Search
Generic filters

Yarrow | येरो के लाभ, फायदे, साइड इफेक्ट, इस्तेमाल कैसे करें, उपयोग जानकारी, खुराक और सावधानियां

Table of Contents

येरो

यारो एक फूल वाला पौधा है जो आमतौर पर उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया के क्षेत्रों में उगता है। इसे “नाक से खून बहने वाले पौधे” के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि इस पौधे की पत्तियां रक्त के थक्के जमने और नाक से खून बहने में मदद करती हैं।
यारो का सेवन मुख्य रूप से चाय के रूप में किया जाता है। यारो की पत्तियों से तैयार यारो चाय अपने ज्वरनाशक और डायफोरेटिक गुणों के कारण पसीने को प्रेरित करके बुखार को प्रबंधित करने में मदद करती है। इसके एंटीस्पास्मोडिक गुण के कारण इसका उपयोग दस्त में भी किया जाता है। यारो के पत्तों का सेवन इसके कार्मिनेटिव गुण के कारण पाचन में भी मदद कर सकता है।
त्वचा के लिए यारो के कई फायदे हैं। प्रकृति में कसैले होने के कारण यह त्वचा को कसने में मदद करता है। यह विभिन्न त्वचा देखभाल उत्पादों में एक घटक के रूप में जोड़े जाने पर मुँहासे जैसी त्वचा की स्थिति का भी प्रबंधन करता है। अपने एनाल्जेसिक और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण दांत दर्द को प्रबंधित करने के लिए यारो के पत्तों को भी चबाया जा सकता है।
हाइपरसेंसिटिव त्वचा वाले लोगों में यारो का उपयोग सावधानी से किया जाना चाहिए क्योंकि इससे कुछ साइड इफेक्ट्स जैसे कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस, त्वचा में जलन आदि हो सकते हैं।

यारो के समानार्थी शब्द कौन कौन से है ?

Achillea Millefolium, Biranjasipha, Gordaldo, Old Man’s Pepper, Devil’s Nettle, आम यारो, स्नीज़वॉर्ट, सैनिक का दोस्त, हज़ारों पत्ते, गेंड्रेन, पुथकंडा, भुत केसी, रोज़मारी, अच्चिलिया, राजमारी, तुखम गंडाना, बुइरंजस।

यारो का स्रोत क्या है?

संयंत्र आधारित

यारो के लाभ

बुखार के लिए यारो के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो चाय अपनी ज्वरनाशक और स्वेदजनक गतिविधि के कारण बुखार को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। यह पसीने को प्रेरित करता है और शरीर के तापमान को कम करता है। इससे बुखार के लक्षणों में आराम मिलता है।

यारो टी तैयार करने के लिए टिप्स
a. यारो का सूखा फूल 3-5 ग्राम लें।
बी इन्हें 2 कप उबलते पानी में डालें।
सी। इसे ढककर 30 मिनट के लिए भीगने के लिए रख दें।
डी इसे छान लें और दिन में दो बार (या चिकित्सक के निर्देशानुसार) इसका सेवन करें।

दस्त के लिए यारो के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो अपने कसैले और एंटीस्पास्मोडिक गुणों के कारण दस्त के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करता है। यह आंतों के ऊतकों के कसना का कारण बनता है और बलगम स्राव को कम करता है। यह आंतों की गतिशीलता को भी कम करता है और पेट दर्द और ऐंठन को कम करता है।

यारो कैप्सूल का उपयोग करने के लिए टिप्स
a. 1 यारो कैप्सूल दिन में दो बार (या चिकित्सक के निर्देशानुसार) लें।
बी दस्त के लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए हल्का भोजन करने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

पेट फूलना (गैस बनना) के लिए यारो के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो के पत्तों का अर्क अपने कार्मिनेटिव गुण के कारण गैस में मदद कर सकता है। यह आंतों में गैस के निर्माण को कम करके या इसके निष्कासन की सुविधा देकर पेट फूलने से राहत देता है।

सूजन आंत्र रोग के लिए यारो के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

अपने विरोधी भड़काऊ गुण के कारण यारो सूजन आंत्र रोग के लिए फायदेमंद हो सकता है। यह भड़काऊ मध्यस्थों की रिहाई को रोकता है और आंत्र में दर्द और सूजन को कम करता है।

यारो कितना प्रभावी है?

अपर्याप्त सबूत

दस्त, बुखार, पेट फूलना (गैस बनना), सूजन आंत्र रोग

यारो उपयोग करते हुए सावधानियां

विशेषज्ञों की सलाह

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो रक्त के थक्के बनने की प्रक्रिया को धीमा कर सकता है और सर्जरी के दौरान और बाद में रक्तस्राव के जोखिम को बढ़ा सकता है। इसलिए, सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले यारो के उपयोग से बचने की सलाह दी जाती है।

स्तनपान

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

चूंकि स्तनपान में यारो के उपयोग के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसलिए, स्तनपान में यारो का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करने या परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

माइनर मेडिसिन इंटरेक्शन

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

एंटासिड पेट के एसिड को कम करता है जबकि यारो पेट के एसिड को बढ़ाता है। तो, यारो एंटासिड की प्रभावशीलता में हस्तक्षेप कर सकता है।

मॉडरेट मेडिसिन इंटरेक्शन

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो के कारण नींद आ सकती है. इसलिए, यारो को शामक के साथ लेते समय चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे बहुत अधिक उनींदापन हो सकता है।

हृदय रोग के रोगी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो को एंटीहाइपरटेन्सिव दवाओं के साथ लेने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे रक्तचाप का स्तर बहुत कम हो सकता है।

गर्भावस्था

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

गर्भावस्था में यारो के उपयोग से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे गर्भाशय के संकुचन में वृद्धि हो सकती है और गर्भपात हो सकता है।

यारो की अनुशंसित खुराक

  • यारो कैप्सूल – 1 कैप्सूल दिन में दो बार (या चिकित्सक के निर्देशानुसार) लें। स्वस्थ पाचन के लिए हल्का भोजन करने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

यारो का उपयोग कैसे करें

1. पाचन के लिए
मैं। यारो के कुछ ताजे पत्ते लें।
ii. इन्हें रात भर पानी में भिगो दें।
iii. भोजन से पहले नियमित रूप से इस जलसेक का सेवन करें।

2. अतिसार के लिए
a. यारो कैप्सूल
i. 1 कैप्सूल दिन में दो बार या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें।
ii. दस्त के लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए हल्का भोजन करने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

3. बुखार के लिए
मैं। यारो का सूखा फूल 3-5 ग्राम लें।
ii. 2 कप उबलता पानी डालें।
iii. इसे ३० मिनट के लिए या पानी एक चौथाई रहने तक ढककर रख दें।
iv. बुखार के लक्षणों से छुटकारा पाने के लिए तनाव और इस यारो चाय को दिन में दो बार (या चिकित्सक के निर्देशानुसार) लें।

यारो के लाभ

मसूड़ों की सूजन के लिए यारो के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हालांकि मसूड़े की सूजन में यारो की भूमिका का समर्थन करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। एक निश्चित अध्ययन में कहा गया है कि यारो घास का पानी अपने जीवाणुरोधी और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण मसूड़े की सूजन को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।

गरारे करने के लिए यारो के पानी का उपयोग करने के लिए टिप्स
a. मुट्ठी भर ताजे/सूखे यारो के फूलों और पत्तियों पर उबलता पानी डालें।
बी छानने से पहले इसे 15 से 20 मिनट तक खड़े रहने दें।
सी। इससे गरारे करने से पहले पानी को ठंडा होने दें।
डी इस यारो के पानी से दिन में एक या दो बार गरारे करने से मसूड़े की सूजन के लक्षणों से राहत मिलती है।

हे फीवर के लिए यारो के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो अपने विरोधी भड़काऊ गुण के कारण हे फीवर से संबंधित लक्षणों के प्रबंधन में मदद कर सकता है। यह एलर्जी प्रतिक्रिया को उत्तेजित करने के लिए जिम्मेदार सूजन के मध्यस्थों को रोकता है। यारो के ताजे फूलों की सुगंध को उबलते पानी में मिलाने से वायु मार्ग से बलगम के स्राव और निष्कासन को बढ़ावा मिलता है, क्योंकि इसमें एक्सपेक्टोरेंट होता है।

सामान्य सर्दी के लक्षणों के लिए यारो के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो एसेंशियल ऑयल, जब चेस्ट रब के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, तो आम सर्दी के लक्षणों को रोका जा सकता है। यह अपने एंटीकैटरल गुणों के कारण श्वसन मार्ग से बलगम को घोलने और निकालने में मदद करता है। इसमें एक डायफोरेटिक गुण भी होता है जो पसीने को प्रेरित करता है और सामान्य सर्दी के लक्षणों को कम करता है।

सर्दी-जुकाम में यारो के तेल के इस्तेमाल के टिप्स।
ए। यारो तेल की कुछ बूँदें (अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
बी इसे यूकेलिप्टस या पेपरमिंट ऑयल के साथ मिलाएं।
सी। इस मिश्रण को छाती पर लगाकर मलने से जमाव की स्थिति में आराम मिलता है।

दांत दर्द के लिए यारो के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो की ताजी पत्तियों को चबाने से इसके एनाल्जेसिक और विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण दांत दर्द का प्रबंधन करने में मदद मिल सकती है। यह प्रभावित क्षेत्र में दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है।

दांत दर्द में यारो का उपयोग करने के लिए टिप्स
a. यारो के कुछ ताजे पत्ते लें।
बी दांत दर्द में जल्दी आराम पाने के लिए इन्हें दिन में एक या दो बार चबाएं।

घाव भरने के लिए यारो के क्या लाभ हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

कुछ घटकों यानी टैनिन की उपस्थिति के कारण यारो घाव भरने में मदद कर सकता है। वे घाव के संकुचन को बढ़ावा देते हैं और कोलेजन संश्लेषण को उत्तेजित करते हैं। यह घाव को जल्दी भरने में मदद करता है।

घाव भरने में यारो के पत्तों का उपयोग करने के टिप्स
a. यारो के कुछ ताजे पत्ते लें।
बी इन्हें साफ करने के लिए अच्छे से धो लें।
सी। इन साफ ​​पत्तों को प्रभावित जगह पर लपेटने से आराम मिलता है।

यारो कितना प्रभावी है?

अपर्याप्त सबूत

सामान्य सर्दी के लक्षण, हे फीवर, मसूड़ों की सूजन, दांत दर्द, घाव भरना

यारो उपयोग करते हुए सावधानियां

एलर्जी

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाइपरसेंसिटिव त्वचा या सेंट जॉन पौधा जैसी कुछ जड़ी-बूटियों से एलर्जी वाले लोगों में यारो के उपयोग से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे एलर्जी हो सकती है।

दुष्प्रभाव

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

1. संपर्क जिल्द की सूजन
2. त्वचा में जलन
3. प्रकाश संवेदनशीलता।

यारो का उपयोग कैसे करें

1. जोड़ों के दर्द और सूजन के लिए
a. यारो तेल की कुछ बूँदें (या अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
बी इसे जैतून के तेल के साथ मिलाएं।
सी। जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए इसे प्रभावित जगह पर लगाएं या मालिश करें।

2. खांसी, जुकाम या इन्फ्लुएंजा के लिए
a. यारो तेल की कुछ बूँदें (या अपनी आवश्यकता के अनुसार) लें।
बी इसे यूकेलिप्टस या पेपरमिंट ऑयल के साथ मिलाएं।
सी। इस मिश्रण को छाती पर लगाकर मलने से जमाव की स्थिति में आराम मिलता है।

3. कट, खरोंच या घाव के लिए
a. यारो के कुछ ताजे पत्ते लें।
बी इन्हें साफ करने के लिए अच्छे से धो लें।
सी। इन साफ ​​पत्तों को प्रभावित जगह पर लपेटने से आराम मिलता है।

4. मसूड़े की सूजन के लिए
a. मुट्ठी भर ताजे/सूखे यारो के फूलों और पत्तियों पर उबलता पानी डालें।
बी छानने से पहले इसे 15 से 20 मिनट तक खड़े रहने दें।
सी। इससे गरारे करने से पहले पानी को ठंडा होने दें।
डी इस यारो के पानी से दिन में एक या दो बार गरारे करने से मसूड़े की सूजन के लक्षणों से राहत मिलती है।

5. दंत समस्याओं के लिए
a. यारो के कुछ ताजे पत्ते लें।
बी दांत दर्द में जल्दी आराम पाने के लिए इन्हें दिन में एक या दो बार चबाएं

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. यारो खाने योग्य है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, यारो के पत्ते खाने योग्य होते हैं। यारो के पत्तों का सेवन कच्चे या पके हुए रूप में किया जा सकता है।

Q. क्या आप यारो धूम्रपान कर सकते हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, यारो को तंबाकू के विकल्प के रूप में धूम्रपान किया जा सकता है और कभी-कभी धूम्रपान छोड़ने में मदद मिल सकती है।

Q. मधुमेह में यारो उपयोगी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हाँ, यारो अपने एंटीऑक्सीडेंट और सूजन-रोधी गुणों के कारण मधुमेह के प्रबंधन में मदद कर सकता है। यह कार्बोहाइड्रेट के टूटने को कम करता है और अग्नाशयी कोशिकाओं के नुकसान को रोकता है। यह इंसुलिन स्राव को बढ़ाता है और इस प्रकार रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है।

Q. क्या गैस्ट्राइटिस में यारो का इस्तेमाल किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, यारो अपने गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव गुण के कारण गैस्ट्राइटिस में मददगार है। यह गैस्ट्रिक म्यूकोसा को गैस्ट्रिक एसिड से बचाता है और इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण के कारण सूजन को कम करता है।

Q. क्या हाई ब्लड प्रेशर में यारो का इस्तेमाल किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, कुछ ऐसे घटकों की उपस्थिति के कारण उच्च रक्तचाप को प्रबंधित करने के लिए यारो का उपयोग किया जा सकता है जिनमें कैल्शियम श्रृंखला अवरुद्ध करने वाला गुण होता है। यह रक्त वाहिकाओं में कैल्शियम की गति को धीमा कर देता है और उन्हें चौड़ा कर देता है। यह हृदय को आसानी से रक्त पंप करने में भी मदद करता है और इस प्रकार रक्तचाप को नियंत्रित करता है।

Q. यारो चाय कैसे बनाएं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

यारो की पत्तियों और फूलों से चाय बनाई जा सकती है। आप 1 से 2 चम्मच (5 से 10 ग्राम) सूखे यारो पाउडर को 5 से 10 मिनट के लिए उबलते पानी में डाल सकते हैं। मिश्रण को एक कप में छान लें और सेहतमंद चाय का आनंद लें।

Q. क्या यारो भूख कम करने में मदद कर सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

यारो में मौजूद कुछ घटक हल्के गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल गड़बड़ी, अपच और भूख न लगना जैसी स्थितियों में मदद कर सकते हैं।

Q. क्या त्वचा की सूजन में यारो फायदेमंद है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

जी हां, अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण के कारण त्वचा की सूजन के लिए यारो फायदेमंद है। यह सिट्ज़ बाथ या सेक के रूप में उपयोग किए जाने पर त्वचा की सूजन से जुड़े दर्द और सूजन को कम करता है।

Q. क्या त्वचा के संक्रमण को प्रबंधित करने के लिए यारो का उपयोग किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, यारो अपने जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी गुणों के कारण त्वचा के संक्रमण को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। यह सिट्ज़ बाथ के रूप में उपयोग किए जाने पर संक्रमण के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया और रोगाणुओं से लड़ता है।

Q. क्या यारो एक्जिमा में उपयोगी है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, एक्जिमा में यारो का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह अपने विरोधी भड़काऊ और उपचार गुणों के कारण त्वचा पर सूजन और खुजली को कम करने में मदद करता है। प्रभावित क्षेत्र को यारो के फूलों से तैयार किए गए जलसेक से धोने से एक्जिमा के प्रबंधन में मदद मिलती है।

Q. क्या नाक से खून बहने पर यारो का इस्तेमाल किया जा सकता है?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

हां, अपने कसैले गुण के कारण नाक से खून बहने को प्रबंधित करने के लिए यारो का उपयोग किया जा सकता है। कसैले त्वचा को कसने और रक्त की आपूर्ति को कम करने में मदद करते हैं। यारो की पत्ती को नासिका छिद्रों में डालने से थक्के जमने लगते हैं और रक्तस्राव बंद हो जाता है।

Q. यारो के पत्तों के क्या फायदे हैं?

आधुनिक विज्ञान के नजरिये से

फेफड़ों में जमाव को कम करने के लिए यारो के पत्तों को धूम्रपान किया जा सकता है। यह वायु मार्ग में रुकावटों को दूर करता है और सांस लेने में आसानी में मदद करता है। यारो के पत्तों को पाइप में डालकर पीने से भी दांत दर्द में राहत मिलती है।

प्र. उपचार के लिए आप यारो का उपयोग कैसे करते हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

आप दिन में एक या दो बार जल्दी ठीक होने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर यारो के तेल का उपयोग कर सकते हैं।

Q. आप बालों पर यारो का इस्तेमाल कैसे करते हैं?

आयुर्वेदिक नजरिये से

यारो खोपड़ी को साफ करने और बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए एक प्रभावी उपाय है। इसका कसैला प्रभाव खोपड़ी से अत्यधिक तेल को हटाने में मदद करता है जो बालों के रोम के विकास को बढ़ावा देता है। यारो इन्फ्यूज्ड शैम्पू या यारो ऑयल का उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका। बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए उनमें से किसी को भी सप्ताह में एक या दो बार स्कैल्प पर लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses cookies to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies.