Search
Generic filters

Saffron (Kesar) | केसर (केसर) के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

केसर (केसर)

केसर (Crocus sativus) एक जड़ी बूटी है जिसकी खेती भारत और दुनिया के अन्य हिस्सों में व्यापक रूप से की जाती है। केसर के फूल में लाल रंग का कलंक जैसा एक धागा होता है जिसे सुखाकर इसकी शक्तिशाली गंध और आयुर्वेदिक तैयारी के लिए मसाले के रूप में व्यावसायिक रूप से उपयोग किया जाता है।
शहद के साथ लेने पर केसर खांसी और अस्थमा से राहत दिलाने में मदद करता है। यह प्रजनन प्रणाली की समस्याओं जैसे पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन और महिलाओं में मासिक धर्म दर्द के प्रबंधन में भी फायदेमंद है।
केसर को दूध के साथ लेने से तंत्रिका तंत्र को आराम मिलता है जो चिंता को कम करने में मदद करता है और अनिद्रा को रोकता है।
केसर त्वचा की समस्याओं में भी उपयोगी होता है क्योंकि यह धूप से होने वाले नुकसान से बचाता है। अपने दैनिक उपयोग की क्रीम में केसर के तेल की कुछ बूँदें मिलाने से रंजकता को रोकने और त्वचा को गोरा करने में मदद मिल सकती है [16-18]।

केसर (केसर) के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

Crocus sativus, Kesar, Zaffran, Kashmirajaman, Kunkuma, Kashmiram, Avarakta

केसर (केसर) का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

केसर के फायदे

खांसी के लिए केसर (केसर) के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कुछ अध्ययनों में कहा गया है कि केसर में मौजूद Safranal में एंटीट्यूसिव प्रभाव होता है जो खांसी को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

अस्थमा के लिए केसर (केसर) के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अस्थमा के रोगियों के लिए केसर उपयोगी हो सकता है। केसर में मौजूद सैफरानल में ब्रोन्कोडायलेटरी प्रभाव होता है जो श्वासनली की चिकनी मांसपेशियों को आराम देता है और वायुमार्ग को चौड़ा करता है। इससे आपको आसानी से सांस लेने में मदद मिल सकती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

उष्ना वीर्य (गर्म) शक्ति के कारण केसर अस्थमा और ब्रोंकाइटिस में मदद कर सकता है। यह अपनी रसायन (कायाकल्प) संपत्ति के कारण कफ को संतुलित करके प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में भी मदद करता है।
युक्ति:
1. 4-5 केसर के धागे लें।
2. इसमें 1 चम्मच शहद मिलाएं।
3. इसे दिन में दो बार भोजन करने के बाद लें।
4. तब तक लें जब तक आपको अपने लक्षणों में अंतर दिखाई न दे।

स्तंभन दोष के लिए केसर (केसर) के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

क्रोकिन नामक वर्णक की उपस्थिति के कारण केसर में कामोत्तेजक गुण होते हैं। यह टेस्टोस्टेरोन स्राव और शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार करके यौन प्रदर्शन को बढ़ाने में मदद कर सकता है। इस प्रकार यह पुरुष बांझपन और स्तंभन दोष जैसे अन्य यौन विकारों के प्रबंधन में प्रभावी हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) एक वाजीकरण (कामोद्दीपक) का काम करता है और यौन इच्छा को बेहतर बनाने में मदद करता है।
टिप:
1. 1 कप गर्म दूध में 5-6 केसर के धागे डालें।
2. इसे 10 मिनट के लिए बैठने दें।
3. इसे रात को सोने से पहले लें।
4. केसर को उबालें नहीं क्योंकि इससे कुछ कीमती वाष्पशील तेल निकल सकते हैं।

अनिद्रा के लिए केसर (केसर) के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर में मौजूद Safranal में कृत्रिम निद्रावस्था का प्रभाव होता है और मस्तिष्क में नींद को बढ़ावा देने वाले न्यूरॉन्स को बढ़ाता है। एक अध्ययन में कहा गया है कि केसर तंत्रिका तंत्र को भी आराम देता है और चिंता को दूर करने में मदद कर सकता है। साथ में यह बेचैन या नींद की रातों से बचने में मदद कर सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर अपने वात संतुलन गुण के कारण तनाव से प्रेरित अनिद्रा में मदद करता है।
टिप:
1. 1 कप गर्म दूध में 5-6 केसर के धागे डालें।
2. इसे 10 मिनट के लिए बैठने दें।
3. इसे रात को सोने से पहले लें।

डिप्रेशन के लिए केसर (केसर) के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अवसाद के कारणों में से एक सेरोटोनिन हार्मोन के स्तर में असंतुलन है। केसर सेरोटोनिन के स्तर को संतुलित करके एक प्राकृतिक अवसादरोधी एजेंट के रूप में कार्य करता है जिससे अवसाद के लक्षणों से राहत मिलती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर वात दोष को संतुलित करके अवसाद से निपटने में मदद करता है।
सुझाव:
1. 1 कप गर्म दूध में 4-5 केसर के धागे डालें।
2. इसे रोजाना भोजन के दो घंटे बाद दिन में दो बार पिएं।
3. बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 3-4 महीने तक जारी रखें।

मासिक धर्म के दर्द के लिए केसर (केसर) के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अध्ययन बताते हैं कि केसर में एंटीस्पास्मोडिक गुण होते हैं और यह पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर अपने वात संतुलन गुण के कारण मासिक धर्म के प्रवाह को कम करने और दर्द को नियंत्रित करने में मदद करता है।
टिप
१. १ कप गर्म दूध में ४-५ केसर के धागे डालें।
2. इसे रोजाना भोजन के दो घंटे बाद दिन में दो बार पिएं।
3. बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 3-4 महीने तक जारी रखें।

प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम के लिए केसर (केसर) के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर पीएमएस के कुछ लक्षणों जैसे अवसाद और दर्दनाक अवधियों को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। केसर सेरोटोनिन के स्तर को संतुलित करके एक प्राकृतिक अवसादरोधी एजेंट के रूप में कार्य करता है जिससे अवसाद के लक्षणों से राहत मिलती है। इसमें एंटीस्पास्मोडिक गुण भी होते हैं और यह पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर अपने वात संतुलन और रसायन गुणों के कारण प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम को प्रबंधित करने में मदद करता है।
टिप
1. केसर के 4-5 धागे लें।
2. 1-2 चम्मच शहद मिलाएं।
3. इसे भोजन के बाद दिन में एक या दो बार लें।

अल्जाइमर रोग के लिए केसर (केसर) के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अल्जाइमर के रोगियों में, अमाइलॉइड बीटा प्रोटीन नामक प्रोटीन के उत्पादन में वृद्धि होती है, जिससे मस्तिष्क में अमाइलॉइड सजीले टुकड़े या क्लस्टर बनते हैं। एक अध्ययन में कहा गया है कि केसर मस्तिष्क में अमाइलॉइड सजीले टुकड़े के गठन को कम कर सकता है जिससे अल्जाइमर रोगियों में स्मृति कार्यों में सुधार होता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) में कटु (तीखा), तिक्त (कड़वा) स्वाद, उष्ना वीर्य (गर्म) शक्ति होती है और तीनों दोषों वात, पित्त और कफ को संतुलित करने का काम करती है। जिसके परिणामस्वरूप यह तंत्रिका तंत्र विकारों के जोखिम को कम करता है।

कैंसर के लिए केसर (केसर) के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर का उपयोग कैंसर के उपचार में पूरक चिकित्सा के रूप में किया जा सकता है। केसर में मौजूद फाइटोकेमिकल्स में एपोप्टोजेनिक गुण होते हैं और गैर-कैंसर कोशिकाओं को अप्रभावित छोड़ते हुए एपोप्टोसिस या कोशिका मृत्यु को प्रेरित करते हैं। इसमें एंटी-प्रोलिफ़ेरेटिव गुण भी होते हैं और यह कैंसर कोशिकाओं के विकास को कम करता है।

सोरायसिस के लिए केसर (केसर) के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यदि नियमित रूप से चाय के रूप में इसका सेवन किया जाए तो केसर सोरायसिस के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।
युक्ति:
1. 1/2 कप उबलता पानी लें।
2. इसे एक चुटकी केसर के ऊपर डालें और 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
3. भोजन से 1-1/2 घंटे पहले सेवन करें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर में रसायन (कायाकल्प) गुण होता है और सोरायसिस जैसी त्वचा की समस्याओं के मामले में अच्छे परिणाम दिखाता है।

हृदय रोग के लिए केसर (केसर) के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर में मौजूद क्रोसेटिन में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह रक्त कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है और धमनियों में प्लाक के निर्माण को रोकता है। यह हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है।

केसर (केसर) कितना कारगर है?

संभावित रूप से प्रभावी

अल्जाइमर रोग, अवसाद, मासिक धर्म दर्द, मासिक धर्म पूर्व सिंड्रोम

अपर्याप्त सबूत

दमा, पुष्ट प्रदर्शन, कैंसर, खांसी, स्तंभन दोष, हृदय रोग, अनिद्रा, शीघ्रपतन, सोरायसिस

केसर का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर को एक अनुशंसित खुराक में और एक आयुर्वेदिक चिकित्सक की देखरेख में अनुशंसित अवधि के लिए लिया जाना चाहिए।

आयुर्वेदिक नजरिये से

उषाना या गर्म शक्ति के अपने गुण के कारण केसर का प्रयोग सावधानी से करना चाहिए।
युक्ति: केसर (केसर) को कम मात्रा में और दूध के साथ या गर्मी के मौसम में किसी भी शीतलन एजेंट के साथ लेना चाहिए।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अधिकांश लोगों के लिए केसर संभवतः सुरक्षित है। हालांकि, कुछ मामलों में इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे:
1. मुंह
2. चिंता
3. चक्कर आना
सूखना 4. उनींदापन
5. मतली
6. भूख में बदलाव
7. सिरदर्द

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अधिक मात्रा में केसर लेना संभवतः असुरक्षित है और इससे त्वचा, आंखों और श्लेष्मा झिल्ली का पीलापन, उल्टी, चक्कर आना, खूनी दस्त, नाक, होंठ, पलकें, सुन्नता से खून बहना हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) लेते समय अपने रक्तचाप की निगरानी करें यदि आप पहले से ही उच्चरक्तचापरोधी दवा ले रहे हैं क्योंकि इसमें रक्त कम करने की प्रवृत्ति है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर गर्भावस्था के दौरान लिया जा सकता है लेकिन डॉक्टर द्वारा बताई गई खुराक और अवधि का पालन करें और स्व-दवा से बचना चाहिए।

केसर की अनुशंसित खुराक (केसर)

  • केसर (केसर) कैप्सूल – 1 कैप्सूल दिन में एक या दो बार।
  • केसर (केसर) गोली – 1 गोली दिन में एक या दो बार।

केसर (केसर) का उपयोग कैसे करें

1. केसर के धागे
5-6 धागे दिन में एक या दो बार दूध के साथ लें।

2. केसर कैप्सूल
1 कैप्सूल दिन में दो बार दोपहर और रात के खाने के बाद दूध के साथ लें।

3. केसर टैबलेट
दोपहर और रात के खाने के बाद दूध के साथ 1 गोली दिन में दो बार लें Take

केसर के फायदे

बालों के झड़ने के लिए केसर (केसर) के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

फाइटोकेमिकल्स और एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर, केसर गंजेपन को नियंत्रित करने के लिए एक प्रभावी घटक हो सकता है।
टिप:
1. एक प्याले में एक कप दूध लें।
2. इसमें केसर की 5-6 किस्में डालें।
3. लगभग 10 मिनट के लिए भिगोएँ।
4. इसमें 4 से 5 टेबल स्पून मुलेठी का पाउडर मिलाएं।
5. एक चिकना पेस्ट बनाने के लिए अच्छी तरह मिलाएं।
6. इसे स्कैल्प और बालों पर लगाएं।
7. लगभग 30 मिनट के लिए छोड़ दें।
8. सामान्य पानी से धो लें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर में वात संतुलन गुण होता है और अत्यधिक रूखेपन को नियंत्रित करके बालों के विकास में सुधार करता है।

स्थानीय संज्ञाहरण (एक विशिष्ट क्षेत्र में सुन्न ऊतक) के लिए केसर (केसर) के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

एनाल्जेसिक और विरोधी भड़काऊ गुण कान दर्द, ओटिटिस, दांत दर्द, मसूड़े की सूजन, गुदा दर्द और गठिया के मामले में दर्द प्रबंधन और राहत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह सूजन के कारण होने वाली सूजन में भी सुधार करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर में वात संतुलन गुण होता है जो शरीर में दर्द को प्रबंधित करने में मदद करता है।

केसर (केसर) कितना कारगर है?

अपर्याप्त सबूत

बालों का झड़ना, लोकल एनेस्थीसिया (एक विशिष्ट क्षेत्र में ऊतकों को सुन्न करना)

केसर का उपयोग करते समय सावधानियां

एलर्जी

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार, केसर (केसर) में उषाना (शक्ति में गर्म) की संपत्ति होती है, इसलिए केसर (केसर) का उपयोग करते समय कुछ सावधानियां बरतें:
यदि आपकी त्वचा अतिसंवेदनशील है तो बाहरी उपयोग के लिए दूध के साथ केसर (केसर) का प्रयोग करें।

केसर की अनुशंसित खुराक (केसर)

  • केसर (केसर) तेल – 1-3 बूंद या अपनी आवश्यकता के अनुसार।

केसर (केसर) का उपयोग कैसे करें

1. केसर के धागे
a. 2 टेबल स्पून दूध में केसर के 5-6 धागे लें।
बी इसमें 1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी पाउडर मिलाएं।
सी। एक पेस्ट बनाने के लिए अच्छी तरह मिलाएं।
डी चेहरे पर लगाएं और 15-20 मिनट तक सूखने का इंतजार करें।
इ। इसे नॉर्मल पानी से धो लें।
एफ इस पेस्ट को हफ्ते में 2-3 बार इस्तेमाल करें।
जी अगर आपकी स्किन ऑयली है तो दूध को गुलाब जल से बदल दें।

2. जैतून के तेल के साथ केसर का तेल
a. केसर के तेल की 2-3 बूंदें लें
। इसे जैतून के तेल में मिलाकर 5-10 मिनट के लिए सर्कुलर मोशन में अपने चेहरे की मालिश करें।
सी। सूखापन कम करने और प्राकृतिक रूप से चमकती त्वचा पाने के लिए इसे सप्ताह में एक बार दोहराएं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. केसर की चाय क्या है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर की चाय और कुछ नहीं बल्कि पानी में केसर के धागों का घोल है। केसर के कुछ धागों को पानी में डालकर उबाला जाता है और परिणामी घोल को जलसेक या चाय के रूप में उपयोग किया जाता है। आमतौर पर केसर की चाय बनाने के लिए 1 मिली केसर पानी में 80 मिली पानी मिलाया जाता है। आप अन्य प्रकार की चाय जैसे ग्रीन टी, कहवा चाय या मसाला चाय में केसर का अर्क भी मिला सकते हैं।

Q. केसर को कैसे स्टोर करें?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर को स्टोर करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि इसे एक एयरटाइट कंटेनर में रखें और एक ठंडी, अंधेरी जगह में स्टोर करें, अधिमानतः कमरे के तापमान पर। इसे रेफ्रिजरेटर में स्टोर करने से बचें क्योंकि इसे बाहर निकालने और उपयोग के लिए कमरे की स्थिति में रखने पर नमी को अवशोषित करने की प्रवृत्ति होती है।

प्रश्न. केसर (केसर) दूध कैसे बनाते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर का दूध घर पर बहुत ही आसान तरीके से बनाया जा सकता है। आपको बस दूध, चीनी, इलायची और एक कतरा या दो केसर चाहिए। दूध को उबालिये और दूध में चीनी, इलायची पाउडर और केसर डाल कर कुछ मिनिट तक उबलने दीजिये. इसे एक गिलास में डालें और गुनगुना होने पर पी लें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) को दूध के साथ न उबालें क्योंकि इससे कुछ कीमती वाष्पशील तेल निकल जाएंगे।

Q. भारत में केसर के सामान्य ब्रांड कौन से हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर बेचने वाले आम भारतीय ब्रांड हैं पतंजलि केसर, लायन ब्रांड केसर, बेबी ब्रांड केसर, आदि।

Q. केसर कितने समय तक रहता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर लंबे समय तक चल सकता है अगर एक एयरटाइट कंटेनर में और बेहतर परिस्थितियों में ठीक से संग्रहीत किया जाए। हालांकि, केसर पाउडर छह महीने तक चल सकता है जबकि केसर के धागे तीन से पांच साल तक चल सकते हैं।

प्र. भारत में केसर की कीमत क्या है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

भारत में केसर प्रति ग्राम की कीमत ब्रांडों और शुद्धता की सीमा के आधार पर 250 रुपये से 300 रुपये के बीच कहीं भी हो सकती है।

Q. क्या केसर लीवर के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर अपने हेपेटोप्रोटेक्टिव गुण के कारण लीवर के लिए अच्छा हो सकता है। यह भोजन के उचित पाचन में भी मदद करता है और यकृत में विषाक्त पदार्थों के स्तर को कम करने में मदद करता है।

Q. क्या सेसफ्रोन नेत्र विकारों के इलाज के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर में मौजूद क्रोसेटिन और क्रोसिन मोतियाबिंद, नेत्रश्लेष्मलाशोथ जैसे नेत्र विकारों के जोखिम को कम करने और दृष्टि में सुधार के लिए अच्छा हो सकता है। केसर रेटिना के कार्य को बहाल करने में मदद कर सकता है और साथ ही इसकी एंटीऑक्सीडेंट संपत्ति के कारण ऑक्सीडेटिव क्षति को रोकने में मदद कर सकता है।

Q. क्या केसर को प्रिस्क्रिप्शन या नॉनस्प्रेस्क्रिप्शन दवाओं के साथ लिया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यदि आप द्विध्रुवी विकार, निम्न रक्तचाप, हृदय की स्थिति से पीड़ित हैं या रक्तचाप की दवाएं (रक्त को पतला करने वाली) ले रहे हैं तो केसर से बचना चाहिए। केसर को लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना सुरक्षित है ताकि जड़ी-बूटियों के बीच परस्पर क्रिया और एलर्जी से बचा जा सके।

प्रश्न. क्या गर्भावस्था के दौरान केसर का सेवन सुरक्षित है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, केसर गर्भवती महिलाओं के लिए अनुशंसित नहीं है क्योंकि केसर के संपर्क में गर्भपात का कारण पाया जाता है, खासकर गर्भावस्था के पहले और बीसवें सप्ताह के बीच। यह गर्भाशय के संकुचन या केसर से प्रेरित रक्तस्राव के कारण हो सकता है। गर्भावस्था के बीसवें सप्ताह के बाद इसे लिया जा सकता है या नहीं इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है। अगर आप चाहते हैं, तो बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Q. क्या केसर स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि स्तनपान या स्तनपान के दौरान केसर के उपयोग पर पर्याप्त अध्ययन नहीं हुए हैं, लेकिन यदि आप इसका उपयोग करने के बारे में सोचते हैं, तो बेहतर है कि केसर का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें और इसके फायदे और नुकसान के बारे में चर्चा करें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार महिलाओं द्वारा स्तनपान के दौरान केसर को कम मात्रा में (3-5 धागे) गर्म दूध के साथ दिन में एक बार लिया जा सकता है।

Q. क्या केसर स्वास्थ्य पर विषाक्त प्रभाव डालता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जब सीमित मात्रा में सेवन किया जाए (डॉक्टर द्वारा सलाह के अनुसार), केसर सुरक्षित है। अध्ययनों से पता चला है कि दिन में दो बार 15 मिलीग्राम केसर के सेवन से थायराइड, लीवर, किडनी और हेमटोलोगिक सिस्टम पर कोई विषाक्त प्रभाव नहीं पड़ता है।

Q. क्या केसर से पेट की समस्या होती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

बताया गया है कि केसर एक गैस्ट्रिक टॉनिक है और भूख को कम करता है। केसर कसैले गुणों (शरीर के ऊतकों को सिकोड़ने या संकुचित करने की क्षमता) वाली एक पाचक औषधि है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालकर पेट को भी साफ करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) में उष्ना (शक्ति में गर्म) का गुण होता है और पाचन में सुधार करता है लेकिन अगर आपको पित्त बढ़ गया है और आप केसर को अधिक मात्रा में लेते हैं, तो इससे पेट में जलन जैसी कुछ समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए केसर का प्रयोग दूध के साथ कम मात्रा में ही करना बेहतर होता है।

प्र. केसर के दुष्प्रभाव क्या हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. आंखों और त्वचा का पीला पड़ना।
2. उल्टी
3. दस्त
4. स्तब्ध जाना
5. चक्कर आना

हो केसर की उष्ना वीर्य (गर्म) शक्ति के कारण अधिक मात्रा में और लंबे समय तक लेने पर उल्टी और नाक से खून बहना हो सकता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार, यदि आपकी त्वचा हाइपरसेंसिटिव है और पित्त के बढ़ने से संबंधित कोई समस्या है, तो केसर (केसर) की अधिक मात्रा का उपयोग करने से त्वचा में जलन, उल्टी और नाक से खून आने की समस्या हो सकती है।

प्र. केसर की चाय के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर की चाय में कुछ ऐसे घटक होते हैं जो अवसाद, चिंता और मनोदशा संबंधी विकारों को प्रबंधित करने में मदद करते हैं। इसमें 150 से अधिक यौगिक होते हैं जो आराम करने वाले के रूप में कार्य करते हैं, तनाव को दूर करने में मदद करते हैं, स्मृति और दृष्टि में सुधार करते हैं। केसर की चाय रक्तचाप, यौन स्वास्थ्य, पेट और हृदय की समस्याओं के प्रबंधन में भी मदद कर सकती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर की चाय स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है क्योंकि इसमें मेध्या (ब्रेन टॉनिक) गुण होता है जो तनाव, अवसाद, अनिद्रा और कमजोर याददाश्त जैसे कुछ तंत्रिका विकारों को प्रबंधित करने में मदद करता है। रेचक (रेचक) गुण होने के कारण यह कब्ज को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

Q. क्या केसर वजन घटाने के लिए उपयोगी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, केसर में भूख को दबाने की क्षमता होती है जिससे बाध्यकारी भोजन या अधिक भोजन करना कम हो जाता है। यह शरीर को शुद्ध भी करता है और इस प्रकार विषाक्त पदार्थों को निकालता है और वजन घटाने को बढ़ावा देता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

वजन बढ़ना शरीर में अमा के रूप में कफ दोष के बढ़ने का परिणाम है। केसर अपने कफ संतुलन गुण के कारण कफ दोष को प्रबंधित करने में मदद करता है, जो वजन कम करने में मदद करता है।

Q. क्या केसर इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, केसर प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद कर सकता है क्योंकि इसमें कुछ विरोधी भड़काऊ, एंटीऑक्सिडेंट और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी घटक होते हैं जो शरीर के चयापचय में सुधार करते हैं। यह विभिन्न विकारों और संक्रमणों से लड़ने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) में रसायन (कायाकल्प) गुण होता है जिसके कारण यह एक अच्छे इम्युनिटी बूस्टर के रूप में काम करता है। यह शरीर को उन संक्रमणों से लड़ने में मदद करता है जो मौसमी परिवर्तनों के कारण हो सकते हैं।

Q. क्या केसर त्वचा की रंजकता के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

केसर में मौजूद फ्लेवोनोइड्स त्वचा को हानिकारक यूवी विकिरण से बचाने के लिए जाने जाते हैं और इस प्रकार, त्वचा की टैनिंग और रंजकता को रोकते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) वर्ण गण के समूह से संबंधित है और गोरापन बढ़ाता है और त्वचा को चमक देता है।
सुझाव:
1. केसर के 5-6 धागे 2 टेबल स्पून दूध में लें।
2. इसमें 1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी का पाउडर मिलाएं।
3. एक पेस्ट बनाने के लिए अच्छी तरह मिलाएं।
4. चेहरे पर लगाएं और 15-20 मिनट तक सूखने तक इंतजार करें।
5. इसे सामान्य पानी से धो लें।
6. इस पेस्ट का इस्तेमाल हफ्ते में 2-3 बार करें।
7. अगर आपकी त्वचा तैलीय है तो दूध को गुलाब जल से बदल दें।

Q. क्या केसर मुंहासों के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, केसर अपने एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण मुंहासों को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। यह मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया (एस ऑरियस) के विकास को रोकता है और मुंहासों के आसपास लालिमा और दर्द को कम करता है।
टिप:
1. 2 टेबल स्पून दूध में केसर की 5-6 किस्में मिलाएं।
2. इसमें 5 से 6 तुलसी के पत्ते मिलाएं।
3. इन्हें एक साथ पीस लें।
4. इस मिश्रण को पिंपल्स और मुंहासों पर लगाएं।
5. लगभग एक घंटे के लिए छोड़ दें।
6. सामान्य पानी से धो लें।
7. मुंहासों और फुंसियों को कम करने के लिए इस उपाय को हफ्ते में दो बार करें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर अपने रोपन (उपचार) और रसायन (कायाकल्प) गुणों के कारण मुँहासे और मुँहासे के निशान को नियंत्रित करने में मदद करता है।

प्र. त्वचा को गोरा करने के लिए केसर का उपयोग कैसे करें?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सुझाव:
1. एक छोटी कटोरी में केसर की 2-3 किस्में लें।
2. इसमें 2 टेबल स्पून दूध डालें।
3. केसर के धागों को 5 मिनट के लिए दूध में भिगो दें।
4. इसमें 1 छोटा चम्मच चंदन पाउडर मिलाएं।
5. इन्हें मिलाकर पेस्ट बना लें।
6. गीले चेहरे पर लगाएं।
7. सर्कुलर मोशन में मसाज करें।
8. लगभग 20 मिनट के लिए छोड़ दें।
9. सामान्य पानी से धो लें।
10. ग्लोइंग स्किन के लिए इसे नियमित रूप से एक हफ्ते तक फॉलो करें।

Q. क्या घावों पर केसर लगाया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि केसर का उपयोग त्वचा की रंजकता के इलाज के लिए किया जाता है, लेकिन घावों और त्वचा के संक्रमण के इलाज के लिए इस जड़ी बूटी के उपयोग का कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि त्वचा के संक्रमण या घावों से छुटकारा पाने के लिए इसका उपयोग न करें और यदि कोई प्रश्न हो तो अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

आयुर्वेदिक नजरिये से

केसर (केसर) अपने रोपन (हीलिंग) गुण के कारण घाव को जल्दी भरने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। केसर का चूर्ण घाव पर सीधे दिन में दो बार लगाएं लेकिन अगर कोई गंभीर संक्रमण हो तो इस्तेमाल करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.