Search
Generic filters

Suddh Suahaga | Suddh Suahaga के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

Suddh Suahaga

शुद्ध सुहागा को आयुर्वेद में टंकाना और अंग्रेजी में बोरेक्स कहा जाता है। यह क्रिस्टलीय रूप में उपलब्ध है और इसमें विभिन्न चिकित्सीय गुण हैं जो स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।
आयुर्वेद के अनुसार, शहद के साथ शुद्ध सुहाग भस्म अपने उष्ना और कफ संतुलन गुणों के कारण बलगम को ढीला करके खांसी और सर्दी का प्रबंधन करने में मदद करती है। यह सूजन को नियंत्रित करने में भी मदद करता है क्योंकि यह अपनी गर्म शक्ति के कारण पाचन अग्नि में सुधार करता है। शुद्ध सुहाग भस्म का सेवन अपने रोगाणुरोधी गुणों के कारण मूत्र पथ के संक्रमण को नियंत्रित करने में भी मदद कर सकता है।
नारियल के तेल या शहद या नींबू के रस के साथ शुद्ध सुहागा लगाने से रूसी, त्वचा के संक्रमण और मस्से को नियंत्रित करने में मदद मिलती है क्योंकि इसमें तीक्ष्ण (तीक्ष्ण), रूक्ष (सूखा) और क्षार (क्षारीय) गुण होते हैं।
यदि आप इसकी गर्म शक्ति के कारण इसे अपने सिर पर लगा रहे हैं तो नारियल के तेल के साथ शुद्ध सुहागा का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

शुद्ध सुहागा के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

बोरेक्स, टंका, द्रवका, वेलिगटम, पोनकरम, सुहागा, सोडियम टेट्रा बोरेट डिकाहाइड्रेट, टंकाना।

शुद्ध सुहागा का स्रोत क्या है?

धातु और खनिज आधारित

शुद्ध सुहागा के लाभ

1. सर्दी और खांसी
शुद्ध सुहागा कफ संतुलन और उष्ना (गर्म) शक्ति के कारण खांसी को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह बलगम को ढीला करने और उसे आसानी से बाहर निकालने में मदद करता है।

2. सूजन
शुद्ध सुहागा सूजन को नियंत्रित करने में मदद करती है क्योंकि यह उष्ना (गर्म) प्रकृति के कारण पाचन अग्नि में सुधार करती है।

3. एमेनोरिया और ओलिगोमेनोरिया एमेनोरिया और ओलिगोमेनोरिया
शुद्ध सुहागा अपनी उष्ना (गर्म) शक्ति के कारण जैसी महिला स्वास्थ्य जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए प्रभावी है।

4. यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI)
शुद्ध सुहागा मूत्र पथ के संक्रमण को नियंत्रित करने में मदद करता है क्योंकि इसकी तीक्ष्ण (तीक्ष्ण), रूक्ष (सूखी) और क्षार (क्षारीय) प्रकृति के कारण इसमें रोगाणुरोधी गतिविधि होती है।

शुद्ध सुहागा का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

शुद्ध सुहागा अनुशंसित खुराक और अवधि में लिया जाना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसकी उष्ना (गर्म) और तीक्ष्ण (तीक्ष्ण) प्रकृति के कारण उच्च खुराक या लंबे समय तक मतली या उल्टी हो सकती है।

स्तनपान

आयुर्वेदिक नजरिये से

स्तनपान के दौरान शुद्ध सुहागा से बचने की सलाह दी जाती है।

गर्भावस्था

आयुर्वेदिक नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान शुद्ध सुहागा से बचने की सलाह दी जाती है।

दुष्प्रभाव

आयुर्वेदिक नजरिये से

पुरुषों द्वारा शुद्ध सुहागा को लंबे समय तक (2 महीने से अधिक) नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि यह अपने क्षार (क्षारीय) संपत्ति के कारण शुक्राणु की गुणवत्ता और मात्रा को प्रभावित कर सकता है।

शुद्ध सुहागा का उपयोग कैसे करें

शुद्ध सौहागा भस्म
ए. 1-2 चुटकी शुद्ध सौहाग भस्म लें।
बी इसमें 1/2-1 चम्मच शहद मिलाएं।
सी। खांसी और गले की खराश से छुटकारा पाने के लिए इसे सुबह के समय लें।

शुद्ध सुहागा के लाभ

1.
डैंड्रफ शुद्ध सुहागा अपनी तीक्ष्ण (तीक्ष्ण) और रूक्ष (सूखी) प्रकृति के कारण रूसी को नियंत्रित करने में मदद करता है।

2. त्वचा के मस्से
शुद्ध सुहागा अपनी क्षार (क्षारीय) संपत्ति के कारण त्वचा के मस्सों को प्रबंधित करने में मदद करता है।

3. त्वचा संक्रमण
शुद्ध सुहागा अपनी रोगाणुरोधी गतिविधि के कारण फंगल जैसे त्वचा संक्रमण का प्रबंधन करने में मदद करता है जो इसके तीक्ष्ण (तीक्ष्ण), रूक्ष (शुष्क) और क्षार (क्षारीय) गुणों के कारण होता है।

शुद्ध सुहागा का उपयोग करते समय सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आयुर्वेदिक नजरिये से

यदि आप उष्ना (गर्म) शक्ति के कारण खोपड़ी पर लगा रहे हैं तो नारियल के तेल के साथ शुद्ध सौहागा का प्रयोग करें।

एलर्जी

आयुर्वेदिक नजरिये से

अगर आपकी त्वचा हाइपरसेंसिटिव है तो गुलाब जल के साथ शुद्ध सौहागा का प्रयोग करें।

शुद्ध सुहागा का उपयोग कैसे करें

1. शुद्ध सुहागा नारियल के तेल के साथ
a. 1/2 चम्मच शुद्ध सुहागा लें।
बी इसमें नारियल का तेल मिलाएं और स्कैल्प और बालों पर लगाएं।
सी। 30 मिनट तक प्रतीक्षा करें और शैम्पू से धो लें।
डी डैंड्रफ को नियंत्रित करने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 1-2 बार इस्तेमाल करें।

2. हल्दी के साथ शुद्ध सुहागा
a. आधा चम्मच शुद्ध सुहागा लें।
बी इसमें हल्दी और दूध मिलाकर पेस्ट बना लें।
सी। त्वचा के प्रभावित क्षेत्र पर समान रूप से लगाएं।
डी इसे 4-5 मिनट के लिए बैठने दें।
इ। त्वचा के संक्रमण को प्रबंधित करने के लिए नल के पानी से अच्छी तरह धो लें।

3. शुद्ध सुहागा शहद के साथ
a. आधा चम्मच शुद्ध सौहागा लें।
बी इसमें 1/2 चम्मच शहद मिलाएं।
सी। घाव और दाने पर लगाएं।
डी 1-2 घंटे बाद अच्छी तरह धो लें।
इ। त्वरित उपचार और दर्द को प्रबंधित करने के लिए इस उपाय का प्रयोग करें।

4. शुद्ध सौहागा नींबू के रस के साथ
a. चम्मच शुद्ध सुहागा लें।
बी इसमें 2-3 बूंद नींबू का रस मिलाएं।
सी। इसका पेस्ट बना लें और इस मिश्रण को मस्सों पर लगाएं।
डी मस्सों से प्रभावी राहत के लिए इस उपाय को दिन में एक बार प्रयोग करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या शुद्ध सुहागा त्वचा पर जलन और लालिमा पैदा कर सकता है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

हाँ, यदि आपकी त्वचा अति संवेदनशील है, तो शुद्ध सुहागा में जलन हो सकती है क्योंकि यह उष्ना (गर्म) और क्षार (क्षारीय) प्रकृति की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.