
सी। गठिया के लक्षणों जैसे सूजन से राहत पाने के लिए लगभग 10-15 मिनट तक सोने से पहले इस मिश्रण से सूजन वाले दर्द वाले क्षेत्रों की मालिश करें।

बालों के झड़ने के लिए रोज़मेरी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पैची बालों के झड़ने में मेंहदी की भूमिका के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन खोपड़ी पर रोज़मेरी के तेल का सामयिक अनुप्रयोग खोपड़ी क्षेत्र में रक्त परिसंचरण में सुधार करके बालों के पुनर्विकास को बढ़ावा दे सकता है।

बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए मेंहदी का उपयोग करने की युक्ति
a. रोजमेरी के तेल की कुछ बूंदें लें।
बी इसे नारियल तेल की कुछ बूंदों के साथ मिलाएं।
सी। बालों के झड़ने को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए इसे सप्ताह में एक या दो बार खोपड़ी पर समान रूप से लगाएं।

रोज़मेरी कितनी कारगर है?

संभावित रूप से प्रभावी

सरदर्द

अपर्याप्त सबूत

गठिया, थकान, बालों का झड़ना, मसूड़ों की सूजन, तनाव,

रोज़मेरी का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हमेशा बाहरी उपयोग के लिए रोज़मेरी तेल को पतला करने की सलाह दी जाती है। बिना पतला रोज़मेरी तेल के सामयिक अनुप्रयोग से एलर्जी, त्वचा की लालिमा या सूर्य के प्रति संवेदनशीलता हो सकती है। इसलिए, बाहरी उपयोग करने से पहले रोज़मेरी तेल की ताकत की जांच करने की सलाह दी जाती है।

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सामयिक अनुप्रयोग के लिए उपयोग किए जाने पर मेंहदी संपर्क जिल्द की सूजन का कारण बन सकती है।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

स्तनपान के दौरान रोज़मेरी के बाहरी उपयोग के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए, स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए रोज़मेरी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से बचने या परामर्श करने की सिफारिश की जाती है।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान रोज़मेरी के बाहरी उपयोग के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए, गर्भवती महिलाओं को रोज़मेरी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से बचने या परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. त्वचा की एलर्जी
2. त्वचा का लाल होना या धूप के प्रति संवेदनशीलता।

रोज़मेरी का इस्तेमाल कैसे करें

गुलाब आवश्यक तेल
1. मानसिक थकान
a. साँस लेने में आसानी के लिए कमरे में इसकी सुगंध फैलाने के लिए एक विसारक में रोज़मेरी तेल का प्रयोग करें। याददाश्त में सुधार, मानसिक थकान से राहत पाने या किसी नर्वस डिसऑर्डर को प्रबंधित करने के लिए इसे सीधे बोतल के माध्यम से भी लिया जा सकता है।

2. गठिया
ए. रोज़मेरी तेल की कुछ बूँदें (या अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
बी 1 चम्मच जैतून का तेल या सरसों का तेल डालें।
सी। लगभग 10-15 मिनट तक सोने से पहले इस मिश्रण से प्रभावित क्षेत्रों की मालिश करें।
डी गठिया के लक्षणों से राहत पाने के लिए इसे नियमित रूप से दोहराएं।

3. पैची बालों का झड़ना
a. रोजमेरी के तेल की कुछ बूंदें लें।
बी इसमें नारियल तेल की कुछ बूंदें मिलाएं।
सी। बालों के झड़ने की समस्या को प्रबंधित करने में मदद करने के लिए इसे सप्ताह में एक या दो बार खोपड़ी पर समान रूप से लगाएं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या रोजमेरी वजन को प्रबंधित करने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, रोज़मेरी वजन को प्रबंधित करने में सहायक हो सकती है क्योंकि इसमें मोटापा-रोधी गुण होता है। यह आंतों में लिपिड अवशोषण को रोकने के साथ-साथ शरीर में एडिपोसाइट्स या वसा कोशिकाओं के निर्माण को रोकता है जिससे वजन घटाने को बढ़ावा मिलता है।

मदद करने के लिए मेंहदी का उपयोग करने के टिप वजन का प्रबंधन
एक। एक पैन में 1 चम्मच सूखे मेंहदी के पत्ते लें।
बी इसमें 1 कप पानी डालें।
सी। रोज़मेरी टी बनाने के लिए इसे कुछ देर उबलने दें।
डी यदि आवश्यक हो तो आप शहद को स्वीटनर के रूप में जोड़ सकते हैं।

Q. क्या रोजमेरी डिप्रेशन में मददगार है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, रोज़मेरी प्रकृति में अवसादरोधी है. यह किसी व्यक्ति में मूड को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार मस्तिष्क न्यूरोट्रांसमीटर की एकाग्रता में सुधार करने की क्षमता रखता है।

अवसाद को प्रबंधित करने के लिए रोज़मेरी का उपयोग करने की युक्ति –
a. एक सूती कपड़े या टिश्यू पर रोजमेरी के तेल की कुछ बूंदें डालें।
बी इसे सांस लेने के लिए अपने चेहरे या नाक के पास ले आएं।
सी। अपने मूड को ऊपर उठाने में मदद करने के लिए कुछ बार श्वास लें।

Q. क्या रोज़मेरी गैस्ट्रिक अल्सर का कारण बन सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, रोज़मेरी के कारण पेट में छाले नहीं होते हैं। वास्तव में, रोज़मेरी में कुछ सक्रिय यौगिक होते हैं जो पेप्टिक अल्सर के खिलाफ सुरक्षात्मक प्रभाव डालते हैं।

Q. क्या रोजमेरी आपको बीमार कर सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अनुशंसित खुराक में सेवन करने पर मेंहदी को आमतौर पर सुरक्षित माना जाता है। हालांकि, बिना पतला रोज़मेरी का तेल या बड़ी मात्रा में मेंहदी के उपयोग से उल्टी, गर्भाशय से रक्तस्राव, गुर्दे में जलन, सूरज की संवेदनशीलता में वृद्धि, त्वचा का लाल होना और एलर्जी हो सकती है। रोजमेरी का तेल त्वचा पर लगाने से पहले पैच टेस्ट करने की सलाह दी जाएगी। अगर अंतर्ग्रहण किया जाए तो बिना पतला रोज़मेरी का तेल विषाक्त हो सकता है और इसलिए इससे बचना चाहिए।

Q. मेंहदी कितनी सुरक्षित मानी जाती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोजमेरी का प्रयोग सीमित मात्रा में ही करना चाहिए। कुल दैनिक सेवन सूखे जड़ी बूटी के 4 से 6 ग्राम से अधिक नहीं होना चाहिए। किसी भी रूप में मेंहदी के सीधे मौखिक सेवन की सलाह नहीं दी जाती है।

Q. क्या रोज़मेरी बच्चों के लिए ठीक है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

औषधीय प्रयोजनों के लिए बच्चों (18 वर्ष से कम आयु) में मेंहदी का उपयोग करने का सुझाव नहीं दिया गया है। हालांकि, इसे खाने में मसाले के रूप में इस्तेमाल करना सुरक्षित है।

प्रश्न. रोज़मेरी को और किन रूपों में इस्तेमाल किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

रोज़मेरी का उपयोग विभिन्न रूपों में किया जा सकता है। यह रूप में उपलब्ध है
सूखे पूरे जड़ी बूटी के
सूखे, पाउडर निकालने (कैप्सूल में)
ताजा या सूखे पत्तों से तैयार तैयारी, जैसे अल्कोहल टिंचर, चाय, और तरल निकालने वाला
वाष्पशील तेल (बाहरी रूप से उपयोग किया जाना है, मौखिक रूप से नहीं)।

Q. मेंहदी खालित्य या बालों के झड़ने में फायदेमंद है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, बालों के झड़ने में मेंहदी फायदेमंद हो सकती है। यह खोपड़ी में रक्त परिसंचरण में सुधार करके काम करता है जो बालों के विकास में और मदद करता है।

Q. क्या रोजमेरी में आयरन की कमी होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, रोज़मेरी से आयरन की कमी नहीं होती है। हालांकि, यह आयरन के अवशोषण को कम करता है। इसलिए, अगर आपको आयरन की कमी है या कोई आयरन सप्लीमेंट ले रहे हैं तो रोज़मेरी से बचने की सलाह दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.