Search
Generic filters

Tulsi | तुलसी के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

तुलसी

तुलसी एक पवित्र पौधा है जिसमें औषधीय और आध्यात्मिक दोनों गुण होते हैं। आयुर्वेद में इसे “प्रकृति की माँ चिकित्सा” और “जड़ी-बूटियों की रानी” जैसे विभिन्न नामों से जाना जाता है।
तुलसी अपने एंटीमाइक्रोबियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीट्यूसिव (खांसी से राहत) और एंटी-एलर्जी गुणों के कारण खांसी और सर्दी के लक्षणों से राहत दिलाने में फायदेमंद है। तुलसी की कुछ पत्तियों को शहद के साथ लेने से खांसी और फ्लू से राहत मिलती है क्योंकि यह प्रतिरक्षा स्वास्थ्य में सुधार करती है। रोजाना तुलसी की चाय पीने से शांत प्रभाव पड़ता है और तनाव कम करने में मदद मिलती है।
आयुर्वेद के अनुसार, तुलसी अपने कफ-संतुलन गुण के कारण दमा के लक्षणों को कम करने में मदद करती है।
दाद के संक्रमण के प्रबंधन में भी तुलसी उपयोगी है। तुलसी के पत्तों का लेप प्रभावित जगह पर लगाने से संक्रमण से बचाव होता है और सूजन और दर्द से भी राहत मिलती है।

तुलसी के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

ओसिमम गर्भगृह, पवित्र तुलसी, देवदुंदुभी, अपेत्रक्षि, सुलभा, बहुमंजरी, गौरी, भुटघानी, वृंदा, अरेड तुलसी, करीतुलसी, गग्गर चेट्टू, तुलसी, तुलसी, थाई तुलसी, पवित्र तुलसी, दोहश, तुलसी, कला तुलसी, कृष्ण तुलसी, कृष्णमुल तुलसी, कृष्णमुल तुलसी, विष्णु प्रिया, संत. जोसेफ का पौधा, सुवासा तुलसी, रेहान, थिरु थीज़ाई, श्री तुलसी, सुरसा

तुलसी का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

तुलसी के लाभ

सामान्य सर्दी के लक्षणों के लिए तुलसी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी एक प्रसिद्ध इम्यूनोमॉड्यूलेटरी जड़ी बूटी है जो सामान्य सर्दी से लड़ने की व्यक्ति की क्षमता में सुधार कर सकती है। तुलसी में एंटीमाइक्रोबियल, एंटी-एलर्जी और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, इसलिए यह नाक के श्लेष्म झिल्ली की सूजन को रोकता है। यह सामान्य सर्दी के लक्षणों की नियमित पुनरावृत्ति को भी रोकता है। एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि तुलसी खांसी से राहत दिलाने में मदद करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

सामान्य सर्दी कफ के बढ़ने और कमजोर पाचन के कारण होती है। जब हम जो भोजन करते हैं वह पूरी तरह से पचता नहीं है, तो वह अमा में बदल जाता है। यह अमा बलगम के रूप में श्वसन तंत्र में पहुंच जाता है और सर्दी या खांसी का कारण बनता है। तुलसी में दीपन (भूख बढ़ाने वाला), पचन (पाचन) और कफ संतुलन गुण होते हैं जो अमा को कम करने और शरीर से अत्यधिक थूक को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

तुलसी का कड़ा बनाने के टिप्स:
1. 10-12 तुलसी के पत्ते, 1 चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक और 7-8 सूखी कालीमिर्च लें।
2. एक पैन में पानी उबालें, उसमें तुलसी, कद्दूकस किया हुआ अदरक और काली मिर्च डालकर 10 मिनट तक उबालें।
3. इसमें चुटकी भर काला नमक डालकर ½ नींबू निचोड़ लें।
4. इसे 1 मिनट तक खड़े रहने दें।
5. सामान्य सर्दी और खांसी को नियंत्रित करने के लिए तनाव और गर्म पानी पीएं।

इन्फ्लुएंजा (फ्लू) के लिए तुलसी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी एक इम्युनोमोड्यूलेटर के रूप में कार्य करती है और वायरल संक्रमण को रोकती है। इसमें ज्वरनाशक और स्वेदजनक क्रिया भी होती है, जो पसीने को प्रेरित करती है और शरीर के बढ़े हुए तापमान को सामान्य करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद में, इन्फ्लूएंजा को वात श्लेश्मिका ज्वर के रूप में जाना जाता है, जो तीन दोषों – वात, पित्त और कफ के असंतुलन के कारण होता है। तुलसी अपने रसायन (कायाकल्प) गुणों से सभी तीन दोषों विशेष रूप से कफ दोष को संतुलित करके इन्फ्लूएंजा का प्रबंधन करने में मदद करती है और प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करती है।
तुलसी का कड़ा बनाने के टिप्स:
1. 10-12 तुलसी के पत्ते, 1 चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक और 7-8 सूखी कालीमिर्च लें।
2. एक पैन में पानी उबालें, उसमें तुलसी, कद्दूकस किया हुआ अदरक और काली मिर्च डालकर 10 मिनट तक उबालें।
3. इसमें चुटकी भर काला नमक डालकर ½ नींबू निचोड़ लें।
4. इसे 1 मिनट तक खड़े रहने दें।
5. इन्फ्लुएंजा के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए तनाव और गर्म पानी पीएं।

अस्थमा के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि होती है और यह दमा के लक्षणों की नियमित पुनरावृत्ति को रोकता है। इसमें एंटी-एलर्जी और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं और ब्रोन्कियल ट्यूबों के श्लेष्म झिल्ली की सूजन को कम करता है। तुलसी एक एक्सपेक्टोरेंट के रूप में भी काम करती है जो फेफड़ों से अतिरिक्त बलगम को बाहर निकालती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अस्थमा को स्वस रोग के रूप में जाना जाता है और इसमें शामिल मुख्य दोष वात और कफ हैं। दूषित ‘वात’ फेफड़ों में विक्षिप्त ‘कफ दोष’ के साथ जुड़ जाता है, जिससे श्वसन मार्ग में रुकावट आती है। इसके परिणामस्वरूप हांफने और सांस लेने में तकलीफ होती है। तुलसी में कफ और वात संतुलन गुण होते हैं जो रुकावट को दूर करने और अस्थमा में राहत पाने में मदद करते हैं।
सुझाव:
1. तुलसी के पत्तों का रस लें और उसमें 1 चम्मच शहद मिलाएं।
2. रोजाना 3-4 बार सेवन करें।

बुखार के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी अपने इम्यूनोमॉड्यूलेटरी और रोगाणुरोधी गुणों के कारण शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाती है। तुलसी में एक ज्वरनाशक और स्वेदजनक गतिविधि है जो बुखार के दौरान पसीने को प्रेरित करने और शरीर के ऊंचे तापमान को सामान्य करने में मदद करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी की पत्तियों का उपयोग बुखार को कम करने के लिए किया जा सकता है क्योंकि यह अपनी रसायन (कायाकल्प) संपत्ति के कारण प्रतिरक्षा में सुधार और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है।
तुलसी का कड़ा बनाने के टिप्स:
1. 15 से 20 तुलसी के पत्ते, 1 चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक और 7-8 सूखी कालीमिर्च लें।
2. एक पैन में पानी उबालें, उसमें तुलसी, कद्दूकस किया हुआ अदरक और काली मिर्च डालकर 10 मिनट तक उबालें।
3. इसमें चुटकी भर काला नमक डालकर ½ नींबू निचोड़ लें।
4. इसे 1 मिनट तक खड़े रहने दें।
5. बुखार को नियंत्रित करने के लिए तनाव और गर्म पानी पीएं।

तनाव के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी एक प्रसिद्ध एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी है जो तनाव से निपटने की व्यक्ति की क्षमता में सुधार कर सकती है। तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (एसीटीएच) के स्राव को बढ़ाता है जो बदले में शरीर में कोर्टिसोल के स्तर (तनाव हार्मोन) को बढ़ाता है। तुलसी में यूजेनॉल और उर्सोलिक एसिड कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और तनाव से संबंधित समस्याओं को प्रबंधित करने में मदद करता है। तुलसी की इम्युनोस्टिमुलेंट क्षमता और एंटीऑक्सीडेंट गुण भी इसकी एडाप्टोजेनिक क्रिया में योगदान कर सकते हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तनाव को आमतौर पर वात दोष के असंतुलन के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, और यह अनिद्रा, जलन और भय से जुड़ा है। तुलसी में वात को संतुलित करने का गुण होता है जो नियमित रूप से लेने पर तनाव को कम करने में मदद करता है।
तुलसी का कड़ा बनाने के टिप्स:
1. 10-12 तुलसी के पत्ते लें और इसे 2 कप पानी में मिलाएं।
2. इसे एक पैन में तब तक उबालें जब तक कि मात्रा आधा कप न रह जाए।
3. इसे कमरे के तापमान पर ठंडा होने दें और मिश्रण को छान लें।
4. 1 चम्मच शहद डालें और अच्छी तरह मिलाएँ।

डायबिटीज मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2) के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मधुमेह और मधुमेह संबंधी जटिलताओं के प्रबंधन में तुलसी उपयोगी हो सकती है। अध्ययनों से पता चलता है कि तुलसी में हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव होता है और इंसुलिन स्राव और इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाकर रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, अग्न्याशय की कोशिकाओं की रक्षा करता है और बिगड़ा हुआ यकृत, गुर्दे और हृदय संबंधी कार्यों जैसी मधुमेह संबंधी जटिलताओं के जोखिम को भी कम करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

मधुमेह, जिसे मधुमेहा के नाम से भी जाना जाता है, वात की वृद्धि और खराब पाचन के कारण होता है। बिगड़ा हुआ पाचन अग्न्याशय की कोशिकाओं में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) का संचय करता है और इंसुलिन के कार्य को बाधित करता है। तुलसी अमा को हटाने में मदद करती है और अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाले) और पचन (पाचन) गुणों के कारण बढ़े हुए वात को नियंत्रित करती है। इस प्रकार यह उच्च रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

हृदय रोग के लिए तुलसी के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तनाव से संबंधित हृदय रोगों को रोकने में तुलसी उपयोगी हो सकती है। तुलसी में यूजेनॉल और उर्सोलिक एसिड कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और हृदय रोग जैसी तनाव संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद करता है। तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं जो मुक्त कणों के कारण कार्डियक लिपिड पेरोक्सीडेशन को रोकता है। यह हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है और स्वस्थ हृदय को बनाए रखने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तनावपूर्ण जीवन के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप के स्तर में वृद्धि से हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। तुलसी अपने वात संतुलन गुण के कारण तनाव के स्तर को कम करती है और अमा को कम करने वाली प्रकृति के कारण उच्च कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करती है। साथ में, यह हृदय रोगों को रोकने में मदद करता है।

जिगर की बीमारी के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

वायरल हेपेटाइटिस के प्रबंधन में तुलसी उपयोगी हो सकती है। तुलसी में एंटीवायरल, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जिसके कारण यह लीवर की कोशिकाओं को वायरस और फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाती है। इसलिए, तुलसी न केवल एक हेपेटोप्रोटेक्टिव एजेंट के रूप में कार्य करती है बल्कि यकृत के कार्यों को बहाल करने में भी मदद करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

जिगर के विकार पित्त दोष के बढ़ने और खराब पचक अग्नि (पाचन अग्नि) के कारण होते हैं। यह यकृत के कार्य को प्रभावित करता है और बाद में अन्य दोषों को भी नष्ट कर देता है। तुलसी अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाले) और पचन (पाचन) गुणों के कारण पचक अग्नि को बेहतर बनाने में मदद करती है और अपनी रसायन (कायाकल्प) प्रकृति के कारण जिगर की कोशिकाओं के विष-प्रेरित नुकसान को रोकती है।

मलेरिया के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी को मलेरिया-रोधी गतिविधि के लिए जाना जाता है। तुसली में यूजेनॉल मुख्य घटक है जिसमें मच्छर भगाने का गुण होता है।

दस्त के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

दस्त के मामले में तुलसी की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी पचन अग्नि (पाचन अग्नि) में सुधार करके पाचन का प्रबंधन करती है और दस्त के मामले में राहत देती है। यह अपने दीपन (भूख बढ़ाने वाले) और पचन (पाचन) गुणों के कारण भोजन के उचित पाचन में मदद करता है और दस्त को नियंत्रित करने में मदद करता है।

अनिद्रा के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अनिद्रा में तुलसी की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

एक बढ़ा हुआ वात दोष तंत्रिका तंत्र को संवेदनशील बनाता है जिससे अनिद्रा (अनिद्रा) हो जाती है। तुलसी एक आराम देने वाली जड़ी बूटी के रूप में काम करती है और वात दोष को संतुलित करके अच्छी नींद लेने में मदद करती है।

तुलसी कितनी कारगर है?

अपर्याप्त सबूत

दमा, सामान्य सर्दी के लक्षण, मधुमेह मेलिटस (टाइप 1 और टाइप 2), ​​दस्त, बुखार, हृदय रोग, इन्फ्लुएंजा (फ्लू), अनिद्रा, यकृत रोग, मलेरिया, तनाव

तुलसी उपयोग करते हुए सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. तुलसी रक्तस्राव के समय को बढ़ा सकती है। रक्तस्राव विकारों वाले रोगियों या ऐसी दवाएं लेने से सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है जो रक्तस्राव के जोखिम को बढ़ा सकती हैं।
2. हालांकि मानव में अच्छी तरह से अध्ययन नहीं किया गया है, तुलसी में एंटी-शुक्राणुजन्य (शुक्राणु-अवरोधक) और एंटीफर्टिलिटी प्रभाव हो सकते हैं।

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जिन लोगों को तुलसी या उसके घटकों से एलर्जी या अतिसंवेदनशीलता है, उन्हें डॉक्टर की देखरेख में तुलसी का उपयोग करना चाहिए।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

स्तनपान के दौरान तुलसी के औषधीय उपयोग के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है। इसलिए स्तनपान के दौरान तुलसी का सेवन चिकित्सकीय देखरेख में ही करना चाहिए।

मधुमेह के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

मधुमेह वाले लोगों में तुलसी रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है। इसलिए आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि तुलसी को मधुमेह विरोधी दवाओं के साथ लेते समय नियमित रूप से रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था के दौरान तुलसी से बचना चाहिए क्योंकि यह गर्भाशय के संकुचन को उत्तेजित कर सकती है जिससे गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है [3]।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी संभवतः सुरक्षित है और अधिकांश लोगों के बीच अच्छी तरह से सहन की जाती है जब इसे थोड़े समय के लिए मुंह से लिया जाता है।

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कुछ लोगों में, तुलसी के लंबे समय तक उपयोग से दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे:
1. निम्न रक्त शर्करा
2. एंटीस्पर्मेटोजेनिक और प्रजनन-विरोधी प्रभाव।
3. लंबे समय तक रक्तस्राव का समय

तुलसी की अनुशंसित खुराक

  • तुलसी कैप्सूल – 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।
  • तुलसी की गोली – 1-2 गोली दिन में दो बार।
  • तुलसी पाउडर – – ½ छोटा चम्मच दिन में दो बार।
  • तुलसी का रस – 5-10 मिली दिन में एक बार।
  • तुलसी ड्रॉप – 1-2 बूंद दिन में दो बार।
  • तुलसी का तेल – 3-4 बूँदें, दिन में 4-5 बार।

तुलसी का प्रयोग कैसे करें?

1. तुलसी कैप्सूल
a. तुलसी के 1-2 कैप्सूल लें।
बी इसे दिन में दो बार पानी के साथ निगल लें।

2. तुलसी की गोलियां
a. तुलसी की 1-2 गोलियां लें।
बी इसे पानी के साथ दिन में दो बार निगल लें।

3. तुलसी पाउडर
a. -½ चम्मच तुलसी का चूर्ण जीभ पर लगाएं।
बी इसे पानी के साथ दिन में दो बार निगल लें।

4. तुलसी ड्रॉप
ए. 1 गिलास गुनगुने पानी में तुलसी की 1-2 बूंदें मिलाएं।
बी इसे दिन में 1-2 बार पिएं।

5. तुलसी के पत्ते
A. ताजी तुलसी के पत्ते रोजाना
i. तुलसी के 5-7 ताजे कच्चे पत्ते लें।
ii. सुबह के समय पत्तियों का सेवन बेहतर तरीके से करें।

बी तुलसी चाय
मैं। 1½ कप पानी में तुलसी के ताजे पत्ते डालें।
ii. मध्यम आंच पर 10 मिनट तक उबालें।
iii. एक छलनी की मदद से पानी को छान लें।
iv. नींबू का रस डालें और अच्छी तरह मिलाएँ।
v. खांसी और जुकाम से राहत पाने के लिए गर्मागर्म पिएं।

C. शाह जीरा- तुलसी पानी
i. एक गिलास पानी में आधा चम्मच अजवायन (शाह जीरा) और तुलसी के 5-6 पत्ते लें।
ii. इस मिश्रण को तब तक उबालें जब तक मात्रा आधी न हो जाए।
iii. इस मिश्रण का 1 चम्मच दिन में दो बार तब तक पिएं जब तक बुखार कम न हो जाए।

डी तुलसी कड़ा
मैं। 15 से 20 तुलसी के पत्ते, 1 चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक और 7-8 सूखी काली मिर्च लें।
ii. एक पैन में पानी उबालें, उसमें तुलसी, कद्दूकस किया हुआ अदरक और काली मिर्च डालकर 10 मिनट तक उबालें।
iii. इसमें चुटकी भर काला नमक डालकर ½ नींबू निचोड़ लें।
iv. इसे 1 मिनट तक खड़े रहने दें।
v. खांसी और जुकाम से छुटकारा पाने के लिए तनाव और गर्म पानी पिएं।

ई. तुलसी का पानी
i. एक पैन में ½ कप कटे हुए तुलसी के पत्ते और 2 कप पानी डालें।
ii. 15 मिनट तक उबालें।
iii. ढक्कन से ढककर १५ मिनट के लिए अलग रख दें।
iv. इसके एंटीबायोटिक और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए इस पानी को सुबह-शाम पिएं।

एफ तुलसी की चटनी
i. एक ब्लेंडर में ½ कप तुलसी के पत्ते और कच्चा आम डालें।
ii. अब इसमें अपने स्वाद के अनुसार काला नमक और चीनी मिलाएं।
iii. पेस्ट बनाने के लिए ठीक से ब्लेंड करें।
iv. रेफ्रिजरेटर में स्टोर करें और इसे भोजन के साथ लें।

तुलसी के लाभ

दाद के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

इसकी रोगाणुरोधी गतिविधि के कारण, दाद के संक्रमण को प्रबंधित करने के लिए तुलसी को स्थानीय रूप से लगाया जा सकता है [4

आयुर्वेदिक नजरिये से

दाद को आयुर्वेद में दाद के नाम से जाना जाता है और दाद के साथ खुजली और जलन कफ और पित्त दोष के असंतुलन के कारण होती है। तुलसी अपने रूक्ष (सूखे) और कफ को शांत करने वाले गुणों के कारण दाद और उससे जुड़ी खुजली को नियंत्रित करने में मदद करती है।
युक्ति:
1. दाद के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए तुलसी के पत्तों का रस नियमित रूप से लगाएं।
2. या, 2-3 तुलसी के पत्ते लें और उन्हें कुचलकर नारियल के तेल के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें।
3. प्रभावित क्षेत्र पर दिन में 2-3 बार लगाएं।
4. दाद के संक्रमण वाले बच्चों में इस पेस्ट का सुरक्षित रूप से उपयोग किया जा सकता है।

सिरदर्द के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

सिरदर्द के मामले में तुलसी की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी साइनसाइटिस के कारण होने वाले सिरदर्द को प्रबंधित करने में मदद करती है जो कफ और वात दोष के असंतुलन के कारण होता है। तुलसी वात और कफ दोष दोनों को संतुलित करके साइनसाइटिस से जुड़े सिर में जमाव और भारीपन को कम करती है।
टिप
1. एक बड़े बर्तन में बस गर्म पानी और तुलसी के पत्ते डालें।
2. सुनिश्चित करें कि पानी गर्म और भाप से भरा हो।
3. अपने सिर को तौलिये से ढक लें।
4. 10-15 मिनट के लिए या जब तक सिरदर्द कम न होने लगे तब तक भाप लें।

जानवरों के काटने पर तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

इसके विरोधी भड़काऊ, एनाल्जेसिक और एंटीहिस्टामाइन गुणों के कारण, तुलसी बाहरी रूप से लागू होने पर सांप और बिच्छू के काटने के इलाज में उपयोगी हो सकती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी अपने रोपन (उपचार) गुण के कारण किसी जानवर के काटने की स्थिति में मदद कर सकती है।
युक्ति:
संक्रमण को ठीक करने और रोकने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर तुलसी का पेस्ट या तेल लगा सकते हैं।

कान दर्द के लिए तुलसी के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अपने रोगाणुरोधी, विरोधी भड़काऊ और एंटीएलर्जिक गुणों के कारण, तुलसी किसी भी माइक्रोबियल संक्रमण या एलर्जी की प्रतिक्रिया से जुड़े कान के दर्द को कम करने में उपयोगी हो सकती है।

तुलसी कितनी कारगर है?

अपर्याप्त सबूत

जानवर का काटना, कान का दर्द, सिरदर्द, दाद!

तुलसी उपयोग करते हुए सावधानियां

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जिन लोगों को तुलसी या उसके घटकों से एलर्जी या अतिसंवेदनशीलता है, उन्हें डॉक्टर की देखरेख में तुलसी का उपयोग करना चाहिए।

आयुर्वेदिक नजरिये से

टिप:
1. अगर आपकी त्वचा हाइपरसेंसिटिव है तो तुलसी के पत्तों के रस या शहद या गुलाब जल के साथ पेस्ट का प्रयोग करें।
2. त्वचा पर लगाने से पहले तुलसी के आवश्यक तेल को नारियल के तेल में मिलाकर उसकी उष्ना (गर्म) शक्ति के कारण प्रयोग करें।

तुलसी की अनुशंसित खुराक

  • तुलसी का रस – 5-10 मिली या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • तुलसी का तेल – 2-5 बूंद या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • तुलसी का पेस्ट – 2-4 ग्राम या अपनी आवश्यकता के अनुसार।
  • तुलसी पाउडर – 2-5 ग्राम या अपनी आवश्यकता के अनुसार।

तुलसी का प्रयोग कैसे करें?

1. तुलसी टूथपेस्ट
a. तुलसी के कुछ पत्ते लें।
बी इन्हें धूप में सुखाएं।
सी। पत्तों को पीसकर चूर्ण बना लें।
डी 1 चम्मच पत्तियों के पाउडर में आधा चम्मच सरसों का तेल मिलाएं।
इ। मौखिक स्वच्छता बनाए रखने के लिए दांतों को ब्रश करने के लिए इसे टूथपेस्ट के रूप में प्रयोग करें।

2. तुलसी चंदन पैक
a. तुलसी के कुछ पत्ते लें।
बी इन्हें धूप में सुखाएं।
सी। पत्तों को पीसकर चूर्ण बना लें।
डी अब एक कच्ची चंदन की छड़ी लें और इसे एक रोलर बोर्ड पर पानी की कुछ बूंदों के साथ एक पेस्ट बनाने के लिए जोर से रगड़ें।
इ। अब तुलसी के पत्तों को चंदन के पेस्ट में मिलाएं।
एफ इस पेस्ट को अपने सिर पर लगाएं, सूखने दें और सिर दर्द से राहत पाने के लिए गुनगुने पानी से धो लें।
जी मुंहासों को नियंत्रित करने के लिए आप इस पेस्ट का इस्तेमाल चेहरे पर भी कर सकते हैं।

3. तुलसी के पत्तों का रस या शहद के साथ पेस्ट
a. तुलसी के पत्तों का रस या पेस्ट लें।
बी इसमें शहद मिलाएं।
सी। मुंहासों और निशानों को नियंत्रित करने के लिए दिन में एक बार लगाएं।

4. नारियल तेल के साथ तुलसी आवश्यक तेल
a. तुलसी एसेंशियल ऑयल लें।
बी इसमें नारियल का तेल मिलाएं।
सी। डैंड्रफ को नियंत्रित करने के लिए हफ्ते में 1-3 बार स्कैल्प पर लगाएं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या तुलसी के पत्तों को चबाना हानिकारक है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

नहीं, अच्छे मौखिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए तुलसी के पत्तों को चबाना प्रभावी और किफायती वैकल्पिक विकल्प माना जा सकता है। लेकिन, आमतौर पर कहा जाता है कि तुलसी के पत्तों को निगलना चाहिए।

> क्या तुलसी और तुलसी एक ही चीज है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी के पत्तों का उपयोग पाक उद्देश्य के लिए एक स्वादिष्ट बनाने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है जबकि तुलसी कई औषधीय गुणों वाली एक धार्मिक जड़ी बूटी है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी में बहुत सारी उपचार विशेषताएं हैं और आयुर्वेदिक चिकित्सकों द्वारा इसका उपयोग किया जाता है और इसे पवित्र माना जाता है क्योंकि इसका हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। दूसरी ओर, तुलसी का कोई धार्मिक महत्व नहीं है और इसका उपयोग किसी व्यंजन में स्वाद जोड़ने के लिए किया जाता है।

Q. तुलसी के पौधे को कितनी बार पानी देना चाहिए?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी (पवित्र तुलसी) के पौधे को बेहतर विकास के लिए दिन में दो बार पानी देना चाहिए।

Q. तुलसी को पवित्र पौधा क्यों माना जाता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी हिंदू मान्यता में एक पवित्र पौधा है और इसे देवी तुलसी का एक सांसारिक अवतार माना जाता है जो भगवान विष्णु की एक महान उपासक थीं।

Q. क्या मैं तुलसी की बूंदों को बिना पानी के सीधे ले सकता हूं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी की कोई भी बूंद पानी के बिना नहीं लेनी चाहिए क्योंकि इसका स्वाद तीखा तीखा होता है और इससे एसिडिटी हो सकती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी की बूंदों को हमेशा पानी के साथ लेना चाहिए क्योंकि इसकी उष्ना (गर्म) शक्ति होती है।

Q. क्या तुलसी का पानी सेहत के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हाँ, तुलसी का पानी शरीर, मन और आत्मा का पोषण और पोषण करता है, साथ ही विश्राम और कल्याण की भावना भी देता है। तुलसी मौखिक और आंखों की देखभाल को बढ़ावा देने में मदद करती है, भीड़ और श्वसन की स्थिति को साफ करती है और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाती है। तुलसी किडनी के कार्य को प्रोत्साहित करने में भी मदद करती है और चाय या कॉफी जैसी शारीरिक निर्भरता पैदा किए बिना शरीर को डिटॉक्सीफाई करती है।

Q. आयुर्वेद के अनुसार तुलसी दो प्रकार की होती है?

आयुर्वेदिक नजरिये से

आयुर्वेद के अनुसार, तुलसी की दो किस्में हैं, “कृष्ण तुलसी” (काला) और “राम तुलसी” (हरा) समान रासायनिक घटकों और औषधीय गुणों के साथ।

Q. क्या तुलसी याददाश्त में सुधार कर सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, तुलसी को याददाश्त बढ़ाने के गुण के लिए जाना जाता है। तुलसी में यूजेनॉल और ursolic एसिड कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है और तनाव और खराब याददाश्त जैसी तनाव संबंधी समस्याओं को प्रबंधित करने में मदद करता है। तुलसी मन को शांत और शांत करती है और तुलसी का नियमित सेवन स्मृति और संज्ञानात्मक कार्य पर सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है। तुलसी उम्र बढ़ने से प्रेरित स्मृति घाटे से भी बचाती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

नींद न आना, तनाव और कमजोर तंत्रिका तंत्र खराब याददाश्त या याददाश्त संबंधी विकार के मुख्य कारण हैं। तुलसी तनाव को नियंत्रित करके याददाश्त में सुधार करने में मदद करती है और वात को संतुलित करके अच्छी नींद देती है। यह अपने रसायन गुण के कारण तंत्रिका तंत्र को बेहतर बनाने में भी मदद करता है। इसलिए, तुलसी के नियमित उपयोग से व्यक्ति की याददाश्त में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

Q. क्या तुलसी जहरीले रसायन-प्रेरित चोट से बचा सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी शरीर के एंटीऑक्सीडेंट अणुओं जैसे ग्लूटाथियोन के स्तर को बढ़ाकर और सुपरऑक्साइड डिसम्यूटेज और कैटलस जैसे एंटीऑक्सीडेंट एंजाइमों की गतिविधि को बढ़ाकर जहरीले रासायनिक-प्रेरित चोट से बचा सकती है। यह ऑक्सीजन और अन्य विषाक्त एजेंटों की कमी के कारण होने वाले मुक्त कणों को कोशिका सुरक्षा और परिमार्जन करने में मदद करता है।

Q. क्या रक्तस्राव विकारों के मामले में मैं तुलसी ले सकता हूं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अध्ययनों से पता चलता है कि तुलसी के अर्क का सेवन रक्त के थक्के को धीमा कर सकता है और रक्तस्राव के जोखिम को बढ़ा सकता है। इसलिए किसी भी रक्तस्राव विकार के मामले में और किसी शल्य प्रक्रिया के दौरान या बाद में तुलसी से बचें।

Q. क्या तुलसी अति अम्लता का कारण बन सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी के कारण अति अम्लता का कारण बताने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

हाँ तुलसी पाचन समस्याओं वाले लोगों में अति अम्लता का कारण हो सकती है और यदि इसकी उष्ना शक्ति के कारण इसे अधिक मात्रा में लिया जाता है।

प्र. प्रतिदिन तुलसी के पत्ते खाने से क्या लाभ होते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी के पत्तों का दैनिक सेवन खांसी, सर्दी, फ्लू, अस्थमा, संक्रमण (बैक्टीरिया, वायरल, फंगल), पेट और हृदय की समस्याओं, फेफड़ों के विकार और यहां तक ​​कि कैंसर जैसी बीमारियों को रोकने में मदद कर सकता है, क्योंकि इसकी शरीर को ठीक करने और अनुकूलन करने की क्षमता है। विभिन्न तनाव। तुलसी विटामिन सी, के, ए और अन्य एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होने के कारण सामान्य स्वास्थ्य, कल्याण, दीर्घायु को बढ़ावा देती है और स्मृति पर सकारात्मक प्रभाव डालती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी के नियमित सेवन से बलगम के अत्यधिक उत्पादन को रोककर सर्दी-खांसी की समस्या को रोकने में मदद मिल सकती है। यह प्रतिरक्षा में सुधार करके अस्थमा और ब्रोंकाइटिस के प्रबंधन में मदद करता है और इसके कफ संतुलन गुण के कारण संक्रामक रोगों को रोकने के लिए भी फायदेमंद है। तुलसी अपने वात संतुलन, दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचन (पाचन) गुणों के कारण कुछ गैस्ट्रिक समस्याओं जैसे पेट फूलना या सूजन को कम करने में भी मदद करती है।

Q. क्या तुलसी डिप्रेशन से लड़ने में मदद करती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, तुलसी में मौजूद विटामिन सी और अन्य एंटीऑक्सीडेंट दिमाग को शांत और शांत करके विषाक्त तनाव को कम करने में मदद करते हैं। तुलसी में मौजूद पोटेशियम तनावग्रस्त रक्त वाहिकाओं को ढीला करके रक्तचाप से संबंधित तनाव को भी कम करता है। योग की तरह, तुलसी का शांत प्रभाव पड़ता है और यह सिंथेटिक दवाओं जैसे किसी भी दुष्प्रभाव का कारण नहीं बनता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

अवसाद एक मन की स्थिति है जो वात दोष के असंतुलन के कारण होती है। तुलसी के नियमित सेवन से वात संतुलन गुण के कारण कुछ हद तक तनाव जैसे अवसाद के लक्षणों को दूर करने में मदद मिलती है।

Q. क्या वजन घटाने के लिए तुलसी के बीज अच्छे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, तुलसी के बीज फाइबर से भरपूर होते हैं इसलिए ये आपके पेट को भरा रखते हैं और एक निश्चित अवधि के लिए भूख को कम करते हैं। पानी में भिगोने के बाद, तुलसी के बीजों में अपने मूल आकार से 30 गुना तक विस्तार करने की क्षमता होती है, जिससे यह एक उत्कृष्ट प्राकृतिक आहार पूरक बन जाता है। तुलसी के बीज का एक चम्मच कैलोरी में कम होता है और विटामिन और खनिजों से भरा होता है – जिसमें कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम और आयरन के साथ विटामिन ए, बी-कॉम्प्लेक्स, ई और के शामिल हैं – ये सभी वजन प्रबंधन के लिए आवश्यक हैं।

आयुर्वेदिक नजरिये से

यदि तुलसी के बीजों का नियमित रूप से सेवन किया जाए तो यह शरीर के वजन को कम करने में सहायक होते हैं क्योंकि इसमें कफ संतुलन और शोधन (डिटॉक्सिफाइंग) गुण होते हैं। यह शरीर से अपशिष्ट उत्पादों को बाहर निकालने में मदद करता है जिससे शरीर में हल्कापन महसूस होता है। आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान तुलसी के बीज लेने से बचने की सलाह दी जाती है।

Q. क्या तुलसी का पानी सेहत के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हाँ, तुलसी का पानी शरीर, मन और आत्मा का पोषण और पोषण करता है, साथ ही विश्राम और कल्याण की भावना भी देता है। तुलसी मौखिक और आंखों की देखभाल को बढ़ावा देने में मदद करती है, भीड़ और श्वसन की स्थिति को साफ करती है और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाती है। तुलसी किडनी के कार्य को प्रोत्साहित करने में भी मदद करती है और चाय या कॉफी जैसी शारीरिक निर्भरता पैदा किए बिना शरीर को डिटॉक्सीफाई करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी का पानी अपने शोधन (डिटॉक्सिफिकेशन) गुण के कारण शरीर को डिटॉक्सीफाई करने और रक्त को शुद्ध करने में मदद करता है। असंतुलित कफ दोष के कारण होने वाली गले की खराश और खांसी को भी तुलसी के पानी से नियंत्रित किया जा सकता है क्योंकि इसमें कफ संतुलन गुण होता है।

Q. क्या तुलसी नेत्रश्लेष्मलाशोथ का इलाज कर सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि पर्याप्त शोध नहीं किया गया है, तुलसी का उपयोग इसके विरोधी भड़काऊ, जीवाणुरोधी, एंटीवायरल और एंटिफंगल गुणों के कारण नेत्रश्लेष्मलाशोथ के प्रबंधन के लिए किया जा सकता है।
सुझाव:
1. एक मुट्ठी तुलसी के पत्तों को गर्म पानी में 10 मिनट के लिए भिगो दें।
2. साफ कॉटन पैड को पानी में डुबोकर आंखों के ऊपर रखें।
3. इसे दिन में 3-4 बार दोहराएं।

Q. क्या तुलसी मुंहासों के लिए अच्छी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, तुलसी मुंहासों को नियंत्रित करने के लिए अच्छी है। इसमें रोगाणुरोधी और विरोधी भड़काऊ गुण होते हैं और शीर्ष पर लागू होने पर मुँहासे के आसपास दर्द और सूजन को कम करता है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

मुंहासे तीनों दोषों यानी वात, पित्त और कफ के असंतुलन के कारण होते हैं लेकिन मुख्य कारण पित्त दोष का बढ़ना है। हालाँकि तुलसी में उष्ना (गर्म) शक्ति होती है, लेकिन इसके रोपन (उपचार) गुण के कारण बाहरी रूप से लगाने पर यह मुंहासों को नियंत्रित करने में मदद करती है।

Q. क्या तुलसी घाव भरने में मदद कर सकती है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

तुलसी घाव के संकुचन को बढ़ाकर और नई त्वचा कोशिकाओं के निर्माण को बढ़ावा देकर घाव भरने की प्रक्रिया को तेज करती है।

आयुर्वेदिक नजरिये से

तुलसी अपने रोपन (उपचार) गुणों के कारण प्राकृतिक तरीके से मरम्मत तंत्र को बढ़ावा देकर घाव भरने में मदद करती है।

युक्ति:
उपचार तंत्र को बढ़ावा देने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर तुलसी के पत्तों का रस या पेस्ट लगाएं।

Q. क्या तुलसी का तेल बालों के लिए अच्छा है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, तुलसी में पर्याप्त मात्रा में विटामिन K, प्रोटीन और आयरन होता है जो स्वस्थ और चमकदार बालों के लिए जरूरी है। तुलसी के तेल से सिर की मालिश करने से रक्त संचार बढ़ता है जो इसके एंटीफंगल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण खुजली, बालों का झड़ना और रूसी को कम करने में मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.